शुक्रवार, 9 अगस्त 2013

आप चल रहे हैं न वर्धा?

वर्धा में महात्मा गांधी हिन्दी विश्वविद्यालय के तत्वावधान में ब्लागिंग पर एक और सेमीनार ( 2 0 -2 1 सितम्बर, 2013) का बिगुल बज चुका है। ब्लागरों से मौलिक और अभिनव विषयों के प्रस्ताव मांगे गए हैं जिन्हें एक कमेटी के सामने रखा जायेगा और उसी आधार पर प्रतिभागियों का चयन होगा . ऐसा इसलिए किया गया है क्योकि प्रतिभागियों के चयन को लेकर प्रायः हो हल्ला मचता रहा है। मुझे कोई आश्चर्य नहीं कि अब प्रतिभागियों की संख्या में बड़ी गिरावट आ जायेगी . लोग ऐसे मामलों में यहाँ प्रायः गंभीर नहीं है -सब चाहते हैं उन्हें बस ससम्मान आमंत्रित कर लिया जाय और किसी सत्र में कुर्सी आफर कर दी जाय . किसी भी सेमीनार आयोजन के नियम कायदे होते हैं . यहीं नहीं, पूरी दुनिया में ऐसा है -मगर हिन्दी के ब्लागर ऐसे किसी अनुशासन को नहीं मानते हैं . जाहिर है अभी भी इस सेमीनार के संयोजक सिद्धार्थ जी के पास ठोस प्रस्तावों की कमी होगी .

मुझे लगता है ऐसे आयोजनों में हम जैसे पुरायटों और गुरु घंटालों के बजाय नई पीढी के प्रतिभावान ब्लागरों को भाग लेने के लिए प्रेरित किया जाना चाहिए . उन्हें सीखने की जरुरत ज्यादा है -उनमें विचार परिवर्तन , दृष्टिकोण शैथिल्य की गुंजायश भी ज्यादा है . उनके पूर्वाग्रहों को उपयुक्त परिवेश से दूर करने की संभावनाएं और इस तरह दृष्टिकोण को व्यापक फलक देने के अवसर अधिक हैं . मेरी यह पोस्ट उन्ही के लिए है . अनुरोध सभी से है कि कृपया इस पोस्ट की चर्चा अपने संपर्क के नए ब्लागरों से जरुर करें . और अगर आपके यहाँ पांच वर्ष से अधिक का समय हो चुका है तो खुद के  बजाय किसी नए संभावनाशील ब्लॉगर को सेमीनार में जाने को ज्यादा प्रोत्साहित करें . मैंने कुछ नए ब्लागरों से बात की है . मगर यह इतना आसान भी नहीं है . नए ब्लागरों का भी अपना एक एट्टीच्यूड होता है और पुरानी पीढी के प्रति उनकी कई वाजिब शंकाएं और अविश्वास होते हैं . और उन्हें मदद भी चाहिए . गाईडेंस भी चाहिए .
नए ब्लागरों तक अगर मेरी बात पहुँच जाए यो सबसे पहले वे इसकी परवाह किये कि उनका प्रस्ताव सेमीनार के लिए स्वीकृत हो पायेगा या नहीं अपना स्लीपर श्रेणी का रिजर्वेशन तो  करा ही लें -क्योंकि अब समय बहुत कम बचा है . अगर उनका प्रस्ताव सम्मिलित हो भी गया तो बहुत संभव है उन्हें जाने का टिकट ही न मिल पाए . और न हुआ तो स्लीपर क्लास के टिकट कैंसिल कराने में कोई ज्यादा आर्थिक नुक्सान नहीं है . अगर उनके पास कनफर्म्ड टिकट है तो प्रस्ताव स्वीकृत होने पर बल्ले बल्ले. कभी भी किसी सेमीनार में जाने का मकसद कुछ सीखना होना चाहिए न कि विचार आरोपण . यह संकल्प लेकर ही जाना चाहिए .

अब सवाल है कि विषय प्रस्ताव क्या हो? बहुत से विषय हैं . मगर आपको तो कुछ मौलिक सोचना है .हिन्दी ब्लागिंग की यात्रा कथा दशक पुरानी हो चुकी है . हम पुरायटों को लगता है कि जो उत्साह शुरू में था अब उसकी तुलना में ब्लागिंग में आधा उत्साह भी नहीं रहा . तो क्या हिन्दी ब्लागिंग चुक चुकी है? साहित्य के लोग पहले ही इस विधा का उपहास उड़ा रहे थे! क्या उनकी फब्तियां सच हो रही हैं? क्या सचमुच ब्लागिंग दोयम दर्जे का साहित्य है या यह साहित्य है ही नहीं? या यह कोई विधा ही नहीं है बस एक माध्यम भर है? क्या पारम्परिक साहित्य की विधाओं के लिए ब्लागिंग में कोई स्कोप नहीं है? मगर लगता तो ऐसा नहीं है -कवितायें तो यहाँ खूब फल फूल रही हैं . मैंने पिछले दिनों बहुत अच्छी कवितायें पढी हैं . मगर ज्यादातर कूड़ा करकट ही हैं यह बात भी सही है . मगर ऐसे आकलन का नजरिया भी सापेक्ष / विषयनिष्ठता लिए हो सकता है. .
तकनीक की ब्लागिंग/ब्लागिंग की तकनीक और अन्यान्य विषयों पर कंटेंट आधारित पोस्ट में आपकी अभिरुचि क्या है? आपको ब्लागिंग में क्या समस्यायें दिखती हैं? क्या ब्लागिंग सचमुच अभिव्यक्ति का एक खुला माध्यम है? इस पर नियंत्रण होना चाहिए क्या ? अगर हाँ तो उस नियंत्रण की सीमाए क्या होनी चाहिए? क्या आप इसे एक सशक्त वैकल्पिक मीडिया के रूप में उभरता देख रहे हैं या फिर यह हाशिये पर ही रह जाएगी? वैयक्तिक अभिव्यक्ति बनाम सामूहिक अभिव्यक्ति में आप इसे किस रूप में अधिक समाजोपयोगी पाते हैं -ब्लागिंग के सामजिक सरोकार क्या हो सकते हैं? यह किस तरह समाज के किन किन पहलुओं को लाभान्वित कर सकता है . यह क्या पारम्परिक मीडिया की कभी बराबरी कर पायेगा ? उनके सामने सीना ठोक खड़ा  हो सकेगा? क्या यह नागरिक पत्रकारिता के रूप में सशक्त बन पायेगा? ब्लागिंग को कैसे करियर के रूप में विकसित किया जा सकता है?युवाओं के सामने करियर  एक बड़ा प्रश्न है? क्या इस रचनात्मक विधा को अर्थोपाजन से जोड़ कर देखा भी जाना चाहिए?
क्या कहा आपको इनमें से कोई सवाल रुचिकर नहीं लग रहा है? तो अपना कोई अभिनव प्रस्ताव दीजिये न? हाँ ऊपर तो एक झलक भर है -वस्तुतः ब्लागिंग का फलक अभी भी बहुत कुछ अनदेखा /वर्जिन ही है!बहुत संभावनाएं हैं! कोई भी पहलू आपको प्रेरित कर सकता है और आप अपना प्रस्ताव भेज सकते हैं। बाकी विवरण यहाँ  और यहाँ देख ही सकते हैं! अगर अभी भी आपको कोई विषय समझ में नहीं आया तो शायद आप अभी ऐसे किसी सेमिनार में प्रतिभाग के योग्य नहीं हुए! और यह पोस्ट आपको कुछ भी प्रोत्साहित कर गयी है तो स्वागत है आपका ! आपसे वर्धा में मुलाक़ात होगी अगर चयन समिति ने मेरे भेजे विषय को अनुमोदित कर दिया . मैंने अपना विषय प्रस्ताव पहले ही भेज दिया है - ब्लागिंग: माध्यम बनाम विधा और साईंस ब्लागिंग पर भी एक दो दिन में एक प्रस्ताव भेजने वाला हूँ ! मतलब जाने की सम्भावना को अपनी ओर से दुगुनी कर चुका हूँ! बाकी आयोजकों की मर्जी!

53 टिप्‍पणियां:

  1. आशा है कंट्रोवर्सी पर नकेल लगेगी

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप ऐसी दिल बैठाने वाली बात क्यों कर रहे हैं? कन्ट्रोवर्सी को आने मना तो नहीं किया गया है आयोजकों द्वारा। :)

      हटाएं
    2. कन्ट्रोवर्सी को आने से मना तो नहीं किया गया है...

      हटाएं
  2. उत्तर
    1. शुभकामनाएं काहें की सतीश भाई ?

      हटाएं
    2. @ मतलब जाने की सम्भावना को अपनी ओर से दुगुनी कर चुका हूँ! बाकी आयोजकों की मर्जी!

      हटाएं
    3. आपको निमंत्रण मिले अतः शुभकामनायें अरविन्द भाई !

      हटाएं
    4. आप नहीं चल रहे क्या ? ऐसा गज़ब न करिए !

      हटाएं
  3. आपने नये ब्लॉगरों को काफी लीड (सूत्र) थमा दिए हैं।

    मैं एक बात की ओर ध्यान दिला दूँ कि यह सेमिनार केवल ब्लॉग पर नहीं है बल्कि इंटरनेट पर अभिव्यक्ति के लिए प्रयोग की जा रही तमाम सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर भी हिंदी माध्यम की अभिव्यक्ति के संबंध में चर्चा करने के लिए आयोजित किया जा रहा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज की बुलेटिन काकोरी कांड की ८८ वीं वर्षगांठ और ईद मुबारक .... ब्लॉग बुलेटिन में आपकी पोस्ट (रचना) को भी शामिल किया गया। सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की तरह ब्लागिंग एक मंच बन गया है जहां कोई हाई कमान नहीं है यह अच्छी बात है आगे बढ़ने के लिए हाय हल्ला और विमत भी ज़रूरी है। पब्लिसिटी सबको चाहिए वर्धा हो या सरदा। ॐ शान्ति

    उत्तर देंहटाएं
  6. अद्यतन करने के लिए आभार। सद्य -स्नाताएं साड़ी आपके पास रहतीं हैं। बढ़िया अपडेट।

    उत्तर देंहटाएं
  7. आप हमें आने को उकसा रहे हैं कि मना कर रहे हैं, हम किस श्रेणी में आते हैं, प्रभो?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मैं तो आपसे पहले ही अनुरोध कर चुका हूँ।

      हटाएं
    2. प्रवीण जी आपका पहुंचना तो फाइनल मान रहा हूँ

      हटाएं
  8. हार्दिक बधाईयां और अनंत शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रतिभागियों की संख्या कम होगी तो गुणवत्ता क हिसाब से शायद बेहतर ही होगा। गंभीर ब्लॉगर्स बहुत हैं भी नहीं। विश्वास है इस महामंथन से कुछ अच्छा निकल कर आयेगी। विस्तृत रिपोर्ट्स की बेसब्री से प्रतीक्षा रहेगी।
    आपकी संभावनाओं पर आयोजकों की मर्जी.., सिद्धार्थ जी महती जिम्मेदारी का ईशारा कर ही चुके हैं:) सतीश भाईजी शुभकामनायें दे चुके हैं, मैं बधाई देता हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप भी न चलिए न -क्या है रखा है दो टकिया नौकरी में :-)

      हटाएं
    2. हमारी ओर से भी बधाई स्वीकारिए!

      हटाएं
    3. ढेर जोगी मठ उजाड़ :)
      कम है तो बेहतर है.

      हटाएं
  10. ऐसे आयोजनों से ब्लागिंग और समृद्ध होगी, जो भाग ले रहे हैं उन्हें पूरी तैयारी से अपनी बात रखनी चाहिए और अगर दूसरों का अनुभव भी वह वहाँ शेयर करें तो भी अच्छा होगा क्योंकि मैं तीन सालों में देखा है यह माध्यम लगातार दरकता जा रहा है जबकि फेसबुक में लिखने वालों की नई प्रजाति खड़ी हुई है। ऐसे बौद्धिक और लोकप्रिय मंचों में अगर ब्लागिंग के पक्ष में आवाज उठे तो इसकी बेहतर तस्वीर बनेगी।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अब आप भी कन्नी काट रहे हैं क्या ?

      हटाएं
    2. आप हमारी प्रतिनिधि आवाज हैं

      हटाएं
    3. ये तो सब टाल मटोल के फिकरे हैं :-(

      हटाएं
  11. बढिया। अग्रिम बधाईयाँ :)

    सिद्धार्थ जी को और सभी आयोजकों / participants को शुभकामनायें। :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अब आप क्यों शुभ सन्देश दे रही हैं -चलना है न!

      हटाएं
  12. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (11-08-2013) के चर्चा मंच 1334 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  13. आदरणीय सर्व प्रथम आपको हार्दिक बधाई आप अपने जाने की सम्भावना अपनी ओर से दोगुनी कर चुके हैं, आपका चिंतन बिलकुल सटीक एवं सत्य है. जहाँ तक आप नए ब्लॉगर की है तो आदरणीय नए ब्लॉग अब हैं कहाँ दो चार दिन ब्लॉग्गिंग करते हैं और फिर उन्हें फेसबुक अपनी ओर खींच ले जाता है और ब्लॉग्गिंग समाप्त. नए रचनाकारों को ब्लॉग से कहीं अधिक फेसबुक लुभावना लगता है आखिर क्यों?
    क्या केवल इसलिए क्यूंकि फेसबुक पर लाइक, बहुत अच्छे, बहुत सुन्दर, बहुत खूब जैसी टिप्पणियां और गपशप करने को मिल जाता है?
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. इसी विषय पर चर्चा के लिए वर्धा चलिए न!
      ब्लॉग बनाम फेसबुक

      हटाएं
    2. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

      हटाएं
    3. कोशिश रहेगी आदरणीय यदि कोई अवरोध उत्पन्न न हुआ.

      हटाएं
  14. बहुत अच्छा.
    सफल आयोजन हेतु शुभकामनाएँ.रिपोर्ट की प्रतीक्षा रहेगी.

    उत्तर देंहटाएं
  15. सफल आयोजन के लिए अग्रिम बधाईयाँ और सभी को शुभकामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. हिंदी ब्लॉगिंग का भविष्य उज्जवल हो.
    आयोजन बेहतरीन हो ,बहुत शुभकमनाएं!

    उत्तर देंहटाएं

  17. मिश्र जी ,इस प्रकार का आयोजन तो विचारों के आदान प्रदान के लिए अच्छा है ,अगर पूरा कार्यक्रम का रूप रेखा बता दिया जाय तो सफलता की उम्मीद बढ़ जाती है - अग्रिम सुभ कामनाएं
    latest post नेताजी सुनिए !!!
    latest post: भ्रष्टाचार और अपराध पोषित भारत!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. सीधी बात - आने जाने का खर्च मिले तो हम आने को तैयार हैं :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपने विचार और व्यय प्रस्ताव सिद्धार्थ जी को उपलब्ध करा दीजिये! आपके नेटिव स्थान से थ्री ऐ सी में आना जाना तो हम संस्तुत कर सकते हैं ! :-)

      हटाएं
  19. उम्मीद है सेमिनार से ब्लॉगिंग की गुणवत्ता में और सुधार आये.

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी इस ब्लॉग-प्रस्तुति को हिंदी ब्लॉगजगत की सर्वश्रेष्ठ प्रस्तुतियाँ ( 6 अगस्त से 10 अगस्त, 2013 तक) में शामिल किया गया है। सादर …. आभार।।

    कृपया "ब्लॉग - चिठ्ठा" के फेसबुक पेज को भी लाइक करें :- ब्लॉग - चिठ्ठा

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव