शनिवार, 28 सितंबर 2013

वर्धा सम्मलेन:कुछ बचा खुचा ,द लास्ट सपर और क्वचिदन्यतोपि! (समापन किश्त )

 किश्तें -पहली ,दूसरी ,तीसरी ,चौथी , पांचवीं और अब आगे पढ़िए आख़िरी किश्त..........
अब सिद्धार्थ शंकर जी का अनुरोध कि जो कुछ बचा खुचा  है उसे भी मैं पूरा कर दूं को आखिर कैसे अनदेखा कर सकता हूँ ? इनके बारे में कवि गोष्ठी में मैंने कहा था " तात जनक तनया यह सोई धनुष जज्ञ जेहिं कारण होई " :-) चलिए कुछ और यादगार बातें आपसे साझा कर लेता हूँ . कुलपति महोदय -विभूति नारायण राय जी के स्नेहिल सानिध्य ने मन को गहरे छुआ .उनके बारे में थोड़ी चर्चा पहले भी हो चुकी है। एक व्यक्ति के रूप में वे बहुत सहज हैं और प्रतिभाओं को प्रोत्साहित करते रहते हैं .भारतीय पुलिस सेवा ने इन्हें एक वह दृष्टि भी दी है जिससे एक नज़र में ही लोगों को पहचान लेते हैं . मैंने इनकी इस क्षमता का साक्षात किया है और चकित हुआ हूँ! इस बार मिलते ही इन्होने मुझसे एक शख्स के बारे में पूछा और मैंने बता दिया कि वे उस शख्स के बारे में बिलकुल सही थे. मैं चूँकि इस मामले में बचपन से ही बड़ा बोदा हूँ -बहुत ही जल्दी लोगों का विश्वास कर लेता हूँ , प्रभावित हो जाता हूँ और धोखे खाता हूँ . काश मुझे भी राय साहब जैसी दृष्टि मिली होती तो जीवन के कितने कटु अनुभवों से बच गया होता .
 सूत्रधार  सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
सम्मलेन की दूसरे दिन राय साहब हम लोगों को नजीर हाट ले गए .वर्धा विश्वविद्यालय परिसर के भीतर हर जगहं एक विशिष्ट सा सौन्दर्य बोध और कलात्मकता बिखरी हुई है . हर्षवर्धन की निगाह ने भी इसे कैद किया है . नजीर हाट में कुलपति जी के सौजन्य से लोगों ने -संतोष त्रिवेदी ,अन्ना भाई , सिद्धार्थ जी सभी ने कुछ खाया पीया - मुझे एक मिठाई जिसे वहां गोरस कहा जा रहा था और हम लोगों की तरफ बनारस में नान खटाई कहते हैं पसंद आयी . मनीषा को काली चाय की तलब थी मगर वो मिली नहीं -याद नहीं उन्होंने कुछ खाया भी या नहीं . कुछ मित्रों ने दूध भी छक के पिया मगर मैंने मना कर दिया कि अब दूध पीने की मेरी उम्र न रही . सबके खा पी लेने के बाद कुलपति महोदय ने दुकानदार से कहा कि अभी तो मेरी जेब में पैसे ही नहीं हैं -तुम हिसाब भेज देना कल भिजवा देगें . दुकानदार बहुत कातर भाव में आ गया -"नाथ आज मैं काह न पावा" की भाव भंगिमा बन गयी उसकी -मैंने कहा कि ऐसे दानिशमंद तुम्हारी दुकान पर बार बार आयें और उधार करें तो तुम्हारा सचमुच उद्धार हो जाय .
राय साहब ने अपने आवास पर एक रात्रि भोज पंचायत आख़िरी दिन को आमंत्रित किया उसमें सिद्धार्थ एवं रचना त्रिपाठी जी ,इष्टदेव सांकृत्यायन , मनीषा पाण्डेय और यह खाकसार भी था . यह वर्धा का हमारा आख़िरी सपर ( दिन का आख़िरी खाना) था . भोजन के पूर्व लैंगिक भेद विमर्श के साथ तुलसी की भी अनाहूत चर्चा शुरू हो गयी . मनीषा को इस बात पर आश्चर्य था कि आज भी क्यों हिन्दी के विभागों में अन्य कितने विषयों के बजाय (अब जैसे लैंगिक विभेद ही ) तुलसी पर शोध जारी है . मैं तो तुलसी भक्त हूँ तो हठात अपनी उग्र प्रतिक्रिया को रोका -मनीषा, अब मैं आपको कैसे समझाऊँ राम चरित मानस एक अनुपम विश्व साहित्य है, मगर इसका भान बिना पढ़े नहीं हो सकता -आज के अनेक युवा अपने देशज समृद्ध साहित्य की उपेक्षा कर पश्चिमी साहित्य पर लहालोट होते रहते हैं . गांधी जी ने अपने देशज साहित्य का विपुल अध्ययन किया था और पश्चिमी साहित्य का भी खूब अनुशीलन किया था . मुझे लगता है पश्चिमी जीवन दृष्टि और भारतीय जीवन दर्शन के बीच का एक संतुलन अधिक उपयुक्त है .
फिर वी सी साहब का वह बहुश्रुत छिनाल प्रसंग छिड़ गया -हिम्मती मनीषा ने सपाट और बेबाक पूछ लिया कि कोई नारी अगर सौ पुरुषों के साथ हम बिस्तर होती भी है तो किसी को क्यों आपत्ति होनी चाहिए? वातावरण तनिक असहज सा हुआ . राय साहब ने पूरे प्रसंग को स्पष्ट किया -यह बात भी आई कि छिनार शब्द का अंग्रेजी में गलत अनुवाद "वैश्या' हो गया और व्यर्थ का हो हल्ला मचा -एक बार फिर सबने छिनार/छिनाल शब्द की सोदाहरण व्याख्याएं की -मैंने कहा यहाँ जेंडर भेद नहीं है क्योंकि पुरुष के लिए भी समानार्थी शब्द छिनार है . बहरहाल गर्मागर्म चर्चाओं के बाद गर्मागर्म और घर के बने सुस्वादु भोजन ने सभी को संतृप्त किया -चिकेन का प्रेपरेशन मनीषा का ख़ास पसंद था . बीती रात चेले संतोष ने इसका रसास्वादन किया था तो गुरु का भी इसे चखने का फर्ज बनता था , शाकाहारी व्यंजन भी बहुत सुस्वादु बने थे . खान पान को लेकर मेरा कोई विशेषाग्रह नहीं मगर सार्वजनिक तौर पर शाकाहार पसंद करता हूँ ! त्रिपाठी दंपत्ति तो गांधियन शाकाहारी/अन्नाहारी हैं। मुझे याद नहीं सांकृत्यायन जी ने क्या खाया था? मगर जब रात साढ़े दस बजे हम सभी को कुलपति महोदय ने विदा किया तो सभी के चेहरे पर एक चिर संतृप्ति का भाव था . विचारों के साथ ही पेट को भी पर्याप्त और रुचिकर भोजन मिल गया था .
अब बस!

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत रोचक रहा वर्धा आपका सम्पूर्ण वर्धा संस्मरण.

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब भी 'बस'
    पांच के लिए
    'कार' ही काफी है
    'चाय' नहीं बतलाई
    जिसका स्‍वाद
    अभी बाकी है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. गो रस पाक और दूध-कॉफी का भुगतान कुलपति जी के साथ आए सुरेश शर्मा जी ने तुरत वहीँ करवा दिया था.आप का ध्यान कॉफी सुड़कने में लगा था.
    वास्तव में कुलपति जी ने बड़ी सहृदयता दिखाई !आयोजकों को पुनः धन्यवाद !

    उत्तर देंहटाएं
  4. पुस्तक कब छप रही हैं ?, ग्रांट के विषय में तो काफी बात चीत हुई थी :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. अच्छा है आपने सब समेट लिया तो हमें भी पूरी रिपोर्ट मिल गयी :)

    उत्तर देंहटाएं
  6. पुरुष छिनार ही नहीं बाँझ भी होता है और मानस में -

    नारी स्वभाव से कम बुद्धि वाली होती है शिव जी ने पार्वती को कहा है क्योंकि वह भगवान् राम की

    स्तुति अपने पति को करते देख संतुष्ट नहीं हैं। वह आम की शक्ति पर शक करतीं हैं सीता बन उनकी परीक्षा लेती हैं किन्हीं साधारण अर्थों में तुलसी नारी की हेटी नहीं करते हैं।

    वर्धा प्रसंग संपन्न हुआ पूरी कुलीनता के साथ। आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  7. इष्टदेव जी भोजन के मामले में शाकाहारी ही हैं।
    आपने भले ही समापन कर दिया हो लेकिन इसकी घोषणा नहीं करनी चाहिए थी।
    एक आशा बनी रहती।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वार्ता का निष्कर्ष क्या रहा , सहमति /असहमति पर भी कुछ पढने को मिलता। यूँ तो पुराने दुखद बिसराना ही उचित है !

    उत्तर देंहटाएं
  9. एक मँजे हुए लेखक की तरह आपने एक -एक दृश्य को ध्यान से देखा,परखा और लिखा, बडी धार है आपकी क़लम में, धनपत राय की तरह ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाकई! गौरवान्वित गोष्ठी ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. यह पूरी शृंखला आज ही पढ़ी। महात्मा गांधी अंतराष्ट्रीय विवि में मेरा भी चयन हुआ था, मगर फिर मैं बनारस चला गया। आपकी नज़रों से वहाँ के सम्मेलन का साक्षी बना। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  12. आज ही संपूर्ण रिपोर्ट पढ़ पाया, ब्लॉगजगत की इतनी विभूतियों का एक साथ उपस्थित होना अवश्य ही अच्छा अनुभव रहा होगा।

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव