बुधवार, 17 जुलाई 2013

क्या सुबह सुबह हनुमान चालीसा नहीं पढ़ना चाहिए?

अभी परसों ही दिल्ली प्रवासी बहन ज्योत्स्ना(ज्योति )  ने मुझे फोन कर एक अजब सवाल सामने रख दिया . पहले तो यह पूछा कि "प्रात नाम जो लेई हमारा ता दिन ताहि न मिलै अहारा" कहाँ का प्रसंग है .अब मैं मानस का कोई व्यास तो हूँ नहीं कि हर पंक्ति हर दोहा प्रसंग सहित मुझे याद रहे फिर भी सहज बोध से  बता दिया कि सुन्दरकाण्ड का होना चाहिए और हनुमान या अंगद द्वारा कहा होना चाहिए . मगर प्रसंग याद नहीं आ रहा था जबकि यह अर्धाली मुझे बचपन से याद थी ..लगता है उम्र प्रभावी होती जा रही है .संयोगवश मैं नेट पर था तो तुरत फुरत ढूंढ  लिया -यह प्रसंग लंका में प्रवेश करते ही विभीषण हनुमान संवाद का है . हनुमान एक अलग ढंग का घर देखते हैं जहाँ विभीषण का वास है -वे आश्चर्यचकित होते हैं कि राक्षसों के बीच यहाँ कौन से सज्जन का निवास हो सकता है -लंका निसिचर निकर निवासा। इहाँ कहाँ सज्जन कर बासा।।मन महुँ तरक करै कपि लागा। तेहीं समय बिभीषनु जागा।। फिर शुरू हुए विभीषण -हनुमान संवाद में आगे हनुमान द्वारा होता कही गयी उक्त अर्धाली भी मिल गयी जिसका अर्थ है जो प्रातः  बन्दर (का)  नाम ले लेता है उसे उस दिन भोजन नसीब नहीं होता . मैंने झट से ज्योत्स्ना को प्रसंग बता दिया -थैंक्स अंतर्जाल! ज्योत्स्ना ने कहा कि मैंने तो बहुत खोजा नहीं मिला तो मैंने संक्षिप्त उत्तर दिया कि यह बड़ा भाई होने का फर्क  है? मगर अब बड़े भाई की मुसीबत होने वाले थी ...ज्योत्स्ना का दूसरा प्रश्न असहज करने वाला था ..

सवाल था तो क्या सुबह हनुमान चालीसा नहीं पढना चाहिए ? अब मुझे पूरा प्रसंग देखना पड़ गया ..आप भी देखिये न… तामस तनु कछु साधन नाहीं। प्रीति न पद सरोज मन माहीं।।अब मोहि भा भरोस हनुमंता। बिनु हरिकृपा मिलहिं नहिं संता।।जौ रघुबीर अनुग्रह कीन्हा। तौ तुम्ह मोहि दरसु हठि दीन्हा।।सुनहु बिभीषन प्रभु कै रीती। करहिं सदा सेवक पर प्रीती।।कहहु कवन मैं परम कुलीना। कपि चंचल सबहीं बिधि हीना।।प्रात लेइ जो नाम हमारा। तेहि दिन ताहि न मिलै अहारा।। दोनों रामभक्तों में जान पहचान कुशल क्षेम के बाद यह संवाद हुआ . विभीषण ने कहा कि मैं तो जन्म से ही अभागा हूँ ...मेरा तो यह राक्षस का अधम शरीर ही है और मन में भी प्रभु के पद कमल के प्रति प्रीति नहीं उपजती, आज आप जैसे संत ह्रदय से भेंट हुयी है तो यह तो हरि की कृपा ही है . हनुमान को यह भान हुआ कि विभीषण में अपने राक्षस रूप को को लेकर हीन भावना है . तो उन्होंने खुद अपना उदाहरण देकर उन्हें वाक् चातुर्य से संतुष्ट किया -अब मैं ही कौन सा कुलीन हूँ विभीषण ? और एक बन्दर के रूप में मैं भी तो सब तरह से,तन मन से हीन ही हूँ ..और लोक श्रुति तो यह भी है कि अगर कोई सुबह हमारा नाम(बन्दर का नाम)  ले ले तो उसे दिन भर आहार नहीं मिलेगा!
यहाँ हनुमान की प्रत्युत्पन्न बुद्धि और वाक् चातुर्य स्पष्ट दीखती  है ....विभीषण को हीन भावना से उबारने के लिए उन्होंने खुद अपने बन्दर रूप का उदाहरण दिया और प्रकारांतर से यह कह गए कि तन मन योनि से कोई फर्क नहीं पड़ता अगर प्रभु राम की कृपा हो जाय .प्रभु कृपा से अधम भी पुण्यात्मा बन जाय -मेरा ही देखिये जो कुछ भी मैं हूँ वह प्रभु कृपा से ही हूँ नहीं तो एक बन्दर की क्या औकात थी? "अस मैं अधम सखा सुनु मोहू पर रघुबीर।कीन्ही कृपा सुमिरि गुन भरे बिलोचन नीर" ...
 प्रभु राम की कृपा जिस पर हो जाय ..अपावन कौए पर हो गयी तो वे महाज्ञानी पावन काकभुशुण्डी बन गए . और मधुर वचन भी बोलने लग गए ..."मधुर वचन बोलेउ तब कागा :-) ....तो सब कुछ प्रभु की कृपा पर ही निर्भर है . अब जिस पर प्रभु की कृपा हो तो उसका नाम तो हर वक्त लिया जा  सकता है .सुबह शाम ..वह तो प्रातः स्मरणीय है और उस पर हनुमान का नाम जो राम के सबसे बड़े भक्त है . ज्योत्स्ना शायद यह पोस्ट तुम्हे संतुष्ट कर सके ...... अन्य मित्रगण भी अपना मंतव्य व्यक्त करेगें तो मुझे अच्छा लगेगा ..जय श्रीराम! 

62 टिप्‍पणियां:

  1. बोल सियावर रामचंद्र की जै।
    मानस अनुक्रमणिका में रामचरित मानस की कोई भी सामग्री खोजने की व्यवस्था है।
    http://hindini.com/fursatiya/archives/442

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप पर प्रभु राम की कृपा है!

      हटाएं
    2. लिंक शेयर करने के लिये शुक्ल जी का विशेष आभार।

      हटाएं
    3. इस टिप्पणी को एक ब्लॉग व्यवस्थापक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
  2. मैं तो रोज़ रात को पढता हूँ ..

    प्रेत सुंदरी नज़र न आये ,
    जो सुमिरै हनुमत बलबीरा

    बड़े मनोरथ मन में आवें
    कोई कोई जीवन फल पावै

    संकट तै हनुमान छुडावै,
    कोई ब्लागरी पीछे पद जावे

    दूर रखें गुरु घंटालों को ,
    जपत निरंतर हनुमत बीरा

    ब्लॉग भूतनी निकट न आवै,
    महावीर जब नाम सुनावै

    तुम्हरो मंत्र हमऊ ने माना,
    ब्लॉगर नाम न कोऊ जाना

    अब कछु किरपा करउ हनुमाना,
    मिश्र सरीखा नाम कमाना

    - कट्टा कानपुरी असली वाले

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरे प्रभू ..
    कमेन्ट कहाँ गायब हो रहे हैं ..??

    उत्तर देंहटाएं
  4. हर प्राणी को बनाने वाले ईश्वर हैं .हर प्राणी में ईश्वर का वास है फिर किसी को अच्छा किसी को अपसकुन मानना, अल्पवुद्धि का परिचायक है-हनुमान -विभीषण संवाद का आपका विश्लेषण सही है.
    latest post सुख -दुःख

    उत्तर देंहटाएं
  5. बंदरों के सम्बन्ध में कही गयी कहावत का उल्लेख करते हुए हनुमान जी राम के सामने अपनी विनाम्रताजनित लघुता को प्रदर्शित करते हैं इन शब्दों से ...कि इतना महत्वहीन होने पर भी श्रीराम ने उन्हें कृपा प्रदान की ...प्रसिद्द प्रसंग है , आप कैसे भूले !!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. राम कृपा से वंचित स्मृतिलोप का शिकार हो चला हूँ ! :-)

      हटाएं
  6. मेरे लिए तो असमंजस की स्थिति नहीं है:) सुबह-सुबह सिर्फ शिव की वंदना कर पाता हूँ. हाँ कपीश को नमन ज़रूर करता हूँ.

    उत्तर देंहटाएं
  7. सुन्दर प्रस्तुति-
    हम तो रोज याद करते हैं -
    आहार ना मिले अच्छा है -
    वजन कम होगा-
    सादर-

    उत्तर देंहटाएं
  8. रोचक पोस्ट बन पड़ी है।

    सुबह-सबेरे कपि दिखे, बिल्ली काटे राह।
    मंजिल तक पहुचे वही, जिसके मन में चाह।।

    उत्तर देंहटाएं
  9. उनका नाम तो रोज़ ही लेते हैं सुबह सुबह ..... जय श्रीराम

    उत्तर देंहटाएं
  10. अब जिस पर प्रभु की कृपा हो तो उसका नाम तो हर वक्त लिया जा सकता है -- सहमत हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी यह रचना कल गुरुवार (18-07-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  12. जय बजरंग बलि की ... चौबिस घंटे लिया जाने वाला नाम है ये तो ... संकट तो कभी भी आ सकता है ... फिर संकट मोचन को काहे नहीं याद किया जा सकता किसी भी समय ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. रोचक विश्लेषण .... हनुमान जी की विनम्रता बहुत कुछ सिखाती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुबह अख़बार पढने से पहले हनुमान चालीसा ही पढना चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  15. विशलेष ठीक ही लग रहा है..वैसे भी घट घट में राम हैं..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. विशलेष ठीक ही लग रहा है-ठीक ही मतलब ? आपके पास कोई और तर्कसंगत व्याख्या तो साझा कीजिये न!

      हटाएं
  16. जय बजरंग बली जय श्री राम।

    उत्तर देंहटाएं
  17. हनुमान इतने विनम्र हैं, इसीलिये ऐसा कह रहे हैं। हम तो जीभर के हनुमान चालीसा पढ़े हैं और ढंग से खाना खाये हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. परंपरा में हनुमान और विभीषण दोनों ही प्रातः स्मरणीय हैं:
    अश्वत्थामा बलिर्व्यासों हनूमांश्च विभीषण: कृप: परशुरामश्च सप्तैते चिरजीविन:

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत अच्छी पोस्ट लगी। जिज्ञासु की शंका का समाधान तो आपने कर ही दिया था, हमें भी अच्छी पोस्ट पढ़ने को मिली।

    उत्तर देंहटाएं
  20. ये प्रश्न तो सुना हुआ है :)

    वैसे एक पुस्तक छपती है (शायद गीता प्रेस से) "मानस-शंका-समाधान". शायद उसमें भी ये प्रश्न हो.

    उत्तर देंहटाएं
  21. बढ़िया पोस्ट,इस बहाने कई लोगों के संदेह सूर हुए होंगे.
    वैसे मुझे तो रोज़ सुबह-सुबह हनुमान जी के दर्शन अवश्य होते हैं क्योंकि रसोई में ही विराजे हुए हैं लेकिन कभी ऐसा हुआ नहीं कि उनके दर्शन से दिन भर भूखा रहना पड़े.

    उत्तर देंहटाएं
  22. दो -तीन ब्लॉग हैं जो मेरी टिप्पणी को फटाफट स्पेम बॉक्स में डाल देते हैं..समझ नहीं आता कि ये चक्कर क्या है?उनमें से एक आप का टिप्पणी बॉक्स भी है जो हर बार मेरी टिप्पणी स्पेम में पहुंचा देता है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. गूगल बाबा सर्वज्ञाता हैं ,कुछ कारण तो होगा ही :p

      हटाएं
  23. आपने सही कथा सुनाकर मर्म को सुलझा दिया प्रणाम सियाबर रामलला की जय

    उत्तर देंहटाएं
  24. अब सुबह सुबह अगर कोई बन्दर को बुलाएगा तो आहार तो बन्दर खायेगा और हनुमान चालीसा को बाद में लिखा गया हैं हनुमान की स्तुति में सो उस समय तक हनुमान "इश्वरिये " ताकत पा चुके थे . " अष्ट सिद्धि नव निधि के दाता ! अस वर दीन्ह जानकी माता !! " अष्ट सिद्धि का वरदान माता सीता ने हनुमान जी को दिया था

    अब माँ सीता को याद करिये और नित हनुमान चालीसा पढिये . राम का अस्तित्व सिया राम से हैं

    उत्तर देंहटाएं
  25. भाई साहब यह इसी वक्त का गायन और यादगार है -हनुमान की पवित्रता (ब्रहचर्य ),सर्वर हैं एक शक्तिशाली हनुमान ,शिव के .हाँ भाई साहब भगवान का एक नाम राम भी है .दशरथ सुत राम नहीं निर्गुनिया राम (ज्योतिर्लिन्गम शिव ),वही सत - नाम भी है यह इसी वक्त का गायन हैं यह इ स घोर कलियुग में ही विभीषण जैसी पुण्य आत्माएं भी होतीं हैं सतयुग और त्रेता तो है ही स्वर्ग ,वहां न कोई विकार हैं न माया -रावण यह सब इसी संगम युग का यादगार है ब्रह्मा मुख वंशावली हम ब्रह्मणों का (भौतक ब्राहमण नहीं )ब्रह्मा मुख वंशावली ,ब्रह्मा और शिव बाबा के गोद लिए बच्चों का .

    बेहद की सुन्दर काल-जै प्रस्तुति है भाई साहब आपकी यह पोस्ट .आनंद सरोवर में डुबकी लगवादी .

    उत्तर देंहटाएं
  26. आज की बुलेटिन "काका" को पहली पुण्यतिथि पर नमन .... ब्लॉग बुलेटिन।। में आपकी पोस्ट (रचना) को भी शामिल किया गया। सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  27. arvind mishra जी आप तो डा० हे फ़िर ऎसी बातो पर विश्वास करते हे ?

    उत्तर देंहटाएं
  28. मन मे श्रद्धा हो तो कोई शंका नहीं व्यापती.

    उत्तर देंहटाएं
  29. हर हर महादेव....रामेश्वर नाम की व्याख्या ही अपने आप में संपूर्ण हैं....अपने में संपूर्ण रामभक्त हनुमान हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  30. shagun...apshagun ye sab baatein mere liye to irritating si hai... bandar ne bhala kya bigada hai..

    उत्तर देंहटाएं
  31. पता नहीं ऐसी बातें समाज में कहाँ से प्रचलित हुई । नाम लेने ना लेने से क्या होता है । भाव कलुषित हो तो नाम लेकर भी क्या फायदा . मन में श्रधा हो तो फिर कल्याण ही कल्याण है ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. जय श्री राम । अच्छा प्रसंग बताया है आपने ।

    उत्तर देंहटाएं
  33. यह बात पहले भी सुनी है....
    जब हनुमान जी, श्री राम जी के कष्ट दूर करते रहे तो भला हमें वो कष्ट क्यों कर देंगे ?
    मेरे हिसाब से, उनका स्मरण किसी भी काल या परिवेश में किया जा सकता है.…

    उत्तर देंहटाएं
  34. आपके ब्लॉग को ब्लॉग एग्रीगेटर "ब्लॉग - चिठ्ठा" में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  35. शुक्रिया आपकी निरंतर टिप्पणियों का।

    उत्तर देंहटाएं
  36. आप पर प्रभु की कृपा बनी रहे.

    उत्तर देंहटाएं
  37. प्रसंग एवं सन्दर्भ जानने पर ही मानस के सुन्दरकाण्ड में आई ये पंक्तिया स्पष्ट हो सकती हैं...
    आपने बहुत बढ़िया इन्टरप्रेट किया और समझाया है!

    बचपन से शनिवार को सुन्दरकाण्ड का पाठ करते आ रहे हैं... अब प्रसंग, अर्थ एवं चौपाईयां तो कंठस्त हो चुकी हैं,देखें सुन्दरकाण्ड में वर्णित दिव्य भावों को कब पूर्णरूप से आत्मसात करता है मन!

    उत्तर देंहटाएं
  38. आप ने विश्लेषण अच्छा किया जो प्रभु राम का अनन्य भक्त हो वह तो स्वतः प्रातः स्मरणीय होगा यह तो दास्य भक्ति के अनुरूप हनुमान जी ने कहा है इसी प्रकार से विभीषण ने भी अपने मुह से कहा है मै निशिचर अति अधम सुभाउ-- शुभ आचरण किन नहीं काऊ तो क्या इसे सत्य माना जा सकता है

    उत्तर देंहटाएं
  39. पहली ही बार ,मैंने इस पृष्ट पर नजर डाली है , और मन पुलकित हो गया , अंतर्जाल पर हिंदी की भी पठनीय सामग्री उपलब्ध है जानकार हर्ष हुआ . धन्यवाद .

    उत्तर देंहटाएं
  40. http://www.fnur.bu.edu.eg/
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/422-2013-12-10-10-18-01
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/421-2013-12-10-09-48-39
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/419-2013-12-09-07-21-12
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/420-2013-12-10-09-48-38
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/417-2013
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/418-2013-12-09-07-17-28
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/415-2013-12-03-08-09-23
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/416-2013-12-03-08-25-21
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/413-2013-11-21-07-50-21
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/414-2013-11-25-09-38-30
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/411-2013-11-20-08-11-53
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/412-2014
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/409-2013-2014
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/410-2013-11-13-17-25-28
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/407-2013-11-09-08-51-15
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/408-2013-11-13-11-55-53
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/405-2013-11-09-08-42-05
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/406-2013-11-09-08-46-10
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/403-2013-11-09-08-25-45
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/404-2013-11-09-08-28-15
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/400-2013-11-09-07-50-13
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/401-2013-11-09-08-03-31
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/398-2013-11-09-07-29-40
    www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/399-2013-11-09-07-43-49
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/397-eugen-ionesco
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/402-2014-2013
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/main-news/item/395-2013-11-02-09-07-04

    उत्तर देंहटाएं
  41. आप से सहमत। प्रभु के भक्त का नाम कभी भी लें

    उत्तर देंहटाएं
  42. http://www.fnur.bu.edu.eg/
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/departements
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/medical-surgical
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/community-health
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/nursing-administration
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/mother-health-obstetrics
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/mental-health
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/pediation-nursing
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/dean-word
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/tip
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/vision-mission
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/goals
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/faculty-administration
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/previous-deans
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/t-magies-faculty
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/faculty-deps
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/index.php/about-faculty/degrees-offered
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/images/news/haykal%20tanzim11i.jpg
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/images/news/maaeer%20eetemad01_Page_1.jpg
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/images/news/kheta%20maaeer.pdf
    http://www.fnur.bu.edu.eg/fnur/images/news/khta%20edaria.pdf

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव