शुक्रवार, 14 जनवरी 2011

मकर संक्रांति का पुण्य काल है ,आईये कुछ कथा वार्ता हो जाय!

मकर संक्रांति का पुण्य काल है ,आईये कुछ ज्ञान ध्यान की बात हो जाय -कुछ कथा वार्ता हो जाय.गोस्वामी तुलसीदास जी राम कथा के उदगम और उसके महात्म्य की बात करते हुए बालकाण्ड में जो लिखते हैं आईये आपको सुनाते हैं =जब तक मन  लगे सुनिए नहीं तो जो रुचे वही कीजिये ...मैं तो इन दिनों 'मानस' रस में ही सराबोर हो रहा हूँ .अल्पना जी की दी गयी टिप्स के अनुसार प्रवचन   यहाँ से डाउनलोड भी किया जा सकता है!

27 टिप्‍पणियां:

  1. राम कथा सुनी.
    सरल शब्दों में अर्थ भी समझा.
    बहुत अच्छी प्रस्तुति .
    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  2. ज्ञानवर्धक पोस्ट और धर्म की बातें ही मन को शांति प्रदान करती हैं यदि इसका सही इस्तेमाल किया जाए.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मैं आपसे पूछने वाली थी कि आप हैं कहाँ इस समय? तब तक ये पोस्ट आ गयी. अभी ठीक से बज नहीं रहा. बाद में सुनूंगी.

    उत्तर देंहटाएं
  4. लोहड़ी, मकर संक्रान्ति पर हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई
    कथा फ़िर कभी सुनेगे जी आप को सामने बिठा कर, याद रखे

    उत्तर देंहटाएं
  5. benami ki tippani ko mahatva de ya na de ...lekin maanas main dube hue hain aap ,is se achhi baat kya hogi .jab koi scientist ..aap jaisa ...maanas main dube ..kya baat hai....maanas main man aur as dono dub jaate hain ,dhanya hain aap ......yehi kaamna hai ki aap dube rahe aap

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुनने की इच्छा थी, मगर शायद सर्वर डाउन होने की वजह से ठीक से सुन नहीं पा रहा. कथा पोस्ट भी होती तो कम-से-कम पढ़ ही लेता.

    उत्तर देंहटाएं
  7. पुण्य काल में मानस रसपान करवाने के लिए आपका बहुत बहुत आभार पंडितजी। मकर संक्रांति पर्व पर शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  8. अभिषेक ,
    श्रवण रस का आनंन्द पठन से कई गुना अधिक होता है -जुगाड़ लगाईये !
    मुक्ति ,
    कभी कभार शुभाकांक्षियों का कुशल क्षेम भी जान पूछ लेंना एक श्रेष्ठ सामजिक कार्य कर्तव्य है जो हमें मनुष्य होने का अहसास कराता रहता है !

    उत्तर देंहटाएं
  9. हमारे भौतिक पड़ोस, इर्द-गिर्द बज रहे लाउड स्‍पीकर हमें यहीं पर्याप्‍त धर्म-लाभ करा देने पर उतारू हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  10. थोड़ा ही सही पर आपका आना अच्छा लगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. hum 'missing plus in' nahi kar pate so sun nahi sake....koi bat nahi....
    aap aa gaye balak ke liye yahi khushi
    ki bat hai......

    pranam.

    उत्तर देंहटाएं
  12. श्रवण सुख प्राप्त किया. आभार. जैसे क्षेत्रीयता के अनुरूप कई रामायण हैं वैसे एक मुस्लिम लामायन भी है. जी हाँ "लामायन" यह केरल के मुस्लिम परिवारों में प्रचलित है.

    उत्तर देंहटाएं
  13. *Abhishek ji yahan se download kar ke aap offline bhi sun sakte hain.

    [128 min kee clip hai ]
    yeh hai link -
    http://www.divshare.com/download/13776200-728

    *isee link ko hyperlink kar ke Arvind ji download ka option readers ko post mein hi de skate hain.

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी मीठी आवाज में कथा सुनने में आनंद आ गया.....
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  15. पता चला आप शारीरिक कष्ट में हैं ।
    जल्द स्वास्थ्य लाभ की शुभकामनायें ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. अच्छी लगी वार्ता पंडितजी। एक वार्ता और है देखिए इसे और मजा लीजिए आप भी :-
    http://killerjhapata.blogspot.com/2011/01/blog-post_15.html
    ही ही।

    उत्तर देंहटाएं
  17. मकर संक्रांति की शुभकामनाएं अरविंद मिश्र जी॥

    उत्तर देंहटाएं
  18. आज आपने हमारा पण्डित जी कहना सार्थक कर दिया! आप यथाशीघ्र स्वस्थ हों यही प्रार्थना है प्रभु से!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. @शुक्रिया अल्पना जी -आप टेक्नो सावी हैं!
    डॉ दाराल जी ,
    डाक्टर दराल साहब अब इस कारण से थोड़े ही मानस पारायण कर रहा हूँ :)
    बहुत आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  20. कहीं ये सेवानिवृत्ति के बाद के लिए रिहर्सल तो नहीं है :)

    अच्छे स्वास्थ्य के शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुबह सुबह रामकथा का श्रवण अच्छा लगा ...

    विज्ञानं कथा लेखक का ऐसा सुमधुर मानस वचन वाकई अद्भुत है ...जल्दी -जल्दी पढने के कारण हम इस तरह नहीं पढ़ पाते हैं ...डाउन लोड कर लिया है ..
    उपयोगी पोस्ट ...
    बहुत आभार ...
    टिप्पणियों से पता चला की आप अस्वस्थ रहे हैं ...
    शीघ्र स्वास्थ्य लाभ करें !

    उत्तर देंहटाएं
  22. आभार .... मानस पाठ के श्रवण से अच्छा क्या हो सकता है.....

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव