मंगलवार, 21 दिसंबर 2010

जिन्होंने दिया उनका भला और जिन्होंने नहीं उनका भी ...

बात मेरे बर्थ डे की है जो १९ दिसम्बर को सामान्य सहज बीत गयी .कल रात महफूज भाई की विलम्बतम विश मिली , उन्होंने करीब दस बजे जब बिग बॉस में डाली और वीना मलिक लड़ रहे थे,मुझे काल करके बधाई दी ..उन्हें लगा कि मेरा जन्मदिन कल ही था ....इस बार जन्मदिन पर आने वाले शुभकामना संदेशों ने पिछले सारे रिकार्ड तोड़ डाले ..और यह करामात फेसबुक की है ..करीब डेढ़ सौ शुभकामनाएं वहां कुछ इस तरह  आती रहीं जैसे शुभकामनाओं की बरसात हो गयी हो ...फेसबुक में प्रोफाईल के ठीक नीचे जन्मदिन का उल्लेख होता है ..जैसा पहले भी हुआ है इस बार भी जहाँ कई अनपेक्षित शुभकामनाएं ,सुखद आश्चर्य के रूप में  लपकती हुई आ पहुँची तो कई बहु प्रतीक्षित एक बार और दगा दे गयीं ...मगर कुछ बहुत स्नेहिल शुभकामनाएं भी मिलीं जो ई ग्रीटिंग्स द्वारा मिलीं ...मनुष्य के जीवन के ये कुछ ऐसे अवसर होते हैं जब मनुष्यता में उसका विश्वास और गहरा उठता है ....आस्थाएं पुनः अंकुरित हो उठती हैं और जीवन के मोह फिर जागृत  हो उठते है ..सच है जीवन के सतत और सुचारू संवहन के लिए मोहबद्धता के  ऐसे क्षण बहुत जरुरी होते हैं और शायद  यही कारण रहे होंगे जब हमारे आदि पूर्वजों ने इन अवसरों का अनुष्ठानीकरण शुरू किया होगा ....जिससे मनुष्य का उत्साह और सांसारिकता के निर्वाह का जज्बा जोर मारने लगे  ....प्रकृति भी तो यही चाहती है ....



 कुछ शुभकामनाएं तो भूली  भटकती मेरे पिछले पोस्ट पर जो दिल्ली संस्मरण पर थी आ टिकीं ,एक वह बात जो मुझे रुचती नहीं कि किसी पोस्ट की अंतर्वस्तु पर टिप्पणी के बजाय उस पर असंगत बात लिखी जाय ....मगर यहाँ भी मनुष्य के व्यक्तित्व का वही नितांत कोमल पहलू उजागर हो जाता है जिसके  कारण वह धरती के जीवों का सिरमौर बना हुआ है ..मेरे किसी भी शुभाकांक्षी को जब भी जहाँ भी पता लगा कि मेरी बर्थडे है उन्होंने वही प्यार उड़ेल दिया ...अब बताईये भला क्यों मनुष्य मात्र के प्रति  मेरा प्रेम और समर्पण और गहरा न हो जाय ...कुछ मानव /मनु पुत्र श्रेष्ठ मुझे अनजाने ही फेसबुक पर शुभकामना चेप गए और कुछ जानबूझ कर भी चुप रहे ...हा हा ...इसलिए कि शायद  भूलवश मैंने उन्हें जन्मदिन विश नहीं किया था ....यह तो कोई बात नहीं हुई ..अपनत्व तो तब हुआ जब जबरदस्ती केक/मिठायी  खाने की जिद की जाय ....मित्रों ,ऐसे अवसर तो हमें झटक लेने चाहिए क्योकि यह हमें हमारी विशिष्टता का ही बोध कराते हैं ....मानव संस्कृति के सुनहले अवसर हैं  ये ...

प्रशांत प्रियदर्शी ने मुझसे फेसबुक पर पूछा कि सर इस बार का बर्थ डे आपके परिवार ने  कैसा मनाया ...शायद वे ज्यादा तड़क भड़क वाली बात सुनना चाहते थे....मैंने सच और सादगी की बात उन्हें बता दी -"बस एकाध व्यंजन अधिक था ...अब आप भी कहाँ पचपन में बचपन वाले जन्मदिन मनाये जाने की बात करते हैं ..." यह उनके लिए आश्चर्यजनक रूप से प्रत्याशित उत्तर था ...."कहने लगे हाँ इस उम्र में तो बाल बच्चे ही माता पिता का बर्थ डे मनाते हैं ' ....हाँ प्रशांत ,अच्छे बच्चे जरुर ऐसा करते हैं ....मगर ..खैर जाने दीजिये ...

तकनीक कहाँ मनुष्य का विस्थापन कर रही?  एस एम एस ,फोन काल ,अंतर्जाल सभी ने मेरे इस तिरपनवें वर्षगाँठ में संदेशवाहक का काम किया ..वह तो मनुष्यता को जोड़ने में किसी फौलादी सीमेंट का ही कार्य कर रही है ...एक चेरी की तरह ..मशीने और तकनीक इसी तरह मनुष्य की सेवा में लगी रहें ..यही कामना है ....मुझे मेरे जिन मित्रों ने जन्मदिन की बधाई दी और जिन्होंने न जानते हुए या जानते हुए भी नहीं  दी ,सभी को मेरा स्नेहसिक्त आभार ,अभिवादन और मंगलमय  नव वर्ष /नए दशक की अनगिन शुभकामनायें  .....


36 टिप्‍पणियां:

  1. हाँ, तकनीक ने बहुत कुछ बदल दिया है...

    विलम्ब से ही सही मेरी शुभकामनाएँ स्वीकार करें। फेसबुक मुझे अभी तक रुचा नहीं, जाने क्यों?

    Happy B'day.

    उत्तर देंहटाएं
  2. belated happy bday arvind ji.....wo jo ek-aadh vyanjan khaas banwaayatha uska kya naam hai...?

    उत्तर देंहटाएं
  3. डॉ साहेब, फसबुकिया नमक जंतु के चंगुल से हम भी मुक्त है.......

    देर से ही सही..... जन्मदिन कि शुभ कामनाएं स्वीकार कीजिए आर्य.

    उत्तर देंहटाएं
  4. इस ब्लॉग धरातल पर भी आपको जन्मदिन की हार्दिक बधाई !


    अरे गलती की मुआफी !

    अब एस एम् एस करने जा रहे हैं !
    जाहिर है वह भी संवाद का ही तो एक माध्यम है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. मेरे विचार से जन्मदिन पर एक पोस्ट ज़रूर डालनी चाहिए । इससे बधाई देना आसान हो जाता है । वैसे तो इस तकनीक के युग में ढेरों साधन हैं , लेकिन ब्लोगिंग अपनी कर्मभूमि है ।
    शुभकामनायें अरविन्द जी ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. फेसबुक के बाद मेरे इस साल आया पहला मेरे लिए तो मोरचा खुल जाने जैसा था. शुभकामनाओं और बधाईयों का लेन-देन तो दर्ज कर ही रहा हूं, यहां.

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमारा फेस भी फेसबुक में नहीं है, हम सीधे यहीं पर ही दे देते हैं, शुभकामनायें। जो इच्छित हो जीवन में, स्वयं आये।
    पाबला जी की साइट पर दे चुके हैं बधाईयाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. सो आपको केक काटने के साथ ट्रीट और हैप्पी बड्डे तो यू ...गाना भी चाहिए :-))
    क्यों बच्चों को परेशान करते हो ? अपनी पोस्ट बिटिया को दिखाई कि नहीं ??

    उत्तर देंहटाएं
  9. ओह!!, इस धन्यवाद पोस्ट से संज्ञान हुआ आपके जन्मदिन का!!

    फेसबुक के सदस्य नहिं है,अतः सही समय चुक गये।

    विलम्बित शुभकामनाएँ स्वीकार कर मुझे कृतार्थ करें।
    मनुष्य जन्म अपने आप में कई विशिष्टताओं का अर्जन है। फ़िर क्यों न यह जीवन मंगलमय हो!!
    ऐसी ही मंगल भावनाओं के साथ बधाई और शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. देर से ही सही……………जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  11. यह तकनीक का सकारात्‍मक पक्ष है।

    रही सही कसर इस पोस्‍ट ने पूरी कर दी। अरे भई, जिनको नहीं याद था, उन्‍होंने भी बधाई दे दी।

    एक बार पुन: बधाई।

    ---------
    आपका सुनहरा भविष्‍यफल, सिर्फ आपके लिए।
    खूबसूरत क्लियोपेट्रा के बारे में आप क्‍या जानते हैं?

    उत्तर देंहटाएं
  12. जन्म दिवस की बधाईयाँ स्वीकारें और मेरे बरसों पुराने अनुरोध पर भी विचार करे|

    आप मछलियों के विशेषज्ञ हैं| उन पर एक लेखमाला लिखें समय निकालकर| मैं शाकाहारी हूँ पर मछलियों विशेषकर देशी मछलियों से सम्बन्धित जैव-विविधता के बारे में आपके माध्यम से जानने इच्छुक हूँ|

    उत्तर देंहटाएं
  13. मनुष्य का उदात्त ,कोमल पक्ष कि शुभकामनाएं अभी भी हहरती चली आ रही हैं -अब ये पोस्ट शुभकामनाओं के लिए थोड़े ही लगाई थी .. :)
    मेरे लिए तो ये किसी आशीर्वचन से कम नहीं ..शिरोधार्य हैं ......
    @व्यंजन की बात सुरेन्द्र जी ने पूछी थी तो बता दूं वह कोई हाईब्रिड था ,मिक्स इटालियन पास्ते का और अपनी गोभी ,मटर टमाटर का....अब इसके आगे कुछ नहीं पूछियेगा ...पूरी पोस्ट बनेगी और वह मैं अवायड कर रहा हूँ कतिपय निहितार्थों के कारण ..
    @प्रवीण जी आपका तिहरा एस एम् एस मिला गया मैंने फोन मिलाया तो आपने उठाया नहीं ..

    @सतीश जी दिखा दूं तो गृहयुद्ध छिड़ जाएगा .....
    @पंकज जी आपने विज्ञान कथा के बारे में कुछ कहा था वह याद है ,मोहकमाये मछलियान मेरे जीविकोपार्जन का साधन है रूचि का नहीं ,,मगर आप कहते हैं तो जरुर एक लेखमाला लोक मात्स्यिकी शीर्षक से करना चाहता हूँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. आप खुश किस्मत इंसान है की आपको आपका जन्म दिन पता है |

    उत्तर देंहटाएं
  15. देर से सही पर जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं आपको......

    उत्तर देंहटाएं
  16. ये लीजिये जी, हमारी भी दिल से, देर से बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  17. अपन तो नेट पर कभी भी सही जन्म तारीख नहीं दर्शाते।

    वजह....

    एक तरह की सुरक्षात्मक स्ट्रेटजी।

    कभी आपका कोई कार्ड वगैरह खो जाय या कि कोई नेट रिलेटेड ट्रांसेक्शन हो जिसमें कार्ड ब्लॉक करवाना हो या कुछ और.... तो सबसे पहले हेल्प लाईन में आपका नाम और जन्म तारीख ही पूछा जाता है।

    मान लिजिए कि आप का कार्ड किसी ने चुरा लिया और नेट से आपकी प्रोफाइल के जरिये जन्म तारीख और नाम आदि का पता ठिकाना निकाल लिया, तो बज गई घंटी :-)

    ऐसा कुछ समय पहले कहीं सुना था कि किसी के साथ हो चुका है। सो अपन तो विवशता मे जो जन्म तारीख भरते हैं वो भी नकली।

    और फेसबुक देता रहता है संदेश, इस अगले हफ्ते आप से शेयर करेंगे इतने लोग जन्म दिन....उतने लोग फलां दिन...पता नहीं उसमें कितने लोग सही जन्म वाले होते हैं औऱ कितने लोग गलत :)

    फिलहाल जन्मदिन की शुभकामनाएं लिजिए।

    और हां... आज एक और व्यंजन ज्यादा बनवाईये....उ का है कि जब तक जन्मदिन संदेश आते रहें, जन्मदिन चालू रखिये

    ( दरअसल वैसे भी गृहणियां हेल्थ कॉन्शियसता के नाम पर पतियों को खाने वगैरह में टोकती रहती हैं...इसलिये नये नये व्यंजन खाने का मौका खोना नहीं चाहिए :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. .
    .
    .
    थोड़ा विलम्ब से तो हैं, पर पता ही अभी चला...

    मेरी ओर से जन्मदिन की बधाई व अभिवादन और मंगलमय नव वर्ष /नए दशक की अनगिन शुभकामनायें .....



    ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. पंडित जी!विलंबित सुर में में हमारा भी सुर मिला लें... फेस बुक पर हम साथ नहीं, वरना ऐसा नहीं होता.. यह तकनीक मेल करके आगे से आगाह कर देती है!

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपने लिखा:
    जिन्होंने दिया उनका भला और जिन्होंने नहीं उनका भी ...
    चूंकि यहां मामला पूरी तरह से साफ़ नहीं है कि जिन्होंने नहीं दिया उनके साथ क्या सलूक किया जायेगा इसलिये अनिश्चितता से बचने के लिये मैं भी देने वालों में शामिल हो जाता हूं और आपको जन्मदिन की बधाई देता हूं। संभालिये।

    कामना है कि पचपन में आपका बचपन सलामत रहे। मस्त रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  21. अगर हम भुल गये हो तो आज ले लिजिये हमारी शुभकामनाऎ जन्म दिन की, :)

    उत्तर देंहटाएं
  22. बड़ा आसान नहीं हो गया है बधाई/शुभकामना देना अब :) चेंप दिए वाल पर एक ठो सन्देश तपाक से.

    उत्तर देंहटाएं
  23. अब पता चला कि ब्लॉग हैकिंग कैसे हुई होगी ? :)
    यहाँ तो हर दिन शुभकामनायें हैं आपके लिए और आप हैं कि एकाधिक व्यंजन और एक दिन पर ही सिमटे जा रहे हैं :)
    फिर से कहूँगा हमारी ओर से सालों साल , हर दिन की शुभकामनाये :)

    उत्तर देंहटाएं
  24. विलम्ब से ही सही मेरी शुभकामनाएँ स्वीकार करें।

    उत्तर देंहटाएं
  25. देर से ही सही ....हम अपना भला तो कर ही लें ....

    जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. अरविंद जी ... आपको जनम दिन की बहुत बहुत शुभकामनाएँ ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. देर से ही सही ........

    जन्म दिन की बहुत बहुत बधाई ... :)

    उत्तर देंहटाएं
  28. मेरी ओर से बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!
    इस सुन्दर पोस्ट को चर्चा मंच पर चर्चा में लिया गया है!
    http://charchamanch.uchcharan.com/2010/12/376.html

    उत्तर देंहटाएं
  29. देर आयद हमेशा दुरुस्त आयद होता है भैया
    सालगिरह पर जौनपुर की इमरती और कानपुर के ठग्गू के लड्डू का सौगात दे रहा हूँ
    बधाई हो बड़का भईया

    उत्तर देंहटाएं
  30. अरविन्द जी जब मैं आप को परेशाक कर रहा था २ दिन पहले तो आप ने बताया क्यों नहीं की आप का जन्म दिन है?
    बता देते तो बधाई भी दे देता. चालिया अब सही जन्म दिन बहुत बहुत मुबारक हो. वैसे कितने साल के हो गाये आप?

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव