सोमवार, 20 अगस्त 2012

ईद मुबारक!


दोस्तों,हमारे पास सहिष्णु साहचर्य के बिना और कोई चारा नहीं है -हिन्दू मुस्लिम सिक्ख ईसाई सभी को भारतीय जीवन की इस सच्चाई को समझना होगा... यह देश हम  सभी का और हम  सब इस देश के हैं.. अब यह विवशता है तो एक धुर सच्चाई भी है -हम इससे अगर मुंह चुरायेगें तो नुक्सान अपना करेगें ..हर तरह का नुक्सान, जानोमाल का नुक्सान जो आगामी पीढ़ियों तक को भी ग्रसित करेगा... जिम्मेदारी  सभी कौमों के सरपरस्तों और समझदार लोगों की है कि वे इस सच्चाई से सबको आगाह करते रहें ....आज हमारे बहुत से साथियों की ईद मनाने की इच्छा नहीं है ..कल किसी को होली दिवाली मनाने की इच्छा नहीं रहेगी ...एक आजाद और बहुरंगी संस्कृति के देश के लिए इससे बड़ा दुर्भाग्य और क्या हो सकता है ...देश का संविधान धर्मनिरपेक्ष बनाये जाने के पीछे के गहन विचार मंथन को ऐसे ही कारणों में देखा और समझा जा सकता है ......आईये क्या हिन्दू क्या मुस्लिम सभी को आगे बढ़ कर ईद की शुभकामनायें दें और जम कर सेवईयां जीमें :-) 
लगता है आज तो इतने से चल जाएगा ...कोई जरुरी तो नहीं कि हर पोस्ट एक  निश्चित सीमा के मापदंड हलांकि अघोषित, तक पहुँच ही जाए ....बात कभी कभी संक्षिप्त ही भली लगती है और संक्षिप्त बातें प्रायः सारगर्भित भी होती हैं -वो कहते भी हैं कि संक्षिप्ति वक्तृता/वाक्पटुता की आत्मा है ....तो आज इतना ही ..एक बार फिर आप सभी को ईद मुबारक हो! 

23 टिप्‍पणियां:

  1. सामाजिक समरसता और आपसी भाई -चारा पर बेहतरीन लेख |ईद मुबारक हो सर

    उत्तर देंहटाएं
  2. 'हमारे पास सहिष्णु साहचर्य के बिना और कोई चारा नहीं है.'
    -मजबूरी है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये जहर उगलते लोग तुम्हे
    आपस में, मरवा डालेंगे !
    ना हिन्दू हैं,ना मुसलमान
    ये मानवता के दुश्मन हैं !
    पहचान करो शैतानों की, जो हम दोनों के बीच रहें !
    तू आँख खोल पहचान इन्हें,जयचंद बहुत दिख जायेंगे !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही शानदार और सराहनीय प्रस्तुति....
    बधाई

    इंडिया दर्पण
    की ओर से ईद की बहुत-बहुत शुभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  5. हम तो जाते हैं लन्दन में अपने मुस्लिम दोस्तों के घर सेवइयां खाने.
    ईद मुबारक.

    उत्तर देंहटाएं

  6. ईद,होली संग मनाएं,
    काश ऐसा दिन बनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  7. ईद होली दिवाली .सब एक से रंग लगते हैं मुझको .ईद मुबारक ...लेख अच्छा लगा .

    उत्तर देंहटाएं
  8. सबको समाहित कर रहना सीखना होगा..

    उत्तर देंहटाएं
  9. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. सबको सम्मति दे भगवान.ईद मुबारक.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः
    सर्वे भद्राणि पश्यन्तु मा कश्चित् दुःख भाग भवेत

    उत्तर देंहटाएं
  12. पड़ोस के कुछ मक्कार लोगों ने दिलों में इतनी नफरत घूल दी है कि अब
    "यह देश हम सभी का और हम सब इस देश के हैं."
    ये पंक्ति बेमानी लगती है. देश के लिए हम ही करें जो करें, बाकि तो सब तोड़-फोड में विशेषज्ञता प्राप्त कर चुके हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहरहाल ईद मुबारक.

    आज सुबह पार्क गया था तो नमाज़ी प्रस्सन चित्त नमाज़ पढ़ने जा रहे थे, मन बहुत खुश हुआ उनकी खुशी देख कर...
    सोच रहा था पोस्ट लिखने की, पर नहीं लिख पाया.... काश मुल्क की सलामियत की दुआ के लिए हाथ उठे होते,

    कसम से रामजान के बाद खुदा भी खुले दिल से नियाम्नते लुटाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. लगता है, पहली वाली टीप स्पैम में चली गयी, डाक्साब हो सके तो निकाल लाइयेगा.

    आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  15. शुभकामनायें सभी को..... हमारी एकता से बढ़कर कुछ नहीं....

    उत्तर देंहटाएं
  16. अमन चैन से खुशियों का त्योहार बीत गया -सकूं मिला ! सेवईयां तो आज भी मिलाती रहेगीं!
    आमीन!

    उत्तर देंहटाएं
  17. मीठी सेंवईयों पगी ईद की शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  18. @ अमन चैन से -

    http://in.jagran.yahoo.com/news/national/general/5_1_9582987.html

    वैसे हमने तो कल सेंवई खाकर अपने स्तर पर ईद मना ली थी, ईद मुबारक|

    उत्तर देंहटाएं
  19. ईद की बहुत बहुत मुबारक ... सही सन्देश देती आपकी पोस्ट ...

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव