शनिवार, 17 नवंबर 2012

भाग दरिद्दर!

इस बार भी दीपावली पैतृक आवास(चूडामणिपुर, बख्शा  -नौपेडवा,जौनपुर ,उत्तर प्रदेश ) पर मनाने का मौका मिला .सालाना त्यौहार अपने पैतृक आवास पर मनाना मुझे अच्छा लगता है . बड़े मिश्रित अनुभव रहे . पिछले वर्ष से शुरू हुयी बाल रामलीला इस वर्ष  बच्चों के और भी उल्लास के चलते अविस्मरणीय बनी . इस बार का प्रसंग था लंका दहन का . इस प्रसंग में बच्चों ने हनुमान के लंका में प्रवेश, लंकिनी से वार्ता और उसकी मुक्ति ,विभीषण से भेंट ,सीता को रावण द्वारा धमकाना ,हनुमान द्वारा श्रीराम की मुद्रिका गिराना ,उनके  द्वारा अशोक वाटिका का उजाड़ना ,अक्षयकुमार का वध ,मेघनाथ द्वारा हनुमान को ब्रह्मपाश में  बाँधना ,हनुमान रावण संवाद ,लंकादहन और माँ सीता से कोई स्मृति चिह्न माँगना और लौट कर उसे श्रीराम को सौंपना आदि दृश्य बहुत ही बढियां ढंग से अभिनीत किया . 
मातु मुझे दीजे कछु चीन्हा जैसे रघुनायक मोहि दीन्हा 
हनुमान की सर्वश्रेष्ठ भूमिका कर सरिता मिश्र ने प्रथम पुरस्कार जीता 
इस कार्यक्रम के पीछे की सोच यह है कि समाज में श्रेष्ठ सांस्कृतिक और पारम्परिक मूल्यों को अक्षुण बनाने की दिशा में बच्चों से ही इसकी शुरुआत करनी चाहिए -कैच देम  यंग। इस दिशा में बाल रामलीला की शुरुआत एक विनम्र प्रयास भर है . कुछ चित्रों का आप भी दृश्य लाभ उठायें . जागरण ने भी चित्र के साथ खबर छापी .
बाल कलाकार टीम
 निर्देशक कीर्ति मिश्र,दृश्य समन्वयक प्रियेषा मिश्र,पार्श्व ध्वनि - स्वस्तिका, सोनी आदि 


प्रियेषा ने गाँव के बच्चों से घुलमिल कर रावण का पुतला भी बनाया और मुझसे पुतले के साथ अपना फोटो लेने का आग्रह किया . पुतला दहन के बाद  पैतृक  आवास मेघदूत  को सजाने संवारने का काम शुरू हुआ . इस बार हमसभी ने पटाखे से दूरी बनायी मगर चयनित फुलझडियों -अनार ,चरखियां ,स्वर्गबाण अदि आईटमों का मर्यादित प्रदर्शन किया गया -यह काम बच्चों को देने के बजाय आउटसोर्स कर एक प्रोफेसनल आतिशबाज को दिया गया . खूब मजा आया .
आतिशबाजी 

जाप ध्यान भी हुआ,प्रसाद बांटे गए। एक लोक परम्परा के अनुसार दिवाली के दिन अपने व्यवसाय या जो भी काम आप करते हों अवश्य करना चाहिए जिसे 'दिवाली जगाना' कहते हैं कि वह काम आप अगली दिवाली तक निर्विघ्न करते रहें.  इस लिहाज से तो मुझे जो कुछ काम करने थे वे  एक भी नहीं हो पाए,ब्लागिंग भी नहीं :-) सबसे बुरी बात यह हुयी कि मेरे फेसबुक अकाउंट से करीब दो दर्जन मोबाईल  फोटो अपलोड आश्चर्यजनक रूप से गायब हो गए और मुझे विचलित कर गए .कारण अभी तक समझ में नहीं आया ,फेसबुक को  प्राब्लम रिपोर्ट किया मगर अभी तक जवाब नहीं आया है , मतलब मेरी दिवाली नहीं जगी . माता जी ने आँख में काजल इस बार भी घुड़क कर लगा ही दिया यह डरा कर कि अगर नहीं लगवाता तो अगले जन्म में छंछून्दर हो जाऊंगा . मुझे सहसा डार्विन की याद आयी और होठों पर बरबस मुस्कराहट आ गयी . रिवर्स एवोलूशन :-)
भाग  दरिद्दर! 
....देर से सोये ही थे कि  अल्लसुबह नींद कुछ धप्प धप्प ढब ढब की आवाज से खुल गयी .गृहिणी एक प्राचीनतम परम्परा का निर्वहन कर रही थीं हँसियाँ से सूप पीट पीट कर घर के अतरे कोने से दरिद्दर को भागा रही थीं . अब दीवाली की आराध्य देवी लक्ष्मी के आने पर दरिद्दर को घर से बाहर हो जाने की यह प्रतीकात्मक प्रस्तुति कहाँ से अनुचित है! मनुष्य उत्सव- अनुष्ठान प्रेमी है -वह कोई भी अनुष्ठान का मौका ऐसे ही गवाना नहीं चाहता . दरिद्दर भगाने का यह उपक्रम यहाँ पूर्वांचल में बहुत प्रचलित है . गाँव घर की लक्ष्मियाँ सूप पीट पीट कर गृह दारिद्र्य को गाँव से बाहर खदेड़ आती हैं . कहीं कहीं यह उपक्रम एकादशी की रात में करते हैं।

दिवाली की अगली रात से कार्तिक का शुक्ल पक्ष आरंभ हो रहा था सो कार्तिक महात्म्य की एक पर्म्पारा के मुताबिक़ हम सब ने आवला के पेड़ के नीचे सामूहिक भोज भात -आहारा का आयोजन भी किया . बारबीक्यू की तर्ज पर ....

आप सभी के यहाँ से  दुःख -दारिद्र्य भाग जाए दीपोत्सव की यही सर्वतोभद्र कामना है ........

35 टिप्‍पणियां:

  1. पूरा आयोजन का विस्तृत विवरण बहुत अच्छा लगा !
    आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  2. यह तो बहुत सारी घटनाओं का संक्षिप्त विवरण हुआ। रामलीला की विस्तृत जानकारी प्राप्त करने की इच्छा रह गई। पर बिस्वास है कि मिसर जी कभी न कभी पूरी कर ही देंगे।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. दिनेश जी,
      यह कार्यक्रम पूरी तरह बच्चों द्वारा बच्चों के जरिये बाल युवा वृद्ध सभी के लिए है . हाँ बुजुर्गों की अवधारणा है और बच्चों को दिशा निर्देश है .
      बाकी बाल पात्रों का आडिशन -चयन ,रिहर्सल ,संवाद ,सजावट आदि में बच्चों अपनी कल्पनाशीलता दिखाते हैं -कास्ट्यूम में बड़ों की भूमिका अवश्य है ,ज्यादा कोशिश यही रहती है कि बच्चों का हस्तक्षेप कम से कम हो ....पिछले बार सीता स्वयम्बर का दृश्य था ..इस बार लंका दहन
      का प्रसंग था ....बच्चों ने कमाल का अभिनय किया . अगले वर्ष के प्रसंग पर विचार विमर्श चल रहा है ! किमाधिकम?

      हटाएं
  3. उत्कृष्ट प्रस्तुति रविवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं


  4. आप सभी के यहाँ से दुःख-दारिद्र्य भाग जाए दीपोत्सव की यही सर्वतोभद्र कामना है ........
    तथास्तु !
    बहुत अच्छी कामना है पंडित अरविंद मिश्र जी !

    आपको भी
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ
    ♥~*~*~ஜ●दीपावली की रामराम!●ஜ~*~*~♥
    ஜ●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬●ஜ

    रोचक और जानकारी से परिपूर्ण पोस्ट है …
    हमेशा की तरह

    शुभकामनाओं सहित…
    राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  5. ....जैसे आपके दिन बहुरे, वैसे सबके बहुरें !

    उत्तर देंहटाएं
  6. शुक्र है आपके यहाँ ये रीति रिवाजें अभी तक जिन्दा हैं.
    अच्छा लगता है अपनी रूट्स से मिलकर .
    शुभकामनायें .

    उत्तर देंहटाएं
  7. शहरों में तो अब ये रीति रिवाज कम ही मिलते हैं .... अच्छी पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत अच्छी लगी यह पोस्ट।

    दरिद्दर भगाने की परंपरा से संबंधित स्व0 पंडित विद्यानिवास मिश्र जी के ललिल निबंध की याद आ रही है जो कभी पढ़ा था अब भूल चुका हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अपनी परम्पराओं को जीवित रखना बहुत बड़ी बात है.उन सभी बच्चों को बधाई और ढेर सारी शुभकामनाएँ
    रामलीलाएँ तो शायद अब गाँव- कस्बों तक ही सिमटने लगी हैं.
    यह चित्रमय प्रस्तुति अच्छी लगी.
    आंवले के पेड़ के नीचे भोज!नयी जानकारी है.

    उत्तर देंहटाएं
  10. लीला, दीपावली और परंपरा प्रतीकों के बारे में पढ़ना बहुत अच्छा लगा, शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  11. भाग दरिद्दर: जा के स्विस बैंक में जमा हो जा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सांस्कृतिक विरासत को अभी भी संभाला है , जानकर अच्छा लगा .
    दरिद्दर भगाने की प्रथा रोचक है . राजस्थान में रात भर जलने वाले दिए को तडके झाड़ू लगा कर इकट्ठे किये गए कचरे के साथ घर से बाहर रखने का रिवाज़ भी शायद यही संकेत देता है .
    बहुत शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  13. पूरा प्रवास समेट लिया आपने इस एक पोस्ट में.. चित्रों की झांकियां, रामलीला और अंत में भाग दरिद्दर भाग.. मेरी पत्नी भी अभी तक निर्वाह करती हैं इस परम्परा का!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. सांस्कृतिक झलक देखी वार्षिक आयोजन की .एक अच्छी पहल की अच्छी रिपोर्टिंग के लिए आपका आभार .ब्रिज (ब्रज )मंडल के गिर्द भी दिलद्दर भगाने का रिवाज़ है .

    उत्तर देंहटाएं
  15. सोणी पोस्ट।
    हर वर्ष एक प्रसंग या एक कांड का नाट्य रूपांतरण करना भी एक अभिनव प्रयोग लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  16. पैतृक आवास में सामूहिक भोज की परम्परा बनी रहे

    उत्तर देंहटाएं
  17. आने वाली पीढ़ी को संस्‍कार व संस्‍कृति‍ संभाल कर सौंपना हमारा ही उत्‍तरदायि‍त्‍व है

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही अच्छा आलेख जिसमें लोक परम्परा का सुंदर जिक्र भी समाहित है |

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर पोस्ट.....रस्मों रिवाजों से जुड़ी...
    बेहतरीन...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  20. 'लच्छिमी पैठे,दरिद्दर निकसे' हमारे यहाँ भी होता है-बड़े सवेरे ,सूप और चलनी बजा कर .

    उत्तर देंहटाएं
  21. आयोजन की सार्थकता दृष्टिगोचर हुई खुबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  22. पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब
    बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    उत्तर देंहटाएं
  23. अपना-अपना सा आलेख..यही हमारी पहचान है , हमारी खासियत है जिसपर हमें गर्व है . आप सबों को बधाई और शुभकामनाएं ..

    उत्तर देंहटाएं
  24. संस्कृति के तत्वों को समाहित किये आती है आपकी पोस्ट .हम तो सोच के आये थे नै पोस्ट पढेंगे भाई साहब की .शुक्रिया आपकी सद्य टिपण्णी का .

    उत्तर देंहटाएं
  25. संस्कृति के तत्वों को समाहित किये आती है आपकी पोस्ट .हम तो सोच के आये थे नै पोस्ट पढेंगे भाई साहब की .शुक्रिया आपकी सद्य टिपण्णी का .सैंडी सुपर के अलावा इस बरस टोर्नेडोज ने भी बहुत कहर ढाया ,हमारा मिशिगन राज्य बचा रह गया था .मौसमी चक्र टूट रहा है आँखों के आगे .

    उत्तर देंहटाएं
  26. देर से इस पोस्ट पर आने व टिप्पड़ी हेतु क्षमा करेंगे। परंतु इसे पढ़कर अतिशय आनंद आया। बधाई व सुंदर प्रस्तुति हेतु आभार।
    सादर- देवेंद्र
    मेरे ब्लाग पर नई पोस्ट्स-
    कार्तिक पूर्णिमा और अन्नदेवं,सृष्टि-देवं,पूजयेत संरक्षयेत

    उत्तर देंहटाएं
  27. आपकी नवीन पोस्ट प्रतीक्षित है ,टिपण्णी हमारी धरोहर हैं .शुक्रिया .

    उत्तर देंहटाएं
  28. परंपरा की सरल छवि गांवों में अब भी झलकती है।

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव