शनिवार, 20 सितंबर 2008

कविता :अंधकूप से बाहर !

मेरी पहली विज्ञान कविता को आप सुधी मित्रों का अनुमोदन क्या मिला ,मैं अब आपे से ही नही उस अंधकूप से भी बाहर आ गया ,सो लीजिये झेलिये इस दूसरी को भी !
अब हूँ मैं अंधकूप से बाहर


अब हूँ मैं अंधकूप से बाहर
जिसके आकर्षण से आबद्ध
असहाय सा अप्रतिरोध्य ,
खिंचा था सहसा ही उस ओर
उस गहन गुम्फित क्रोड़ में

मगर आश्चर्यों का आश्चर्य
निकल आया हूँ अब उस पार
अप्रतिहत ,बिना हुए अवशेष
उसकी एकात्म दिक्कालिकता
भी न कर सकी मुझे आत्मसात

जाने क्यूं अनुभव करता तथापि
मैं एक नवीन ऊर्जा का संचार
इक पुनर्ननवीं वजूद का सहकार
हर पल ऊर्जित आवेश से लबरेज
मैं आ गया हूँ अब अंधकूप से बाहर



टिप्पणी -
कहते हैं अंधकूप में काल और समय का कोई वजूद ही नहीं होता ....सब कुछ रूका सा , चिरंतन ठहराव लिए -जो कुछ भी उसमें पहुंचा कालातीत हुआ -पर यदि बचा तो .......वह होगा अंधकूप की ही बिना पर अजस्र ऊर्जा से आवेशित -मेरे इस कवि अस्तित्व की ही तरह !

14 टिप्‍पणियां:

  1. जाने क्यूं अनुभव करता तथापि
    मैं एक नवीन ऊर्जा का संचार
    इक पुनर्ननवीं वजूद का सहकार
    हर पल ऊर्जित आवेश से लबरेज
    मैं आ गया हूँ अब अंधकूप से बाहर
    " fantastic expression, reallity of life, it is also a great experience to read this kind of scientific poetry which relates to different aspects of the life."
    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  2. मगर आश्चर्यों का आश्चर्य
    निकल आया हूँ अब उस पार
    अप्रतिहत ,बिना हुए अवशेष
    उसकी एकात्म दिक्कालिकता
    भी न कर सकी मुझे आत्मसात

    अच्छी रचना है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. इक पुनर्ननवीं वजूद का सहकार
    हर पल ऊर्जित आवेश से लबरेज
    मैं आ गया हूँ अब अंधकूप से बाहर
    vah bhut sundar. jari rhe.

    उत्तर देंहटाएं
  4. मगर आश्चर्यों का आश्चर्य
    निकल आया हूँ अब उस पार
    अप्रतिहत ,बिना हुए अवशेष
    उसकी एकात्म दिक्कालिकता
    भी न कर सकी मुझे आत्मसात

    बहुत गहरी और सुंदर बात लिखी है आपने अरविन्द जी ...मोह से मुक्ति की राह को सरलता से लिख दिया है आपने ..आपक कविता जरुर लिखा करे ...मुझे आपकी पहली कविता ने भी बहुत प्रभावित किया था ..यह भी बहुत पसंद आई ..|

    उत्तर देंहटाएं
  5. मगर आश्चर्यों का आश्चर्य
    निकल आया हूँ अब उस पार
    अप्रतिहत ,बिना हुए अवशेष
    उसकी एकात्म दिक्कालिकता
    भी न कर सकी मुझे आत्मसात

    अद्भुत गहरे भाव ! बहुत धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढिया!

    जाने क्यूं अनुभव करता तथापि
    मैं एक नवीन ऊर्जा का संचार
    इक पुनर्ननवीं वजूद का सहकार
    हर पल ऊर्जित आवेश से लबरेज
    मैं आ गया हूँ अब अंधकूप से बाहर

    उत्तर देंहटाएं
  7. गहन भाव-
    उसकी एकात्म दिक्कालिकता
    भी न कर सकी मुझे आत्मसात

    उत्तर देंहटाएं
  8. ओह, आप भौतिकी के सिद्धांतों को याद करने को बाध्य कर रहे हैं।
    ट्रेनें हांकते हुये जमाना गुजर गया उनको भूले!

    उत्तर देंहटाएं
  9. जाने क्यूं अनुभव करता तथापि
    मैं एक नवीन ऊर्जा का संचार
    इक पुनर्ननवीं वजूद का सहकार
    हर पल ऊर्जित आवेश से लबरेज
    मैं आ गया हूँ अब अंधकूप से बाहर
    बहुत सुन्दर लिखा है। बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सच मे अपने आप अद्भुत रचना ,
    मगर आश्चर्यों का आश्चर्य
    निकल आया हूँ अब उस पार.....
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या बात है? अब तो आप पूरे कवि हो गये। इस सुन्दर कविता के लिए बधाई स्वीकारें।

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव