मंगलवार, 24 नवंबर 2009

प्रेमातुर नायिका है अभिसारिका!(नायिका भेद -९)

किसी निश्चित समय और स्थान पर प्रियतम से मिलने के लिए जाने वाली प्रेमातुर नायिका अभिसारिका है !चित्रकारी के संदर्भ में  एक प्रासंगिक विवरण जो नेट पर भी मौजूद है इस प्रकार  है -
"अभिसारिका ऐसी नायिका है जो किसी भी जोखिम की परवाह न करते हुए अपने प्रेमी से मिलने निकल पड़ती है। उसे विभिन्न कवियों ने अलग-अलग नाम दिया है। पहाड़ी (हिमाचली) कलाकारों का वह प्रिय विषय रही है। कृष्ण अभिसारिका और शुक्ल अभिसारिका दो तरह की नायिकाएँ हैं जो चांद की स्थिति के अनुसार कृष्णपक्ष और शुक्लपक्ष के दौरान अपन प्रेमी से मिलने निकलती हैं। एक आकर्षक चित्रकारी में कृष्ण अभिसारिका ने नीला दुपट्टा ओढ़ रखा है और वह रात में अकेली जा रही है। अंधेरी रात है और बादल छाए हुए हैं और रुक रुककर बिजली चमक रही है। जंगल में सांप हैं और भूत-पिशाच तथा डाइनें घूम रही हैं। जंगल के भय से बेखौफ- तूफान, सांपों, अंधेरों के आतंक की तनिक भी परवाह न करते हुए नायिका प्रेमी के प्रति जनून लिए उसकी तलाश में निकल पड़ी है।" 




-वाह ,ऐसी नायिका की हिम्मत के क्या  कहने !निर्भय ,सापो से भी घिरी मगर  कितना समर्पित है वह अपने प्रेम और प्रियतम के प्रति ! राकेश गुप्त ने ऐसी नायिका की तारीफ में कुछ पंक्तियाँ यूं लिखी हैं ...
दो उन्नत उरोज आतुर थे
आलिंगन में कस जाने को ;
फड़क रहे अधरोष्ठ पिया के 
प्रियतम के चुम्बन पाने को ;
चंचल थे पद चक्र  कामिनी -
अभिथल तक पहुचाने  को  ;
तन से आगे भाग रहा मन 
मनमोहन में रम जाने को 


अभिसारिका जैसी  स्थितियां सामन्यतः अनूढा और परकीया में ही दृष्टव्य हैं .राधा का कृष्ण प्रेम  परकीया ही है!
चित्र सौजन्य :स्वप्न मंजूषा शैल  

 


19 टिप्‍पणियां:

  1. सुंदर! अभिसारिकाएँ न हों तो पृथ्वी पर मानव जीवन शेष हो जाए।

    जवाब देंहटाएं
    उत्तर
    1. विल्सन के साथ सात सालों से रिश्ते में होने के बाद, मैंने सबकुछ संभव किया, मैं उसे हर तरह से प्राप्त करना चाहता था, मैंने वादे किए कि मैंने ऑनलाइन किसी को अपनी समस्या समझाई और उसने सुझाव दिया कि मुझे एक जादू कैस्टर से संपर्क करना चाहिए जो मुझे एक कास्ट करने में मदद कर सकता है मेरे लिए जादू करो, लेकिन मैं वह प्रकार हूं जो जादू में विश्वास नहीं करता था, मेरे पास कोशिश करने से कोई विकल्प नहीं था, मेरा मतलब है कि डॉ। अखेर नामक एक जादू कास्टर और मैंने उसे ईमेल किया, और उसने मुझे बताया कि कोई समस्या नहीं है कि सब कुछ ठीक रहेगा तीन दिन पहले, कि मेरा पूर्व तीन दिनों से पहले मेरे पास वापस आ जाएगा, उसने दूसरे दिन में जादू और आश्चर्यजनक रूप से डाला, यह लगभग 4 बजे था, मुझे बहुत पहले आश्चर्य हुआ, मैं बहुत हैरान था, मैंने फोन का जवाब दिया और उसने कहा कि वह जो कुछ हुआ उसके लिए खेद है, कि वह मुझे इतना प्यार करता है। मैं बहुत खुश था और तब से उसके पास गया, मैंने वादा किया है कि किसी को पता है कि रिश्ते की समस्या है, मैं उसे एकमात्र असली और शक्तिशाली जादू कैस्टर बनने में मदद करना चाहता हूं जिसने मुझे अपनी समस्या से मदद की और कौन है वहां सभी नकली लोगों से अलग किसी को भी जादू कैस्टर की मदद की आवश्यकता हो सकती है, उसका ईमेल: AKHERETEMPLE@gmail.com
      या
      कॉल / व्हाट्सएप: +2349057261346 अगर आपको अपने रिश्ते या कुछ भी मदद की ज़रूरत है तो आप उसे ईमेल कर सकते हैं। अब तक अपनी सभी समस्याओं के समाधान के लिए संपर्क करें
      AKHERETEMPLE@gmail.com
      या
      कॉल / व्हाट्सएप: +2349057261346

      हटाएं
  2. नायिका भेद की क्षृंखला का यह भाग भी रोचक लगा.

    जवाब देंहटाएं
  3. राकेश गुप्त जी भी खूब लिख गये.

    रोचक!!

    जवाब देंहटाएं
  4. जहाँ उत्कट-विकट प्रेमोन्माद वहां कहाँ भय किसी भी वन्य, अरण्य अथवा जन का...!!!

    जवाब देंहटाएं
  5. यह जानकारी भी रोचक लगी अब आगे क्या होता है.....देखते हैं..!!

    जवाब देंहटाएं
  6. राधा भी अभिसारिका थी ...रोचक जानकारी ...!!

    जवाब देंहटाएं
  7. यह ठीक है कि नायिका प्रिय से निर्भय हो निकल पड़ती है, पर प्रतिकूलताओं में उसके पास एक और भी अस्त्र है, नायक को ही अपने पास बुला लेना - अभिसारिका के लक्षण तो यूँ रहे -
    "जो मन्मथ पीड़ित हो प्रिय के पास स्वयं ही जाती
    या उसको निज पास बुलाती अभिसारिका कहाती ।"

    जवाब देंहटाएं
  8. क्या बात है ....वाह .... रोचक ....
    सोचें तो... अभिसारिका विभाजन में निगोड़ा चाँद भी आ गया ...अहिल्या - प्रेमी कहीं का !
    भैया ! उदहारण खोजने लगा तो लिंगेतर हो बैठा और 'तुलसीदास' याद आ गए ...
    यानी ... मुर्दे की नाव ... सांप की रस्सी ... आदि-आदि ...
    इनकी भी कोई समान्तर- कोटि बनाइये न !
    दिलचस्प ... ...

    जवाब देंहटाएं
  9. ब्लॉग जगत का श्रंगार साहित्य बढ़ रहा है इसी बहाने।
    इस शमा को जलाए रखें।

    जवाब देंहटाएं
  10. वाह ! ये पोस्ट संभवतः इस श्रृंखला की सबसे बढ़िया पोस्ट लगी.

    जवाब देंहटाएं
  11. सोहनी ने कच्चे घडे के सहारे नदी पार करने की चेष्टा की थी॥

    जवाब देंहटाएं
  12. अरविन्द जी मैं प्रस्तुत हूँ अपनी टिप्पणी लेकर. अभिसारिका नायिका के विषय में दशरूपककार की निम्नलिखित कारिका है -"कामार्ताऽभिसरेत्कान्तं सारयेद्वाऽभिसारिका" अर्थात्‌ जो नायिका कामपीड़ित होकर या तो स्वयं नायक के पास अभिसरण करे, या नायक को अपने पास बुलाये, वह अभिसारिका कहलाती है. इसके उद्धरण में उन्होंने अमरुकशतक का एक पद्य दिया है, जिसमें नायिका की उत्सुकता, भय, रोमान्च आदि का वर्णन किया है. अभिसारिका नायिका के वर्णन के प्रसंग में प्रेम में डूबी(दीवानी) स्त्री के मनोभावों का बड़ा ही सुंदर चित्रण संस्कृत के कवियों ने किया है. मुझे इनमें सबसे रोचक (romantic) "मृच्छकटिकम्‌" में वसन्तसेना का चारुदत्त के प्रति अभिसरण का लगता है.
    अभिसरण निस्सन्देह परकीया नायिका का ही होता है क्योंकि छुप-छुप के मिलने तो वही जायेगी. स्वकीया(पत्नी) को छुपकर मिलने की क्या आवश्यकता?
    नायक के इस प्रकार छुपकर मिलने के भी प्रसंग संस्कृत-साहित्य में है, पर उसे अभिसरण नहीं कहा जाता. इसी पक्षपात पर मुझे गुस्सा आता है.

    जवाब देंहटाएं
  13. प्रगल्भित प्रस्तुति ..सचमुच आप विषय की अधिकारी विद्वान् हैं ..आपसे बहुत कुछ नया जाने को मिल जात है ! आभार !

    जवाब देंहटाएं
  14. विल्सन के साथ सात सालों से रिश्ते में होने के बाद, मैंने सबकुछ संभव किया, मैं उसे हर तरह से प्राप्त करना चाहता था, मैंने वादे किए कि मैंने ऑनलाइन किसी को अपनी समस्या समझाई और उसने सुझाव दिया कि मुझे एक जादू कैस्टर से संपर्क करना चाहिए जो मुझे एक कास्ट करने में मदद कर सकता है मेरे लिए जादू करो, लेकिन मैं वह प्रकार हूं जो जादू में विश्वास नहीं करता था, मेरे पास कोशिश करने से कोई विकल्प नहीं था, मेरा मतलब है कि डॉ। अखेर नामक एक जादू कास्टर और मैंने उसे ईमेल किया, और उसने मुझे बताया कि कोई समस्या नहीं है कि सब कुछ ठीक रहेगा तीन दिन पहले, कि मेरा पूर्व तीन दिनों से पहले मेरे पास वापस आ जाएगा, उसने दूसरे दिन में जादू और आश्चर्यजनक रूप से डाला, यह लगभग 4 बजे था, मुझे बहुत पहले आश्चर्य हुआ, मैं बहुत हैरान था, मैंने फोन का जवाब दिया और उसने कहा कि वह जो कुछ हुआ उसके लिए खेद है, कि वह मुझे इतना प्यार करता है। मैं बहुत खुश था और तब से उसके पास गया, मैंने वादा किया है कि किसी को पता है कि रिश्ते की समस्या है, मैं उसे एकमात्र असली और शक्तिशाली जादू कैस्टर बनने में मदद करना चाहता हूं जिसने मुझे अपनी समस्या से मदद की और कौन है वहां सभी नकली लोगों से अलग किसी को भी जादू कैस्टर की मदद की आवश्यकता हो सकती है, उसका ईमेल: AKHERETEMPLE@gmail.com
    या
    कॉल / व्हाट्सएप: +2349057261346 अगर आपको अपने रिश्ते या कुछ भी मदद की ज़रूरत है तो आप उसे ईमेल कर सकते हैं। अब तक अपनी सभी समस्याओं के समाधान के लिए संपर्क करें
    AKHERETEMPLE@gmail.com
    या
    कॉल / व्हाट्सएप: +2349057261346

    जवाब देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव