बुधवार, 3 अगस्त 2011

बम भोले नाथ ,बाब मार्ली और मोबाईल का रिंग टोन

जब भी मेरे मोबाईल फोन का रिंग  टोन बजता है बाब मार्ली का गाया हुआ  अद्भुत विस्मयपूर्ण और श्रद्धाभाव से परिपूर्ण गीत सुनायी पड़ता है....जब यह रिंग टोन पहली बार बेटे ने सुनाया था तो मुझे कुछ पल के लिए नए जमाने के लड़कों की रूचि पर क्षोभ हुआ था मगर जब मैंने एक दो बार इसे सुना तो इसके प्रति समर्पित होता गया ...और ऐसा लगभग सभी मेरे मित्रों के साथ हुआ जिन्होंने मेरे साथ ही इस अद्भुत गीत को अब अपने मोबाईल का रिंग टोन बना लिया है.... 

बाब  मार्ली(6 फरवरी  1945 – ११ मई  1981) ) पर  विकीपीडिया पर पर्याप्त जानकारी है ...फिर भी बताता  चलूँ कि जमैकावासी बाब मार्ली अश्वेत गायकों में एक जानी मानी शख्सियत रहे और बाबा भोलेनाथ के प्रति उनके मन में ख़ास अनुराग था ...वे नेपाल में तो विष्णु के अवतार तक माने गए ...जो वीडिओ यहाँ है उस पर कुछ विवाद है कि उसे बाब के बजाय किसी और ने गाया है ....मगर ऐसी दावेदारियां मशहूर कृतियों के साथ तो होती रहती है ..मैं जब बाब का जीवन चरित पढ़ रहा था तो यह बात मुझे इस महान गायक के प्रति संवेदित कर गयी कि बहुत अल्पकाल में ही और कैंसर से  घोर वेदना और एकाकीपन में इनकी मौत हुई .

इस समय बनारस में बाबा भोले नाथ का ही जलवा चहुँ और है ...सावन (श्रावण ) में बाबा के दर्शन का बड़ा पुण्य माना गया है और खासकर सभी सोमवारों को -सोम अर्थात चन्द्रमा जो शिव के सर पर सुशोभित हैं -तो शिव और चंद्रमा का यह संयोग प्रत्येक सोमवार को ख़ास लाभकारी समझा गया ...ऐसे में बाब मार्ली का का यह गीत और भी अर्थपूर्ण हो उठता है ...आप भी सुने ..पहली बार अच्छा न लगे तो दुबारा तिबारा सुने ..सहसा आपको लगेगा कि आप की रूचि इस अद्भुत गीत में बढ़ती जा रही है -विश्वास न हो तो आजमा कर देखें -आप भी इसे अपना रिंग टोन बनाना चाहेगें! 

46 टिप्‍पणियां:

  1. विदेशी गायक का शिव के प्रति प्रेम अभिभूत कर रहा है , मगर रिंग टोन !!
    पसंद अपनी -अपनी !

    उत्तर देंहटाएं
  2. भक्तिभाव से परिपूर्ण मन से निकला स्वर, अद्भुत।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कृति पर विवाद और कैंसर से मृत्यु ...
    कैसा संयोग है, देखिये यहाँ -http://www.hindustantimes.com/The-mystery-of-Rohan-Rathore/Article1-666703.aspx ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. बच्चों से दोस्ती करने के बड़े फायदे हैं अन्यथा आपको बाब मार्ली के बारे में शायद ही पता चलता, हमने तो अधिकतर जिंदगी एस डी बर्मन सुनते हुए ही काट ली.....
    बहरहाल हमें आपके द्वारा पता चला ...आभार आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपने भावों की अभिव्यक्ति का अपना अंदाज है, हम अक्सर एक झटके में ही किसी को नकार देते हैं; मगर जैसा कि आपने कहा दो-तीन बार सुन लें तो समझ बनने ही लगती है.
    युवाओं की रुचियों और व्यवहार को भी अक्सर नकारात्मक नजरिये से ले लिया जाता है. उनकी फेवरेट लिस्ट में बाबा सहगल से लेकर पं. रविशंकर भी मिलेंगे. यह विविधता पिछली पीढ़ी के किसी व्यक्ति में एक साथ मिलना कठिन है.

    युवाओं के प्रति इसी सोच को मैंने अपने ब्लॉग 'धरोहर' की नई पोस्ट - "देल्ही बेली की कॉपी - पेस्ट नहीं है युवा पीढ़ी" में भी व्यक्त किया है.

    सावन की शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  7. पहली बात तो यह आवाज़ बॉब मार्ली की नहीं लग रही.
    दूसरी यह कि गायन पर वाद्य हावी हैं. असर डालने में प्रभावी नहीं.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बीटल्स का 'Across the Universe - जय गुरुदेव' सुनिए. शानदार गीत!
    http://www.youtube.com/watch?v=SQ_G9ETE21U

    उत्तर देंहटाएं
  9. किसी विदेशी के द्वारा गाया बम भोले पहले बार सुना आपका और आपके बेटे दोनों का आभार ..

    उत्तर देंहटाएं
  10. बाब मार्ली के गेटअप से उत्तर प्रदेश के एक जाने माने हिन्दी ब्लागर की प्रतीति होती है ! इसके अलावा दोनों के भक्तिभाव में एकरूपता तो खैर है ही !

    उत्तर देंहटाएं
  11. grooveshark.कामपर भी गया .यह गीत नहीं किला .लेकिन स्थाई ही धड़कन बनके दिल में उतर गया ,हिमोग्लोबिन में मिल गया .दिल्ली जाकर भतीजे की मदद लूंगा वह दीवाना है विदेशी संगीत का .स्थाई की मुर्कियाँ गज़ब की हैं .जो टिपण्णी कार- इतर राय रखतें हैं वह भी सहीं हैं संगीत व्यक्तिगत रुचि का सौदा है जो संगीत अच्छा नहीं लगता वह शोर लगता है और जो अच्छा उस का उच्चतर स्वर भी आह्लादित तरंगित करता है .

    उत्तर देंहटाएं
  12. मुझे तो मनोज मिश्र का बालम मोर गदेलवा पसन्द आता है।

    उत्तर देंहटाएं
  13. संगीत के बारे में यह बात सच है कि कुछ गाने पहले पहल सुनने में अच्छे नहीं लगते लेकिन एक दो बार सुनने के बाद सुरूर चढ़ने लगता है।

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुंदर स्वर.... सच में मन को छूता है...

    उत्तर देंहटाएं
  15. हर हर महादेव, जय शिव ओंकारा

    जहाँ शिव का नाम वहीं बस जाते हैं हम रम जाते हैं हम ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. Jai bhole shankar.
    Videshi dhartee ke is shankar bhakt ke baare me maine pahli baar jana.
    Nayi jankaari ke liye dhanyawad.bam bam bhole.

    उत्तर देंहटाएं
  17. निशांत जी आपके दिए लिंक का गीत मुझे तो सिरे से पल्ले नहीं पडा -संगीत की आपकी अभिरूचि बहुत परिष्कृत और अभिजात्य लगती है -हम तो लौकिक भोंडेपन से ही मजा निकाल लेते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  18. @वाणी जी ,
    बिलकुल मिलता जुलता मामला है

    उत्तर देंहटाएं
  19. किसी गीत को बार बार सुनने से आसक्ति हो ही जाती है. पहले से पूर्वाग्रह बन गया हो तो कुछ मुश्किल है.

    उत्तर देंहटाएं
  20. बर्फिंग गीत संगीत के पर नोंच रही है कल से लगें हुएँ हैं सुन नहीं पा रहें हैं पूरा गीत .अच्छी पोस्ट ..कृपया यहाँ भी - http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/08/blog-post_04.html

    उत्तर देंहटाएं
  21. मधुर है , कर्णप्रिय भी . सुनने योग्य वर्ना आज कानफोरू संगीत या रिंगटोन से अच्छा साईलेंट मोड ठीक है .

    उत्तर देंहटाएं
  22. मधुर स्वर है.......पर रिंगटोन तो सबकी अपनी पसंद की होती है...बल्कि व्यक्तित्व की एक झलक भी दे जाती है...

    उत्तर देंहटाएं
  23. ये वाली रिंग टोन तो अभी सुननी है। लेकिन आपके मोबाइल की रिंग टोन रोबीली आवाज में दिनकर की कविता होनी चाहिये- जो तटस्थ हैं समय लिखेगा उनके भी अपराध

    या फ़िर:
    क्षमा शोभती उस भुजंग को जिसके पास गरल हो!

    उत्तर देंहटाएं
  24. अनूठापन आकर्षित कर रहा है, सुनते हुए लगता है कोई एकांत साधना, गुह्य कर्मकाण्‍ड हो रहा है, जिसकी पृष्‍ठभूमि का गीत हो यह.

    उत्तर देंहटाएं
  25. रिंग टोन सुनी। अनूठी है लेकिन एक अजब सा थकाथका पन महसूस हुआ इसमें। आप तो किसी धाकड़ शंकर भक्त की आवाज में शंकरजी के मोबाइल की रिंग टोन लगवा लीजिये-

    डमऽडमऽडमऽ निनाद ,डमऽडमऽडमऽ वयम,
    चिकाड़ चारु ताण्डवम्‌,तनों-तुन: शिव:शिवम्‌।

    उत्तर देंहटाएं
  26. आप भी सुने ..पहली बार अच्छा न लगे तो दुबारा तिबारा सुने ..सहसा आपको लगेगा कि आप की रूचि इस अद्भुत गीत में बढ़ती जा रही है -विश्वास न हो तो आजमा कर देखें -आप भी इसे अपना रिंग टोन बनाना चाहेगें!
    aapke blog par bahut dino aana hua ,hum bachpan se hi bhakt hai prabhu ke ,abhi mahakaal ke darshan bhi karke laute hai ,sab devo ke dev hai hamare mahadev ,har har mahadev ki jai .geet pahli baar me hi bha gaya ,phir sunoongi ,dhanyabaad .

    उत्तर देंहटाएं
  27. सावन के सोमवार की छटा तो हम जब गाँव में रहते थे,तभी देखने को मिलती थी.पास में शंकर जी का पुराना मंदिर और हर सोमवार मेला....खूब आनंद आता था.अब लगता है,सारी दिनचर्या ही बदल गयी है!
    पहली बार बॉब मार्ली की धुन सुनी...संगीत की भाषा 'ग्लोबल' है !

    उत्तर देंहटाएं
  28. क्लिप को सुनकर टिप्पणी लिखेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  29. भाई साहब आपका शुक्रिया प्रोत्साहन के लिए ,चौतरफा हमें प्रोजेक्ट करने के लिए .आप हमारे जूम लेंस हैं .अगली पोस्ट का इंतज़ार है आपकी .

    उत्तर देंहटाएं
  30. बफरिंग ने आज पिंड छोड़ दिया ,गीत छा गया मन पर कोई इंडियन गाता ,इतना रस न आता ........http://sb.samwaad.com/
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  31. अब सुना बाब मारली साहब को ..लेकन ईमानदारी से कहूँ तो.पहली बार में तो पसंद नहीं आई . दोबारा सुनने की इच्छा नहीं .
    --------
    शिव नाम सुनते ही भक्ति भाव मन में भर जाएँ ऐसा कुछ हो तो लगे स्तुति है.
    मेरी पसंद के शिव भजन सुनने हों तो इन्हें सुनिये -शिव महिमा --नाम की -पूरी सी डी सुनिए ..अनुराधा पोडवाल की आवाज़ में ...हे शम्भु बाबा मेरे भोले नाथ..तीनो लोक में तू ही तू ...बहुत ही सुन्दर भजन है.

    -------------
    रिंग टोन सामान्य फोन जैसी ही रहे तो बेहतर लगती है ..उसके अतिरिक्त गाने वाने -डायलोग आदि तो मुझे कुछ नहीं सही लगता.
    .बाकि पसंद अपनी -अपनी!

    उत्तर देंहटाएं
  32. http://www.youtube.com/watch?v=GfLBJZR8rs0

    hey shmbhu baba mere bhole naath...suneyee agar nahin suna hai to..

    उत्तर देंहटाएं
  33. ये मेरे मनपसंद गायकों में से एक है .. आपकी इस पोस्ट ने मन प्रसन्न कर दिया ...

    आभार
    विजय

    कृपया मेरी नयी कविता " फूल, चाय और बारिश " को पढकर अपनी बहुमूल्य राय दिजियेंगा . लिंक है : http://poemsofvijay.blogspot.com/2011/07/blog-post_22.html

    उत्तर देंहटाएं
  34. http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/2011/08/blog-post_06.html शुक्रिया भाई साहब .http://veerubhai1947.blogspot.com/
    शुक्रवार, ५ अगस्त २०११
    Erectile dysfunction? Try losing weight .

    उत्तर देंहटाएं
  35. शुरू का हिस्सा सुनकर लगा कि हमारे गाने भी पाइरेट होने लगे क्या ... फिर धीरे धीरे बाब की स्वा सुनाई दिया तो पता चला...

    उत्तर देंहटाएं
  36. दो बार सुन चुके...अभी भी बज रहा है...

    उत्तर देंहटाएं
  37. भक्तिभाव से परिपूर्ण कर गया आपका आलेख,
    विवेक जैन vivj2000.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  38. सुन ली रिंग-टोन. अच्छी है, लेकिन इनके गायन से जोश ग़ायब है.

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वन्दना जी जोश की जरुरत हर जगह नहीं होती कही कहीं होश में रहकर अख्खड़ पने का आनंद लिया जाता है । ये भी कुछ वैसा ही है।

      हटाएं
  39. सर जी अगर इस संगीत का पूरा या कहो अद्भभुत आनद लेना हो तो पहले थोड़ी मात्रा में बाबा जी की बूटी जरुर लें । तब देखिये ये संगीत आत्मा की किस गहराई में उतरता है। बम भोले

    उत्तर देंहटाएं
  40. यह बॉब मार्ले नहीं हैं। अधिक संभावना है कि कोई नेपाली या बिहारी गायक "बन" कर बना रहा है। मार्ले का अरसे से मुरीद हूँ।

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव