रविवार, 9 दिसंबर 2012

Sunset from Ganges Rajghat Bridge top,Varanasi.



21 टिप्‍पणियां:

  1. राजघाट पर कृष्णमूर्ति ट्रेल के अनुभव पर निर्मल वर्मा ने लिखा है।

    यहाँ की पत्थर की बेंच पर बैठा हुआ गंगा को देखता हूँ तो केवल गंगा नजर आती है हजारों साल की खुली खिली स्मृति, हवा चलने पर आखिरी साँस पर अटके पत्ते मुक्त हो जाते हैं शायद मृत्यु भी इसी तरह शांत आती हो लेकिन बताने वाला हमेशा के लिए कालसरिता में बह जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  2. गंगा मैया के साथ सूर्य अस्त का अद्भुत संजोग प्रणाम ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. अनिन्द्य सौंदर्य पर ... डूबती शाम मुझे, हमेशा उदास करती है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. अति सुन्दर दृश्य ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मोबाइल ब्लॉगिंग शुरु करने की बधाई!

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव