सोमवार, 9 फ़रवरी 2009

देव डी-देवदास,पारो और चन्दा के आधुनिक (कु )रूप -नयी बोतल में पुरानी शराब !

अभी कल ही देखी यह फिल्म .बच्चों के साथ इसे देखने ना जाय ! नहीं तो आँखें परदे के बजाय जमीन पर गड़ी रह जायेंगी ! फिल्म के निर्देशक हैं अनुराग कश्यप और उन्होंने डैनी बोयेल को विशेष धन्यवाद दिया है -वही स्लम / दाग वाले डैनी बोयल ! कहानी बिल्कुल वही पुरानी देवदास वाली ही है -चरित्र भी वही हैं पर पृष्ठभूमि समकालीन है -अंतर्जाल और पोर्नो साहित्य ,दिल्ली की सोशल सेक्स वर्कर्स का दुश्चक्र और विकृत सेक्स का खुला खेल मन को क्लांत करता है -फ़िल्म के कई दृश्य वस्तुतः बेहद अश्लील हैं लेकिन यह फिल्म एडल्ट है यह प्रत्यक्षतः घोषित नहीं है !
मैं तो टाईम्स आफ इंडिया के समीक्षक द्वारा पाँच स्टार में पाँचों दिए जाने के झांसे में फिल्म देखने चल पडा ! अभी उधेड़बुन में हूँ कि इसे कितने स्टार वास्तव में मेरे हिसाब से दिए जाने चाहिए -मगर पाँच तो कदापि नहीं ! फिल्म ने गांधीगीरी की ही तर्ज पर एक नही भाव शब्दावली लांच की है जो चल निकलेगी -इमोशनल अत्याचार !
अब इमोशनल अत्याचार क्या है इसे समझने बूझने के लिए आप इस फिल्म को देख सकते हैं !
कहानी तो अंतर्जाल पर मिल ही जायेगी !

16 टिप्‍पणियां:

  1. " कल अचानक इस फ़िल्म को देखने जाते जाते रह गये.....पाँच स्टार मिले है तो सोचा देखने लायक होगी,...अच्छा ही हुआ नही गये...आभर इस फिल्म के बारे मे आपने विचारों से कराने के लिए .."

    Regards

    उत्तर देंहटाएं
  2. यहाँ 'आबू -धाबी' क्षेत्र में फ़िल्म-' फैशन 'भी खूब कांट छाँट कर भी 'PG-१५' श्रेणी में ही दिखायी गई थी.
    इस लिए कोई भी फ़िल्म[जनरल श्रेणी की] सपरिवार देखने अगर जायें तो इस बात का डर नहीं रहता की उस के सीन 'कैसे' होंगे. क्योंकि उस में भी कांट छाँट हो चुकी होती है.
    इस फ़िल्म के review देख कर वैसे भी इच्छा नहीं थी इस फ़िल्म को देखने की.आप ने बता दिया तो अब ध्यान रखेंगे की yah film C D में भी घर में न आए.धन्यवाद.

    उत्तर देंहटाएं
  3. इसके बारे में जानकारी देने के लिए शुक्रिया बच गए इसको देखने से :)

    उत्तर देंहटाएं
  4. पहले तो इसकी जानकारी ही नहीं थी अब आपने बता दिया तो उत्‍सुकता सी है...चलिए कभी टी.वी. पर
    आई तो देख लेगें...!

    उत्तर देंहटाएं
  5. रेटिंग तो यहाँ भी टाईम्स ने ५ स्टार की दी है । वैसे हमने मन बनाया तो है देखने का ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. फ़िल्म देखी नहीं, देखूंगा भी नहीं.
    पुराने देवदास, पारो, चन्दा जेहन में बने हैं, बचे हैं - वो गुम हो गये तो कैसे ढूंढ़ पाउंगा उन्हें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. शुक्रिया...........संभल कर जायेंगे देखने, अगर गए तो

    उत्तर देंहटाएं
  8. अरे वाह सर.. आपने भी रिव्यू लिखा है... हमारा तो आप पढ़ ही चुके है.. पर आपसे सहमत हू.. फिल्म दो किरदार लिए हुए है..

    उत्तर देंहटाएं
  9. अरविंद जी, थिएटर गए महिने हो चुके हैं। लेकिन फिल्में देख लेता हूँ। पर कीचड़ परोसने की तो सारे मीडिया की आदत सी हो गई है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सर जी ...यह आदत हमको ५-६ साल पहले ही लगी थी ...... पर जल्दी ही गलती का एहसास हो गया , इसलिए अब कम ही जाते हैं , समझिये न के बराबर !!!
    आप लोगों के रिव्यू पढ़ कर ही चर्चा करने की कोशिश करते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  11. हमें तो समझ ही न आया सन्दर्भ! आउट ऑफ रीच!

    उत्तर देंहटाएं
  12. इसलिए रुके हुए है की अकेले देखने जायेगे .फिलहाल किसी दोस्त को ढूंढ रहे है....

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत धन्यवाद जानकारी के लिये.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  14. अर्विन्द जी आज कल कोन सी फ़िल्म है जो बच्चो के संग देखी जाये???? कोई एक बता दो, नही हम ने तो कई साल से फ़िम देखना ही बन्द कर दिया, घर पर ४,५ सॊ डी वी डी पडी है, लेकिन सभी फ़िल्मे पुरानी है, कुछ नयी है, जो हम खुद नही देख सकते तो बच्चो को क्या दिखाये.
    आप का धन्यवद, गन्दगी देखने से बचा लिया, शायद यह पांच सितारे देख कर कही पंगा ले बेठते.

    उत्तर देंहटाएं
  15. देव डी, यानी ब्‍लॉग जगत का इस सप्‍ताह का सबसे चर्चित विषय।

    अब लगता है इसे देखना ही पडेगा।

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव