शनिवार, 26 सितंबर 2015

भ्रष्टाचार के देवता:एक आईएएस का सेवाकाल संस्मरण

दावात्याग: प्रस्तुत पोस्ट 'गॉड्स आफ करप्शन' पुस्तक की संक्षिप्त  समीक्षा मात्र  है और  इसमें व्यक्त विचार लेखिका के हैं, उनसे मेरी सहमति का कोई प्रत्यक्ष या  परोक्ष आग्रह  नहीं है।  

मैंने जब १९७६ बैच की सीधी भर्ती किन्तु अब सेवानिवृत्त आईएएस आफीसर श्रीमती प्रोमिला शंकर की संस्मरणात्मक पुस्तक गॉड्स आफ करप्शन की चर्चा सुनी तो उसे पढने की तत्काल इच्छा हो आयी  और आनन फानन फ्लिपकार्ट से यह पुस्तक  मंगा भी ली गई। इस तत्परता के पीछे दो महत्वपूर्ण कारण थे -एक तो मैं जब श्रीमती प्रोमिला शंकर जी  झांसी में 1987 में  ज्वाइंट डेवेलपमेंट कमिश्नर थी,और उनके  पति श्री पी उमाशंकर आईएएस वहीं के जिला मजिस्ट्रेट थे ,मैं एक मातहत अधिकारी था। 

मैं पी उमाशंकर जी का सीधा मातहत था और मुझे  कहने में सदैव फ़ख्र रहता है कि वे मेरे अब तक के सेवाकाल के बहुत अच्छे जिलाधिकारियों में से  एक रहे. तमिलनाडु राज्य का  होने  के नाते  हिन्दी के नए नए शब्दों को सीखने की उनकी उत्कंठा ने मुझे उनके करीब होने का सौभाग्य दिया।वे सदैव विनम्र और प्रसन्नचित्त रहते. उन्होंने मुझ पर बहुत भरोसा किया और जनहित में कुछ अत्यंत गोपनीय कार्य भी मुझे सौंपे. आगे चलकर प्रोमिला जी हमारी यानि मत्स्य विभाग की प्रमुख सचिव  भी रहीं  (वर्ष,२०००) इसलिए पुस्तक  को पढने के लिए मैं और भी प्रेरित हुआ।  

 इस पुस्तक को यथाशीघ्र पढने की उत्कंठा का दूसरा कारण यह भी रहा कि एक जनसेवक के रूप में संभवतः मुझे कोई महत्वपूर्ण मार्गदर्शन इसके पढने से मिल सके।  पुस्तक इतनी रोचक है कि एक सांस  में ही खत्म हो गयी मगर मन  तिक्तता से  भर उठा । यह पुस्तक शासकीय व्यवस्था के घिनौने चेहरे को अनावृत करती है -लेखिका ने पूरी प्रामाणिकता  और  वास्तविक नामोल्लेख के साथ अपने ३६ वर्षीय सेवाकाल के दौरान भ्रष्टाचार में लिप्त उच्च पदस्थ कई आईएएस अधिकारियों के कारनामों, उनके  पक्षपातपूर्ण व्यवहार, चाटुकारिता के साथ ही नेताओं और भ्रष्ट आईएएस के दुष्चक्रपूर्ण गंठजोड़, दुरभिसंधियों का उल्लेख किया है। 

इस अपसंस्कृति का साथ न देने के कारण और अपने मुखर  निर्णयों  के कारण श्रीमती शंकर को पग पग पर बाधाएं ,हतोत्साहन और अनेक ट्रांसफर झेलने पड़े।  महत्वहीन पदों पर पोस्टिंग दी जाती रही। सीधी भर्ती की आईएएस होने के बावजूद न तो इन्हे कभी डीएम बनाया गया और न ही कभी  कमिश्नर(मण्डलायुक्त) बन पाईं।  और तो और जब सेवाकाल के मात्र ६ माह शेष रह गए तो अचानक एक महत्वहीन से कारण को दिखाते हुए निलंबित कर दिया गया। 



भारत सरकार के द्वारा सेवानिवृत्ति के मात्र ६ दिन पहले बहाली मिली भी तो इन्हे तत्कालीन पोस्ट से तुरंत हटाकर लखनऊ ट्रांसफर कर दिया गया।  गनीमत रही कि लोकसभा  निर्वाचन आरम्भ हो  गए थे और भारत निर्वाचन आयोग के हस्तक्षेप से श्रीमती शंकर को अपने सेवाकाल के आख़िरी पद ,कमिश्नर (एनसीआर) पर ही रहकर सेवानिवृत्ति मिल गयी,हालांकि इनके विरुद्ध जांच चलते रहने का आदेश भी पकड़ा दिया गया। प्रोमिला जी उस समय उत्तर प्रदेश की सबसे सीनियर आईएएस थीं.  

सूबे में नयी सरकार बन गयी और दुर्भावनापूर्ण लंबित जांच निरर्थक हो गयी। अपनी इस संस्मरणात्मक पुस्तक में लेखिका ने पूरी बेबाकी और निर्भयता से गुनहगारों  के नामों का उल्लेख किया है जिन्होंने अपने न्यस्त स्वार्थों के चलते एक ईमानदार अधिकारी को जनहित में काम न करने देने के लिए पूरे सेवाकाल हठात रोके रखा।  कालांतर में कुछ तो उनमें से जेल गए और एक कथित आततायी  असामयिक कालकवलित भी हो चुके।  पुस्तक का एक एक पन्ना आँखों को खोल देने वाला विवरण लेकर सामने आता है। 

शासकीय व्यवस्था में खुलेआम भ्रष्टाचार ,भाई भतीजावाद, पक्षपात ,जातिवाद और योग्यता के बजाय चापलूसों  की बढ़त का जिक्र है।  खुद लेखिका को उनकी स्पष्टवादिता और मुखरता के चलते अच्छी वार्षिक प्रविष्टियों के न मिलने से केंद्र सरकार में भी जाने का मौका नहीं मिल सका।  लेकिन  इस स्थिति को लेखिका ने  पहले ही भांप लिया था।  मगर उन्होंने भ्रष्ट तंत्र  के आगे घुटने नहीं टेके ,संघर्ष करती रहीं।  उन्हें यह  एक बेहतर ऑप्शन लगता था कि अच्छी वार्षिक प्रविष्टियों के लेने  के लिए अनिच्छा से जीहुजूरी के बजाय मानसिक शांति के साथ कर्तव्यों का निर्वहन करती चलें।

 न्यायपालिका के भी उनके अनुभव  बहुत खराब रहे।  एक  न्यायालय की अवमानना भी झेलनी पडी और उनके अनुसार एक फर्म को गलत भुगतान किये जाने को लेकर अपना पक्ष प्रस्तुत करते समय न्यायाधीश महोदय द्वारा कहा गया कि वे जेल जाना चाहती हैं या फर्म को भुगतान करेगीं? वे जड़वत हो गयीं।उनकी एक विभागीय देयता के औचित्य को  पहले तो न्यायालय ने स्वीकार कर उनके पक्ष में निर्णय दिया किन्तु तत्कालीन मुख्य सचिव की बिना उन्हें सूचित किये पैरवी किये जाने पर अपने निर्णय को बदल दिया।  

लेखिका प्रोमिला  जी ने भारत की सर्वोच्च सेवा के लिए चुने जाने वाले अभ्यर्थियों  में बुद्धि, अर्जित ज्ञान और अध्ययन के साथ ही उच्च नैतिक आदर्शों ,चारित्रिक विशेषताओं  के साथ ही दबावों के  आगे न झुकने वाले व्यक्तित्व पर बल दिया है। उन्होंने राष्ट्प्रेम को भी अनिवार्य  माना है और क्षद्म धर्मनिरपेक्षता से  आगाह किया है। एक जगह  वे लिखती हैं कि स्वाधीनता दिवस कहने के बजाय इस अवसर को राष्ट्रीय दिवस के रूप में मनाया जाना चाहिए।हमें गुलामी का बोध कराने वाले प्रतीकों से अब दूर हो जाना चाहिए। उन्होंने सारे भारत में शिक्षा का माध्यम अंगरेजी होने  की वकालत की है। जिससे भाषायी विभिन्नताओं को बल न मिलें और हम  वैश्विक स्तर पर तमाम चुनौतियों के लिए बेहतर तौर पर तैयार हो सकें. 

पुस्तक दो खंडो में है -एक में उनके द्वारा विभिन्न विभागों  में अपने कार्यकाल  के दौरान उठायी गयी समस्याओं/कठिनाइयों  का विवरण दिया गया है और दूसरे खंड में अपने कार्यकाल में जो सीखें मिलीं उनका जिक्र है।  २३२ पृष्ठ की संस्मरण पुस्तक का मूल्य रूपये ५९५ है और इसे दिल्ली के मानस पब्लिकेशन द्वारा प्रकाशित किया गया है।  इसे नेट पर आर्डर देकर मंगाया जा सकता है.   

शनिवार, 12 सितंबर 2015

विकास के आयाम : सपने और यथार्थ! (सोनभद्र संगोष्ठी )

सोनभद्र जिले का हेडक्वार्टर राबर्टसगंज अपनी कस्बाई सांस्कृतिक विरासत  के बावजूद मानवीय सृजनात्मकता और बौद्धिकता से ओत  प्रोत रहा है।  इन दिनों यहाँ एक बौद्धिक विमर्श के नए चलन का सूत्रपात हुआ है जिसके अंतर्गत प्रति माह किसी विषय पर चर्चा और विचार विनिमय होता है। विगत चर्चा उत्तर आधुनिकता और परामानववाद पर केंद्रित थी।  आज (१२ सितम्बर ,२०१५ )  कलमकार संघ द्वारा  आयोजित संगोष्ठी  का विषय था- विकास के आयाम : सपने और यथार्थ. इस विषय पर राबर्ट्सगंज के जाने माने बुद्धिजीवियों, विचारकों -लेखकों  ने अपने विचार व्यक्त किये.

श्री अजय सिंह जो यहाँ जिला आपूर्ति अधिकारी(डी एस ओ ) हैं ने विषय की प्रस्तावना की। उन्होंने जुमले की तरह इस्तेमाल हो रहे शब्द -विकास के कई निहितार्थों को उकेरा। आर्थात कैसा विकास ,किसका विकास, विकास की परिभाषा क्या हो?  उन्होंने विकास के हानि लाभ के पहलुओं को रेखांकित किया और कहा हमें यह देखना होगा कि कहीं ऐसा न हो कि हम विकास से  पाएं कम और गवाएं ज्यादा। मतलब कहीं लाभ हानि से कमतर होकर न रह जाए।  


श्री रामप्रसाद यादव ने संचालन  की जिम्मेदारी उठाई और संविधान के मूल उद्येश्यों के तहत विकास के लक्ष्य को सामने रखा।  उन्होंने कहा कि हमें बहुमंजिली इमारतों , ऊंची चिमनियों, हाईवेज ,मेट्रो , स्मार्ट सिटी और बिना  पानी के सूखते खेतों ,बेरोजगारी , अशिक्षा ,भुखमरी और कुपोषण आदि मानवीय विभीषिकाओं के  विरोधाभास  के मध्य विकास का सही मार्ग तय करना होगा। दीपक केसरवानी  ने चर्चा को आगे बढ़ाते हुए औद्योगीकरण से उपजते सकंटों  और सोनभद्र के रिहंद जलाशय से उत्पन्न विस्थापन और प्रदूषण की त्रासदी की ओर ध्यान दिलाया।  

 प्रखर चिंतक विचारक रामनाथ शिवेंद्र के  बीज वक्तव्य में उनकी कई चिंताएं अभिव्यक्त हुईं। उनके अनुसार पश्चिम का अन्धानुकरण करना हमारी विवशता है. सपनों और यथार्थ में बड़ी दूरी है।  और वाह्य आक्रमणों से अधिक खतरा भीतर से है।  उन्होंने आह्वान किया कि हमें अपने विकास के मानक तय करने होंगें।  हर खेत को पानी हर हाथ को काम। क्म लागत से अधिक उत्पादन।  विकास की धारा में मानवीय संवेदनाएं तिरोहित न हों। 
राजनीतिक चिंतक और विचारक अजय शेखर ने विकास के मानकों के पुनर्निर्धारण की जरुरत बतायी। उन्होंने कहा कि हमने विकास के मॉडल में सांस्कृतिक मानकों को नहीं लिया।  मनुष्य विकास के केंद्र में है तो फिर मनुष्यता के अवयवों को भी विकास के मॉडल में समाहित होने चाहिए।  विकास के मौजूदा स्वरुप में कमियां उभर कर दिख रहीं है -आज विकास भ्रष्टाचार को बढ़ावा दे रहा है।  हेराफेरी ,चोरी, लूट  और व्यभिचार विकास के आनुषंगिक पहलू बन गए हैं -क्या यही विकास हमें चाहिए? उन्होंने तेजी से नष्ट हो रहे पर्यावरण का उल्लेख किया।  वनौषधियों के विलोपन का हवाला दिया।  ऐसा विकलांग विकास भला कैसे स्वीकार्य होगा? 


अमरनाथ अजेय ने अंग्रेजों की कुटिल नीतियों -फूट डालो राज्य करो से आरम्भ हुए अलगाव ,बिखराव की  स्थितियों को विकास का रोड़ा माना और स्पष्ट किया कि जब तक आर्थिक आधार पर सभी को स्वतन्त्रता नहीं मिलती सही अर्थों में विकास संभव नहीं है। शिक्षक ओमप्रकाश त्रिपाठी ने भारत में विकास के पंचवर्षीय अभियानों का जिक्र करते हुए औद्योगिक विकास के एक आपत्तिजनक पहलू को उजागर किया जिसमें हमारे सांस्कृतिक मूल्य तिरोहित होते गए हैं. एक बाहरी भौतिकता का आकर्षक आवरण है जिसके पीछे मनुष्य का निरंतर चारित्रिक ह्रास हो रहा है।  हमारा विकास पश्चिम का अंधानुकरण है।  हम प्रकृति से दूर होते जा रहे हैं।  हमें वस्तुतः अपने जीवन मूल्यों और अध्यात्म के साथ कदमताल करता विकास का मॉडल चाहिए। 

कवि जगदीश पंथी जी के सम्बोधन का सारभूत विकास की राह में वैयक्तिक और समूहगत टूटन, विखंडन और विश्वसनीयता के संकट से उपजते त्रासद स्थितियों का जिक्र रहा।  जब रक्षक ही भक्षक बन जाए तो फिर क्या कैसा विकास होगा? 

गीता के अनन्य प्रेमी प्रेमनाथ चौबे ने विकास मार्ग के कतिपय प्रतिरोधों की चर्चा की।  जहाँ अन्धविश्वास हो , छुआछूत और भूत प्रेत टोना का बोलबाला हो वहां विकास का भला कैसा स्वरुप फलित होगा? उनका मानना था कि विकास के लिए एक राष्ट्रीय सोच जरूरी है। जापान का उदाहरण देकर उन्होंने स्पष्ट किया कि विकास के लिए राष्ट्रीय सोच होना जरूरी है. यह भी दुहराया कि बिना समानता ,स्वतंत्रता और बंधुत्व के विकास का सही स्वरुप सामने नहीं आ पायेगा।बिखराव में कैसा विकास? उन्होंने विकास को स्थानीय आवश्यकताओं के अनुकूल और अनुरूप होने की शर्त रखी. उनके शब्दों में विकास अभी भी एक सपना है। 

भौतिकी के प्रोफ़ेसर रहे पारसनाथ मिश्र ने कहा कि दरअसल मनुष्य के जीवन के जो आयाम हैं वही विकास के भी आयाम हैं. कपडा रोटी और मकान की आधारभूत जरूरतें विकास के स्वरुप को नियत करती हैं।  भूख है तो अन्न चाहिए , अन्न उत्पादन होगा तो उसके संरक्षण और वितरण की श्रृंखला विकास के सोपानों को तय करेगी. वैसे ही हमारे लिए अनेक जरूरी उत्पाद वस्त्र ,आवास, शिक्षा, सुरक्षा और स्वास्थ्य विकास के पैमानों को तय करते हैं।  किन्तु आज जो विकास हो रहा है उसने जितना दिया उससे ज्यादा हमसे छीन  लिया है।  उन्होंने हल बैल से मंगल यात्रा तक के विकास में वैज्ञानिक दृष्टि की अपरिहार्यता पर विशेष बल दिया।  नित नए अनुसंधान की जरुरत बतायी।  उनकी चिंता यह भी रही कि आज हमारी निष्ठायें विभाजित हैं , आस्थाओं और आचरण  के अलग अलग पड़ाव हैं।  किन्तु हमें अपनी पहचान नहीं खोनी  है। विकास के किसी भी मॉडल में भारतीयता अक्षुण रहे.हम अनुकरणीय बने  न कि अनुकरणकर्ता। 

अपने तक़रीर में चन्द्रभान शर्मा बहुत आशावादी दिखे।  उनका कहना था कि हमारे मनीषियों ने विकास का जो प्लान तैयार किया  वह उचित है और आलोचना किया जाना उचित नहीं है।  हमारी अनेकता और विभिन्नताओं के बावजूद विकास होना दिख रहा है।  आज फटेहाल लोग कमतर हुए हैं।  सपने धरातल पर धीरे धीरे उत्तर तो रहे हैं। धैर्य रखना होगा।  

संगोष्ठी के अध्यक्ष शिवधारी शरण राय ने समस्त विचारों के निचोड़ के रूप में अपना अभिमत दिया कि विकास हो किन्तु विनाश की कीमत पर नहीं।  भारत सदैव मौलिक चिंतन का उद्गम रहा है ,वैज्ञानिक बर्नियर यहाँ  ज्ञान और परमार्थ की खोज में आया था।  हमारे कई शाश्वत मूल्य विकास के विभिन्न स्वरूपों में समाहित हों यही अभीष्ट है।  

संगोष्ठी आत्मीय माहौल में संपन्न हुई और प्रतिभागियों में  एक नए उत्तरदायित्व बोध का सबब बनी. यह पुरजोर मांग रही कि ऐसे समूह चिंतन और अभिव्यक्ति का सिलसिला चलता रहे।  आगामी संगोष्ठी की प्रतीक्षा सभी को है। 

 

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग संग्रह