शुक्रवार, 27 नवंबर 2009

कवि को श्रद्धा सुमन!

आज मेरे प्रिय कवि हरिवंशराय बच्चन जी की १०१वी जयंती है -इस अवसर पर उन्हें उन्हें उनकी ही कविताओं को पढ़ते हुए,गुनगुनाते हुए  श्रद्धा सुमन अर्पित करने का मन है - निशा निमंत्रण उनका एक कालजयी गीत संग्रह है जो मानव मन  के कितने ही आवर्त विवर्तों को समेटे हुए है .सच बताऊँ इस महान कवि की कविताओं ने मुझे अनेक उन अवसरों पर राहत दी है जब मैंने खुद को  क्लांत ,अकेला ,असहाय और छला हुआ पाया है .ये मेरी पीडाओं से साझा तो करती रही हैं मगर जीवन के उज्जवल पक्षों की ओर भी निरंतर प्रेरित करती रही हैं .
निशा -निमंत्रण से एक गीत आपके लिए भी -बाकी तो हम आज दिन रात कई स्वरान्जलियाँ कवि को अर्पित करते रहेगें -

दिन जल्दी जल्दी ढलता है!

हो जाय न पथ में रात  कहीं ,
मंजिल भी तो है दूर नहीं -
यह सोच थका दिन का पंथी भी जल्दी जल्दी चलता है !
दिन जल्दी जल्दी ढलता है !


बच्चे प्रत्याशा में होगें 
नीड़ों से झाँक रहे होगें -
यह ध्यान परों में चिड़ियों के भरता कितनी चंचलता है !
दिन जल्दी जल्दी ढलता है !


मुझसे मिलने को कौन विकल ?
मैं होऊँ किसके हित चंचल ?
यह प्रश्न शिथिल करता  पद को ,भरता उर में  विह्वलता है !
दिन जल्दी जल्दी ढलता है !



इसे सुनते भी तो जाईये !




                                                                       

24 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति!!

    श्रद्धा सुमन अर्पित हमारी तरफ से भी!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. इस बेहद अर्थपूर्ण व मधुर गीत को आपकी आवाज में सुनना एक अलग अनुभव रहा । संगत भी अच्छी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कवि हरिवंशराय बच्चन जी की १०१वी जयंती पर उन्हें याद करने और इस सुन्दर गीत की प्रस्तुती पर आभार....
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही सुंदर प्रस्तुति..... गीत बहुत अच्छा लगा....


    दिन जल्दी जल्दी ढलता है..... वाह! बहुत ही सुंदर पंक्ति....

    आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपनी आवाज़ के लिए सुन्दर गीत का चयन किया है ...या यूं कहूँ की सुन्दर गीत को सुन्दर आवाज दी है ...आभार ..!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. कवि बच्चन जी मेरे भी प्रिय हैं। उन्हें सादर नमन!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बच्चन जी का लिखा हुआ और आपकी आवाज़ बेहद खुबसूरत अंदाज़ है यह ..और भी सुनाये खासकर जो बीत गयी वो बात गयी ..शुक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहद खूबसूरत, बहुत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. कवि -प्रवर की कविता की
    संगीतमय प्रस्तुति से मन
    भावुक हो गया ...
    आभार ... ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. अच्छा किया आपने याद दिलाया। हरिवंशराय बच्चन जी को बहुत पढ़ा - पाठ किया है। श्रद्धांजलि।

    उत्तर देंहटाएं
  11. सुन्दर..! पर इसमे एक स्वर तो नहीं ही लगता..स्वर-साधकों के नाम तो बताएं...बेहतरीन प्रस्तुति..!!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. हे भगवान्....
    अब हमरा का होगा ???
    अब तो गेयल भैंस पनिये में...
    हाँ अब तक अच्छा ख़ासा गायन का कुर्सी पर कब्ज़ा जमाये रहे थे....अब तो गयी कुर्सिया हाथ से...
    हम कहते हैं का ज़रुरत है आपको एतना सुर में गाने का अरविन्द जी...
    बहुत सुन्दर कविता गायन...और बेटे ने भी खूब साथ दिया है आपका...
    बस हम दुखी हैं....कि हमरी लुटिया फिर डूबी...हाँ नहीं तो...!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. याद न आए दुखमय जीवन
    इससे पी लेता हाला
    जग चिंताओं से रहने को
    मुक्त, उठा लेता प्याला...

    उस महान कवि की स्मृति को अभिनंदन॥

    उत्तर देंहटाएं
  14. कवि बच्चन जी की यह विशेषता थी कि वे गम्भीर विषयों को अत्यन्त सरल शब्दों में कह जाते थे. हमारी ओर से भी श्रद्धांजलि!

    उत्तर देंहटाएं
  15. sorry sir,
    i couldn't hear the poem sung by u due to network or system error.

    उत्तर देंहटाएं
  16. रचना तो पढ़ी हुई थी लेकिन पिता पुत्र की यह जुगलबन्दी ! (अनुमान लगा रहा हूँ)
    आप लोग इतने मजे कलाकार हैं, बनारस में इसका आभास भी नहीं होने दिए। यदि पता चल जाता तो मैं फरमाइशें कर के आता ढेर सारी।

    अदा जी के यहाँ मेरा मसला ढेर दिन से बकाया है - राम की शक्तिपूजा का गायन। अब आप पखावज का जुगाड़ कर लीजिए और शुरू हो जाइए। बढिया आएगा। इतना तो तय रहेगा कि उच्चारण शुद्ध और कर्ण मधुर होंगे। अब यह न कहिएगा कि पखावज बजाना नहीं आता, चलिए बिना पखावज के ही गा लीजिए।
    ________________
    आनन्द आ गया।

    उत्तर देंहटाएं
  17. हाँ, गुगल क्रोम एक्सप्लोरर में ऑडियो लिंक दिख ही नहीं रहा।
    जिसका कट्टर विरोधी हूँ उस इंटरनेट एक्सप्लोरर का सहारा लेना पड़ा इस पॉड्कास्ट को सुनने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बने रहें ये पीने वाले , बनी रहे यह मधुशाला ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. अरविंद जी,
    बच्चन जी के अनमोल वचन...मन का हो तो अच्छा, न हो तो और भी अच्छा...को मैंने भी अपने जीवन का ब्रह्मवाक्य बना लिया है...आपने बहुत सुंदर शब्दों में बच्चन जी को याद किया...

    एक शंका है...बच्चन जी का जन्म 27 नवंबर 1907 को हुआ था, इस लिहाज से ये उनकी 102वीं जयंती होनी चाहिए...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  20. @आप सही हैं खुशदीप -शुक्रिया! गणित मेरी सदा कमजोर रही !

    उत्तर देंहटाएं
  21. waah! bahut khoob!

    aap ki pasand ki kavita aap ke swar mein sun kar achcha laga.

    ek sujhaav-audio file ka Download option bhi rakha kareeye.

    taki server ki slow speed wale bhi sun payen.

    Agle podcast ki pratiksha hai.

    उत्तर देंहटाएं
  22. बच्चन जी से मैं भी काफी प्रभावित हूँ. उनकी कविताओं में छुपे विभिन्न अर्थ अद्भुत होते हैं, जिनमें हर कोई अपने मनोभावों की अभिव्यक्ति पा सकता है.

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव