रविवार, 11 अक्तूबर 2009

तेल देखिये और तेल की धार से दाढी बनाईये!



                                                        किसिम किसिम के ओलिव फल 
जी हाँ तेल देखिये और तेल की धार से दाढी बनाईये ! आहिस्ता आहिस्ता ! भारत में ओलिव आयल तेजी से मशहूर हो रहा है ! यह मूलतः एक खाद्य तेल है -कहते हैं बहुत फायदेमंद है ! और तो और  आप इससे दाढी भी  बना सकते हैं ! ये दावा भी देखा तो  मैंने भी सोचा क्यों न ट्राई मारा ही जाय -दाढी तो बन गयी मगर बात कुछ जमी नहीं -मतलब मजा नहीं आया सटाक सटाक वाला ! कुछ कुछ तो मुझे चिकनाई से चिढ सी है -चिकनी चुपडी बातों और चिकने लोगों से भी .जाहिर है ओलिव आयल की चिकनाई रास नहीं आई -इसमें वह ओल्ड स्पाईस वाला फ्रेगरेंस और मर्दानगी -अहसास कहाँ ! मगर फिर भी  चाहें तो आप भी एक बार ट्राई मार लें ! हाँ अपनी त्वचा की देखभाल के लिए स्वभावतः सतर्क  महिला ब्लागर मित्रों  के लिए इसकी भरपूर सिफारिश करता हूँ -वे इसे इस्तेमाल करने के पहले यह छोटा सा वीडियो देख भर लें

ओलिव आयल में मोनो और पाली अनसचुरेटेड वसा अम्ल प्रचुर मात्रा में होते हैं इसलिए दुनिया भर में इसकी चाहत बढ़ रही है

भारत में भी कुछ उद्योगपतियों ने इसका भारी आयात शुरू कर दिया है -एक नेट्वर्किंग बहुराष्ट्रीय कम्पनी एमवे ने इसे यहाँ लांच किया है -४०० रूपये के एक लीटर के साथ २५० ग्राम की शीशी मुफ्त ! मगर यह ओलिव पोमेस आयल है -बिलकुल शुद्ध आलिव आयल नहीं ! ओलिव आयल के कई प्रकार होते हैं -एक्स्ट्रा विरिजिन ,विरिजिन ,फाईन  विरिजिन,सेमी विरिजिन  और यह विरिजिनिटी यानी शुद्धता उनकी कमतर अम्लीयता पर निर्भर है -प्रीमिंयम् एक्स्ट्रा विरिजिन ओलिव  आयल अपने कुदरती रूप में होता है और इसकी अम्लीयता बहुत कम (०.२२५%) होती है ! यह सलाद में डाल कर सीधे खाया जाता है ! दरअसल यह जब पहली बार ओलिव फल से निचोडा (प्रेस ) कर निकाला जाता है -यह अपने शुद्धतम रूप में होता है -फिर दूसरी बार इसकी बिनौली को दबा कर जो तेल निकलता है वह सेमी विरिजिन या पोमेस आयल होता है और इसमें कुछ साल्वेंट मिलाया जाता है !.इसे प्रायः खाने वाले रिफाइंड आयल के साथ मिला कर खाने के लिए इस्तेमाल करते हैं !

आलिव आयल में ओलिक अम्ल   की मात्रा ज्यादा होती है फिर लिनोलेयिक अम्ल और लिनोलेनिक अम्ल मिलता है जो दिल की बीमारियों के लिए ठीक है -क्योंकि इनमें रक्त की धमनियों में खून के जमने से रोकने वाला पदार्थ ओमेगा 6 होता है ! आप चाहें तो इसका इस्तेमाल कर सकते हैं -तेल की धार खुद देख सकते हैं और इसकी धार से दाढी भी सफाचट कर सकते हैं १ हो सकता है यह आपको  भा ही जाय ! या इस तेल को आप ही भा जायं   ! तो ले ही लीजीये एक ट्रायल पैक ,मगर भाव ताव समझ के ,हाँ !
खान पान और जीवन शैली

35 टिप्‍पणियां:

  1. जी हाँ सही कहा यह तेल बहुत हल्का लगता है इस्तेमाल करते हैं अक्सर इसी को शुक्रिया इस जानकारी के लिए

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  2. डाक्साब लोगों ने कुछ दिनों तक कच्ची घानी सरसो तेल को जाति बाहर कर दिया था - इलजाम था कि दिल के लिए बहुत खराब होता है। ..अब वही लोग बेशर्म होकर उसे खाने के लिए कह रहे हैं - दिल के लिए अच्छा होता है। :(
    जाने क्यों मुझे तो इन सबमें षड़यंत्र नजर आता है। ओलिव ऑयल का प्रचार भी योरप के मार्केटिंग का कमाल है। महिलाओं का सौन्दर्यवर्धक यह है कि नहीं, यह तो नहीं पता लेकिन अनुमान कर रहा हूँ कि जब यह मॉर्केट कैप्चर कर लेगा तो किसी दिन खबर आएगी कि अरे, झूठे इतना पैसा गँवाए। सरसो का तेल उससे अधिक गुणकारी है।
    ___
    आप खाइए दिस वे, दैट वे या एम वे। हम तो भाई सरसो/सूरजमुखी के तेल में ही तड़का देंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  3. जैतून का तेल कहें तो कोई खरीदे ही नहीं। दो सौ ग्राम सुबह सुबह पी लेवे तो पित्ताशय (गॉल ब्लेडर) को उसे पचाने में इतना इतना जोर लगाना पड़े कि पित्त तो पित्त भीतर जितने पथरी के टुकड़े बने पड़े हों वे भी आँत में आकर बाहर निकल जायँ। यही काम अरण्डी का तेल भी करै। मामा बैद्जी कहा करैं कि आध पाव अरण्डी का तेल सुबह सुबह दूध में डाल के पी लेव। सारा पेट का कचरा निकल कै बढि़या चिकनाई हो जाय। चार-छै बार दस्त जरूर जानो पड़ै। और जो फिर भी दस्त ना आवैं, अरण्डी को तेल पच जावे तो बदन कंचन सो बन जावै।

    अब जै नुस्खे चालीस बरस पहिलै हमने जाने, पर भाई कोई इनकूँ बिना किसी बैद या डाक्टर से पूछै बगैर ना कर लैवें, वरना हमरी कोई गारंटी ना हैगी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैंने इस आलेख में भी आपकी लेखनी की रोचकता देखी । सच कहूँ तो मुझे इस विषय-वस्तु से कोई लेना-देना नहीं था । मुझे तो देखनी थी केवल धार । आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हमें तो फल्ली से बघारी सब्जी और सरसों के तेल वाला अचार, जो बचपन में हम खाते थे, का स्वाद आज भी याद है। अब तो सिर्फ edible oil की ही बाजार में भरमार है। मजबूरी में वही खाना पड़ता है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. Olive Oil-
    -Yahan grocery store mein bahut common bikta/dikhta hai-
    Lekin mera fav..aur Medical research mein bhi heart ke liye BEST cooking oil-
    Pure Canola Oil hai[popular brand name-Heart lite[mfd-Canada]
    Olive oil ke bare mein--
    1-For cooking-Adhik taapmaan[heating] is ke guno ko nasht kar deta hai.

    2-Olive oil ka poora fayda lena ho to upar se dalen..garam na karen.
    3-Sunflower oil hair oil ke liye badhiya non-sticking oil hai :D ..try...Hair and care etc..mein yahi use hota hai...
    Olive oil ...hair mein na lagayen.

    4-Olive oil is very good for Skin..Daily massage karen is oil se..dry skin ke liye bahut hi achchha hai..Kyonki Vitamin E prachur matra mein hota hai.
    Video nahin dekhi...

    -Olive khane mein to tasty hote hi hain..olive pickle bhi..
    black olive Pizza mein mostly dale jate hain.

    Waise hamare indian mustard oil aur coconut oil ... spain ke Olive oil se better hain.

    उत्तर देंहटाएं
  7. अब तो मिश्र जी आपने बताया तो देखना ही पड़ेगा . धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  8. अभी तक तो प्रयोग मे नही लाया हु , आप्की लेखनी की धार अच्छी है

    उत्तर देंहटाएं
  9. आप ने बहुत अच्छी तरह से इस तेल के बारे बताया, लेकिन सरसॊ का असली तेल भी इस से अच्छा होता है, हमारे यहां पहले सरसॊ का तेल नही मिलता था,( सिर्फ़ भारतीया स्टोर पर ओर बहुत मंहगा ओर मिलावटी मिलता था) लेकिन पिछले साल से यहां आम दुकानो पर मिलने लगा है, ओर अभी सरसॊ का तेल जैतून के तेल से मंहगा है, ओर यहां ड्रा० इन दोनो ही तेलो को अच्छा बताते है.
    जेतून का तेल वेसे तो बहुत अच्छा है, लेकिन अगर दवा के तॊर पर लेना हो तो कोहळू का निकला हुआ ही खरीदे.
    लेकिन शेव कभी नही की:) यह आज आप के लेख से पता चला धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. @हाँ दिनेश जी जैतून का तेल ही है यह तो ....
    @अल्पना जी ,
    आपने पोस्ट को सम्पूर्णता प्रदान की बहुत आभार !
    वीडियो के शुरू में विटामिन ई की बात आ गयी है .

    उत्तर देंहटाएं
  11. इधर कुछ दिनों से ऑलिव ऑयल खाने में इस्तेमाल की सोच रही थी. आप की रोचक पोस्ट ने इस सोच को बल दिया. धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  12. हां जी मिश्रा जी ..देखो जी ओलिव आयल के गुणों का गान तो काफ़ी पुराना है. और हृदय रोगो से बचाव में इसका सहायक होना इस रुप मे प्रचारित किया गया कि यह कोरोनरी आर्टरी डिजिज को रोकने मे सहायक है. चूंकी इटली का मुख्य खाद्य तेल जैतून का तेल ही है और वहां के लोगों मे हार्ट डिजीज कम होने का श्रेय इसे ही दिया जाता रहा है.

    लेकिन यह खाद्य तेलों का फ़ंडा या तो कंपनियों द्वारा प्रायोजित है या समय समय मेनेज किया जाता है. चूंकी मैं इस विषय में हृदय रोगी होने के नाते काफ़ी सजग रहा हूं.. और एस्कार्ट्स होस्पिटल की डायटिशियन के सुझाव मुताबिक बहुत ही सख्त खान पान के नियमों का पालन करता आया हूं.

    डाक्टरों ने १९८८ के करीब करडी आयल (सफ़ोला ब्रांड) खाने का रिकमण्ड किया..लेकिन मैं बताऊं कि इसके बावजूद लिपिड प्रोफ़ाईल्स मे कुछ सुधार नही हुआ.

    १९९२ में वहीं के डाक्टर्स ने सन्फ़्लोवर (सुरजमुखी का तेल ब्रांड - सनफ़्लावर) का प्रयोग करने की हिदायत दी. इस तेल के प्रयोग से एक साल से आश्चर्यजनक रुप से लिपिड प्रोफ़ाइल्स मे सुधार हुआ. और तब से मुख्य कुकिंग आयल हमारे परिवार का वही है.

    लेकिन पिछले दो तीन सालों मे खाद्य आयल रोटेट करके या मिक्स करके खाने का सुझाव आया है. और इस विषय मे डाक्तर त्रेहान भी इस की प्रसंशा करते हैं.

    तो पिछले दस महिने से हमने तिल, मुंगफ़ली, सोयाबीन, कार्न. सरसों के तेलों को मिलाकर खाना शुरु किया है. अब इसका निजी अनुभव तो आज मैं नही बता सकता.

    वैसे राज भाटिया जी से फ़ोन पर बात चीत मे उन्होने आलिव आयल खाने का सुझाव दिया था सो बिग बाजर से एक लीटर वर्जिनायल बुलवाया था...स्वाद जम नही रहा..अलबता सलाद पर भी ट्राई किया..पर मजा नही आया.

    मूडी पर झाल के साथ सरसों का तेल टपका कर जो स्वाद आता है वो इनमे कहां आयेगा?:) कहां देशी और कहां विदेशी. देशी फ़ण्डा बिल्कुल सही है जी.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  13. @ताऊ यह अनुभूत ज्ञान देकर आपने हम सब का भला किया है -कौन कहता है ब्लागिंग बे -फालतू चीज है ?
    जीवन दायनी है यह तो !

    उत्तर देंहटाएं
  14. ाभी तक तो बच्चों की मालिश ही किया करते थे इस से। अब खा कर भी देख लेंगे। महिला ब्लागर्ज़ की सेहत का ख्याल रखने के लिये धन्यवाद्

    उत्तर देंहटाएं
  15. तेल के मूल्य पर भी प्रकाश डालें
    क्योंकि कामन मैन(कैटिल क्लास)के बस का तो खरीदना भी नही है
    खाने को तो तेल जुरता नही दाढी कहां से बनायें

    उत्तर देंहटाएं
  16. @मनुष्य को इस विचार का होना चाहिए आनंद !
    मति अति नीच उंच रूचि आच्छी , चहिय अमिय जग जुरई न छाछी
    रुचियाँ ऊंचीं हों /अभिलाषा तो अमृत की ही हो भले ही फिलहाल ही मट्ठा मिल पाए ! मगर कब तक अमृत दूर रहेगा ? ?

    उत्तर देंहटाएं
  17. अरे भईया !
    मैं तो ज्ञानदत्त जी की बातों की भी पैरोकारी से नहीं चूकूंगा ।
    देसी जो ठहरा ।
    आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. 400 rupiye main milne wala ye SHAVING GEL Behterin ahi ...
    hahahaha...
    Par MUZEEEE MAAF KARO !!

    Olive oil ke baare main technical jaankari wo bhi itni behteri tarike se....
    ..samvaad accha tha !!
    ...samvad hi kahoonga ise.

    उत्तर देंहटाएं
  19. दिनेश जी की टिपण्णी को सौ नंबर..

    उत्तर देंहटाएं
  20. @इसमें वह ओल्ड स्पाईस वाला फ्रेगरेंस और मर्दानगी -अहसास कहाँ...

    कहना क्या चाहते हैं...थोड़ा शक़ हो रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  21. अच्छा तो यह जैतून का तेल है ..यह तो बढ़्या चीज है । द्विवेदी जी ,अरण्डी का तेल दूध मे मिलाकर पीने का अवसर बचपन मे पिताश्री के सौजन्य से 3-4 बार मिला है ..अब उसकी दास्तान क्या सुनाये ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बच्चों की मालिश के लिए इसी तेल का इस्तेमाल करते रहे... तेल देखा और तेल की धार भी...जानकारीवर्धक पोस्ट..
    आभार ...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. रोचक जानकारी है। पर असली जानकारी तो इसे खाने से ही मिलेगी।
    ह ह हा।

    उत्तर देंहटाएं
  24. :-)...नहीं ट्राइ तो नहीं करेंगे, लेकिन पोस्ट और टिप्पणियां रोचक हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  25. भाई हमारे दुबई में तो इसका प्रचुर मात्रा में उपयोग होता है ......... अधिकतर अरब के लोग ओलिव आएल का ही इस्तेमाल करते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  26. आपको और आपके पूरे परिवार को दीपावली की मंगल कामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  27. सुख, समृद्धि और शान्ति का आगमन हो
    जीवन प्रकाश से आलोकित हो !

    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाए
    ★☆★☆★☆★☆★☆★☆★☆★


    *************************************
    प्रत्येक सोमवार सुबह 9.00 बजे शामिल
    होईये ठहाका एक्सप्रेस में |
    प्रत्येक बुधवार सुबह 9.00 बजे बनिए
    चैम्पियन C.M. Quiz में |
    प्रत्येक शुक्रवार सुबह 9.00 बजे पढिये
    साहित्यिक उत्कृष्ट रचनाएं
    *************************************
    क्रियेटिव मंच

    उत्तर देंहटाएं
  28. अप्प दीपो भव!
    इस साल ओबामा ने दीपावली मनाई, आगे से हर देश प्रकाश पर्व मनाए.

    हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव