मंगलवार, 30 सितंबर 2008

देवी दुर्गा का वाहन सिंह या बाघ !

व्याघ्र वाहिनी माँ दुर्गा !
आज से नवरात्र शुरू हो रहा है -शक्ति पूजा का एक बड़ा अनुष्ठान ! मेरे मन में एक सवाल उमड़ घुमड़ रहा है जिसे मैं आप के साथ बाँटना चाह रहा हूँ -देवी दुर्गा को कहीं तो बाघ और कहीं शेर पर आरूढ़ दिखाया गया है -सबको पता है है कि ये दोनों अलग अलग प्राणी हैं -सभी देवी देवताओं का अपना अलग अलग एक निश्चित वाहन है .इन्द्र का ऐरावत हाथी ,यमराज का भैंसा ,शिव का नंदी ,विष्णु का गरुण ,आदि आदि अरे हाँ पार्वती का व्याघ्र या पति के साथ वे नंदी को भी कृत्य कृत्य करती हैं .वैसे तो मां पार्वती के परिवार में कई वाहन हैं मगर वे चूहे को छोड़ सभी पर ,नंदी-वृषभ ,बाघ और मोर पर भ्रमण करती देखी गयीं हैं .क्या पार्वती का वाहन बाघ और माँ दुर्गा का वाहन शेर है -दुर्गा जी क्या सचमुच शेरावालिये हैं ! मामला पेंचीदा है तो आईये इस मामले की थोड़ी पड़ताल कर लें क्योंकि आज से नवरात्र की पूजा शुरू हो रही है और हमें अपनी अधिष्टात्री के स्वरुप ध्यान के लिए इस गुत्थी को सुलझाना ही होगा ।
पहले तो यह जान लें कि समूची दुनिया में भारत ही वह अकेला देश है जहाँ बाघ और शेर का सह अस्तित्व है .चित्र में आप बाघ और शेर को सहज ही पहचान सकते हैं .अफ्रीका में भी शेर है तो बाघ नदारद ! रूस में बाघ है तो शेर नदारद ! चीन में भी बाघ है पर शेर का नामोनिशान नहीं .भारत का राष्ट्र पशु भी १९७२ तक शेर ही था पर बाघों की गिरती संख्यां से विचलित भारत सरकार ने प्रोजेक्ट टाईगर के साथ ही इस देश का रास्त्रीय पशु भी बाघ घोषित कर डाला ।
तो पहले भारत में कौन आया शेर या बाघ ? कैलाश सांखला जैसे वन्य जीव विशेषज्ञों की माने तो बाघ भारत में सबसे पहले आया .सिन्धु घाटी के लोगों को शेर की जानकारी नहीं थी जबकि उस काल की मुद्राओं पर बाघ की छाप अंकित पाई गयी है .शेर का उल्लेख वैदिक काल से मिलाने लगता है .अब अपने आदि देव शंकर को ही लें -वहां बाघम्बर( व्याघ्र चर्म ) है ,पार्वती बाघ पर आरूढ़ दिखती हैं .कैलाश सांखला जोर देकर कहते हैं कि बाघ भारत में हर हाल में ४५०० ईशा पूर्व से मौजूद है .शेर की मौजूदगी का प्रचुर विवरण सम्राट अशोक के काल से मिलने लगता है .एशियाई सिंहों के बारे में पारसियों को अछ्ही जानकारी थी .ऐसा प्रतीत होता है कि १५०० ईशा पूर्व से भारत में व्याघ्र सत्ता का पराभव और शेर का वर्चस्व शुरू होता है.इसकी पुष्टि संस्कृत साहित्य से भी होती है .शेर की सत्ता स्थापित होने में सम्राट अशोक की भी बड़ी भूमिका लगती है -भारत के स्वतंत्र होने पर सम्राट अशोक की पटना में स्थापित लाट (३०० वर्ष ईशा पूर्व )से ही भारत का रास्त्रीय चिह्न चुना गया जिसमे शेरों को ही प्रमुखता से दिखाया गया है ।अब यह बिल्कुल स्पष्ट है कि भारत में अपनी अपनी सत्ता स्थापित करने की धमाचौकडी बाघ और शेर के बीच आदि काल से चलती रही है -कभी बाघ ऊपर तो कभी शेर ! पर यह तय है कि बाघ ही हमारा आदि साथी है जो इस समय राष्ट्रीय पशु के रूप में ही प्रतिष्ठित है -जब किंग एडवर्ड सप्तम -प्रिंस आफ वेल्स ने १८५७ में बिहार के पूर्णिया क्षेत्र में बाघ का शिकार किया तो वाहवाही में भारतीय बाघ को रायल बंगाल टाईगर का खिताब नवाजा गया .आख़िर वह किसी ऐरे गैरे की गोली का शिकार थोड़े ही हुआ था -तो रायल बंगाल टाईगर भारत में कहीं भी मिलने वाला बाघ है केवल बंगाल तक ही सीमित नहीं ।
तो अब आप ही निर्णय लें कि माँ दुर्गा का आदि वाहन क्या था -मेरी अल्प बुद्धि से तो यह बाघ ही था पर कालांतर के सामयिक परिवर्तनों से उनके भक्त जन भी अपनी अधिष्टात्री को बदल बदल कर वाहन अर्पित करते रहे कभी बाघ तो कभी शेर -पंजाब में तो वे पूरी तरह शेरावालियाँ ही हो गयीं है -इस बार के पूजा पंडालों पर ज़रा गौर करें देवी किस वाहन पर आरूढ़ दिखती हैं -बाघ तो मान शेर पर !वैसे पर वे बाघ पर आरूढ़ हों या शेर पर उनकी शक्तिमत्ता में तो रंच मात्र का फर्क नहीं रहेगा .या देवी सर्व भूतेषु शक्ति रूपें संस्थिता ...........

29 टिप्‍पणियां:

  1. "नवरात्रि की हार्दिक मंगलकामनाऐं."
    Wah jvab nahee , navratree ke makue pr bhee itnee achee jankaree, ye to shayad kise ne bhee nahee socha hoga kee maa kee svaree kaun hai?? bhut rochak jankaree.

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  2. अच्छी जानकारी हैं। नवरात्र की शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  3. क्या फर्क पडता है, शेर हो या बाघ। माँ तो वही हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वैसे दुर्गा सप्तशती के अनेक अध्याओं में सिंह का ही उल्लेख है अष्टम ,तृतीय आदि में सिंह के पराक्रम की चर्चा है | यदि आप दितीय अध्याय में २९ श्लोक को देखें तो ज्ञात होता है की हिमवान ने सिंह को वहां के निम्मित दिया था |मूर्तिकारों ने बड़े आयल की विकरालता को देख कर बाघों को मूर्तियों में रूपायित करने लगे इसी कारन संभवतः व्याघ्र व सिंह में भ्रान्ति आगयी पुराणो में सिंह का ही उल्लेख है

    उत्तर देंहटाएं
  5. सही है मातॄशक्ति के स्वरूप में कोई अन्तर नहीं आता, शेर या बाघ से।
    --------
    वैसे मदर के गैराज में दो वैहीकल्स तो हो सकती हैं! :-)

    उत्तर देंहटाएं
  6. नवरात्र की आप सबको हार्दिक मंगलकामनाएं !
    जानकारी अति सुंदर है ! धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  7. या देवी सर्व भूतेषु शक्ति रूपें संस्थिता ...........
    मिश्राजी बहुत सुंदर जानकारी दी आपने ! वैसे आदरणीय ज्ञानजी का कहना भी उपयुक्त जान पड़ रहा है ! :)
    वैसे एक सहज जिज्ञासावश आपसे पूछ रहा हूँ , शायद बाघ और शेर दोनों ही बिल्ली कुल के हैं ! पर इन दोनों में
    रिश्तेदारी है या नही ? और अगर है तो कितनी पुरानी ?

    उत्तर देंहटाएं
  8. माता के वाहन की चिंता किसी को नही। यह चित्र देखे


    http://pick14.pick.uga.edu/mp/20p?see=I_PAO2992&res=640

    उत्तर देंहटाएं
  9. फिर वेदों में सिंहासन का क्या?

    उत्तर देंहटाएं
  10. @ताऊ ,जी हाँ दोनों के गण यानि जीनस एक हैं !
    @अनामदास जी मैंने उल्लेख तो किया है कि वेदों से सिंह का उल्लेख शुरू हो गया है .

    उत्तर देंहटाएं
  11. @द्विवेदी जी ,माँ दुर्गा पर तो नहीं पर वाहनों पर असर जरूर पडेगा !

    उत्तर देंहटाएं
  12. saptshati ke dvtiiy adhyaay me savaarii ke liye HIMALAYA dvaraa MAA ko सिंह arpan karney kaa ullekh to hai....

    उत्तर देंहटाएं
  13. नवरात्र की शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  14. aapkee jigyasa badi sahaj hai.Uttar to theek theek mujhe bhi nahi pata par jitna padha jana hai usme mata kee savari roop me singh ka hi jikra milta hai.

    उत्तर देंहटाएं
  15. जानकारी अच्छी दी है आपने अरविन्द जी सिंह का ही अधिक जिक्र मिलता है हर जगह ..दुर्गा पूजा की बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  16. नवरात्र की सबको हार्दिक मंगलकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  17. चर्चा आपने अच्‍छी छेड़ी है.. लेकिन फिलहाल मां की जयजयकार कर आगे बढ़ते हैं.. आप सभी को नवरात्र की हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  18. नवरात्र की आप सबको हार्दिक मंगलकामनाएं !
    अजी मां बदल बदल कर बेठती हे, आखरी यह जानवार भी तो ठक जात्र होगे.
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  19. आज रंजना (रंजू भाटिया ) ने अल्लसुबह मानो सोते से जगाया और बताया कि यह पोस्ट अमर उजाला के ब्लॉग कोना में आज प्रकाशित हुयी है -यह कितना मजेदार अनुभव है कि अब प्रिंट मीडिया इस आभासी दुनिया को जगह दे रहा है ! लोगों की नजर ब्लॉग दुनिया पर भी है .अमर उजाला को शुक्रिया ! रंजना जी को भी ! 2 अक्टूबर ०८)

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत अच्छा. अमर उजाला के लिए बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  21. पंकज जी की दी गयी लिंक फोटो दर्दनाक लगी... //

    उत्तर देंहटाएं
  22. भाई मुझे सवारी चुननी हो तो बाघ की चुनुंगा। वह तेज तो है।

    उत्तर देंहटाएं
  23. अरे मैं तो ये पोस्‍ट पढ़ने में लेट हो गया

    उत्तर देंहटाएं
  24. जानकारीपरक पोस्ट.... वैसे सिंहवाहिनी कहते हैं माँ को....

    उत्तर देंहटाएं
  25. @ वैसे पर वे बाघ पर आरूढ़ हों या शेर पर उनकी शक्तिमत्ता में तो रंच मात्र का फर्क नहीं रहेगा .या देवी सर्व भूतेषु शक्ति रूपें संस्थिता ...........

    true :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वैसे जहां तक मुझे पता है - शेरांवाली तो शायद वैष्णोदेवी को कहते हैं, जो jammu / katra के पास त्रिकूट पर वास करती हैं । उनका ब्याह कल्कि अवतार से होगा । दुर्गा मैया को नहीं ।

      हटाएं
    2. तत्वतः सभी एक हैं -यहाँ विवेच्य विषय बाघ और शेर की भारत में उपस्थिति के इतिहास को लेकर है शिल्पा जी!

      हटाएं
  26. ये तो बड़े पते की बात आ गयी सर , ये तो सोचा ही नहीं था !!!

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव