शुक्रवार, 13 जुलाई 2012

मदमत्त हो रहा सावन

मदमत्त हो रहा सावन 

खुशबू खुशबू दिन हैं 
महकी महकी रातें
अलसाई सी सुबहें
औ बहकी बहकी बातें 
सुनहली हुई  दोपहरी
रुपहली घिरती शाम 
नित बरसा की फुहारें 
होठों पे उनका नाम 
मन मयूर का  नर्तन 
दहगल का शुभ गान 
मदमत्त हो रहा सावन 
छेड़ी अनंग ने तान 


26 टिप्‍पणियां:

  1. मदमत्त हो रहा सावन
    छेड़ी अनंग ने तान

    क्या खूब ! ... अतीव सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  2. लगता है सावन ने आपको दबोच लिया है.बिलकुल मस्ताई अंदाज़ !

    ...यह दहगल किसका नाम है ?

    उत्तर देंहटाएं
  3. @दहगल का फोटू लगा दिया है -जीवन में चेले ने अगर दहगल का गान नहीं सुना तो चेल्हयाई खारिज :-)
    पहले जाओ सुन आओ दिल्ली के किसी बागीचे में अल्लसुबह -बाग़ का पता डॉ. दराल से पूछ लो :-)

    उत्तर देंहटाएं
  4. भई,यही सब जानने-समझने के लिए तो गुरु बनाया है,ऐसे कैसे बिना नोटिस दिए चेल्हाई खारिज कर सकते हैं...?

    उत्तर देंहटाएं
  5. @ संतोष त्रिवेदी ,

    तेरी खुशबु दिन भर छाये, महक उठीं हैं रातें
    अलसाई सी सुबह सुनाये,रात की बहकी बातें !
    रात गयी पर याद ना जाए,कैसे उन्हें बुलाएं
    बैरन बरसा याद दिलाए, नाम न बोला जाए !

    उत्तर देंहटाएं
  6. गूंज रही बूंदों की
    झरर-झरर कान में
    अंग-अंग गीला सा
    बरसता सावन प्राण में..

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह सावनमई मदमस्त करती रचना ...
    बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ...
    शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  8. ओह ! यह तो किसी नवयौवना के दिल की बात कह दी . :)

    उत्तर देंहटाएं
  9. खुश्बू और महक के बीच अलसायापन और बहकी बहकी बातें !
    सुनहली और रुपहली के बीच की फुहारों संग उसका नाम !
    नर्तन और गान के दरम्यान मदमत्त सावन संग उन्मत्त अनंग :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ... बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपने कविता लिखनी शुरू कर दी (प्री मानसून वाला भी एक था) इसका मतलब ही है, सावन सर चढ़ गया है. वैसे सुन्दर ही लगी आपकी रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बढ़िया सुन्दर सरस कविता!

    उत्तर देंहटाएं
  13. सावन में सावन सी खूबसूरत रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  14. शरमाई सी हंसी हो ,और साथ तुम्हारा ,
    कोयल ने छेड़ी हो तान ,
    विरही बादल गाए गान .
    बढिया रूमानी रचना वर्षा बावरी का मानवीकरण .
    भाई साहब साइंस ब्लॉग खुल नहीं रहा है इस लिए रचनाए भी पोस्ट नहीं कर पा रहें हैं .कुछ कीजिएगा ,डॉ जाकिर को कहिएगा .प्रणाम केंटन के .कल तीन दिन के लिए लासवेगास(नेवादा राज्य ) की और कूच है .ट्रेवर सिटी मिशिगन और शिकागो (इलिनाय राज्य ) भ्रमण के बाद . आपकी याद के साथ वीरू भाई .

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत प्यारी कविता....
    सुन्दर..कोमल....भीगी सी..
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    पर भी पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. पक्षी की मोहक मुद्रा ने कविता के प्रमद-भाव को जीवन्त कर दिया !

    उत्तर देंहटाएं
  18. सावन का आना और कविताई के बीज फूटना दोनों ही अच्छा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. शब्दों ने सावन सा आनन्द दिया है...बहुत ही सुन्दर कविता..

    उत्तर देंहटाएं
  20. बाप रे! आप तो कवियों की बिरादरी में आ गये!!

    मन मयूर का नर्तन
    दहगल का शुभ गान
    मदमत्त हो रहा सावन
    छेड़ी अनंग ने तान।
    ..वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  21. सावन ने दिन का हर पहर मस्त कर दिया ... सावन तो नहीं आप मदमत्त हो रहे हैं अरविन्द जी .. और होना भी चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह, पक्षी तो यहाँ भी मस्त होकर गान कर रहे हैं!

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव