शुक्रवार, 23 जुलाई 2010

अपनी धाँसू प्रोफाईल कैसे बनाएं-कुछ उपयोगी टिप्स!

यह व्यावसायिकता और सेलैबिलिटी का ज़माना है -खुद को जितना बेंच सको तो बेंच! सब कुछ, ईमान उमान भी बेंच बांच कर खुद की पोजीशन बुलंद करो नहीं तो मूषक स्पर्धा में पीछे रह जाओगे -कलयुग का यही उद्घोष वाक्य है. इस उदघोषणा के पालनहार ब्लॉगजगत में भी है -जरा अपनी चिमिरघी  प्रोफाईल देखिये और उनकी देखिये ,कैसी फ्लोरिसेंट साईनबोर्ड  सी चमक रही है .-भाई जांन  ने फलाना युनिवेर्सिटी से तोप डिग्री ली ,यहाँ वहां गए और अब ब्लॉग जगत की रौनक में अकिंचन भाव से योगदान देने चले आये हैं .फलाने /फलानी ब्लॉगर नाग नागिन की केचुली की तरह अपना ब्लॉग प्रोफाईल बदलते /बदलती ही रहती हैं -कहते हैं नाग नागिनो का प्रोफाईल रूपी केंचुली बदलने के बाद  उनका वजूद नेमेसिस (प्रतिशोध सुन्दरी ) वाला हो जाता है- सम्मोहक विषैला घातक सौन्दर्य -नए ब्लॉगर बिचारे इस जहरीली सम्मोहकता की बालि  क्यूं न चढ़  जाएँ! 

इन्ही  भाव -विभावों में इन दिनों मुब्तिला ही था कि अपने एक  निरीह पंडित टाईप पुराने मित्र ब्लॉगर ने मुझसे गुहार लगाई -मित्र ,मुझे अपनी भी प्रोफाईल उन जैसी धाँसू फांसू बनानी है -उन्होंने  मुझसे मदद करो संतोषी माँ जैसी ही  गुहार लगाई -यह कुछ कुछ आर्तनाद जैसा लगा -कारण हसीनाओं की तो छोडिये अपने नाईस वाले भी अब  उनकी पोस्टों पर टिप्पणी देने से कतरा जा रहे हैं -कारण ? वही मुआ प्रोफाईल ! अब सहा नहीं जाता -फैसला आखिर उन्होंने ले ही लिया -अब बदल डालूँगा ,प्रोफाईल बदल डालूँगा ...लिहाजा मुझसे मुखातिब हुए ..मैंने फौरी जवाब दिया भाई जांन गलत आदमी से आपने राय मांग ली ...यह बंदा तो अपने एक ब्लॉग पर कोअहम कोअहम की रट लगाये हुए है ...इससे तो उम्मीद ही बेकार है -फलां फलां के ब्लॉग पर चले जाओ और देखो कि कितना धाँसू प्रोफाईल है -सारी ट्रैफिक उधर ही भागी जा रही है ,आबाल वृद्ध बालाएं सभी तो ..वही तो....... वही तो ....मित्र सचमुच यह प्रोफाईल युग है -हम तो बहुत पीछे छूट गए हैं -मैंने उन्हें कुछ टिप्स दिए और अब वे अपनी नई प्रोफाईल बनाए में जुटे हुए हैं मगर मुझे अब भी  डिस्टर्ब किये हुए हैं- बार बार ऐसा तैसा सवाल पूछ रहे हैं ...यह कैसा रहेगा वह कैसा रहेगा -यह भी डाल दूं ,वह भी डाल दूं -आखिर यह नहीं लिखूंगा तो ब्लॉग सौन्दर्य से वंचित ही रह जाऊंगा आदि अनादि सवाल दर सवाल ...उफ़ कैसी तृष्णा है यह ,कैसा नारद मोह  ?

आईये कुछ टिप्स आपसे भी साझा करुँ जो वे अपनी प्रोफाईल उन्नयनीकरण में समाहित कर चुके हैं ...और हाँ बीच में टोका टोकी नहीं, जैसा कि मेरे मित्र हर नए प्रोफाईल आइटम पर चौक कर कह कह पड़ते थे -यह गलत होगा वह गलत होगा -मैंने तो एक बार उन्हें झिड़क ही दिया था -जाईये तब ऐसे ही टिप्पणी विहीन यह कलि काल काट दीजिये मुझसे क्यूं मदद लेने आये हैं -अब एक तो 'जे न मित्र  दुःख होई दुखारी'  जैसी चेतावनी से डरकर मैं आपकी मदद  कर रहा हूँ और आप बे -फालतू टोका टोकी कर रहे हैं -अब एक शब्द भी नहीं -अपने लिए थोड़े ही बना  रहा हूँ ,यह आपके लिए ही है भाई जांन -बहरहाल आँखों में एक गहरे कृतज्ञता बोध लिए वे खामोश हो लिए ...और मैं शुरू हो गया -

पहले तो लिखिए -मैं एक स्मार्ट ,हैंडसम ...कालेज का कैसानोवा ...(वे कुछ तेजी से कहने का उपक्रम किये मैंने डांट कर बैठाया) ..बस तफरीह के लिए यहाँ आया हूँ ...मेरा आलीशान बंगला फला फला शहर में है ....खुदा के फजल से बाप दादा इतना छोड गए हैं मगर क्या करुँ अब तो लगता है यह ऐशो आराम ,धन दौलत साझा करने वाला कोई मिलेगा ही नहीं -तलाश जारी है ..मीत न मिला रे  मन का (भाई साहब यह सब थोडा लम्बा नहीं हो जाएगा? -मैंने डांटा ,इस समय लम्बी प्रोफाईलों का ही चलन है घोंचू राम! ) हाँ ,अब आगे ...अकादमीय उपलब्धियों की चर्चा -मैंने वैकानटिन यूनिवर्सिटी से पी एच डी की है (यह कहाँ है ,अबे घोंचू इतनी बड़ी दुनिया है कहीं न कहीं तो होगा ही ,तुम चुप नहीं बैठोगे ? ) ...एक किताब 'पीपिंग इनटू ब्लैक होल्स ' आस्ट्रिच प्रकाशन  से छप चुकी है (लेकिन ......चुप बैठो यार ) ....२००७  में नाम नोबेल सम्मान के लिए नामित किया गया ....शान्ति और सौहार्द के लिए (मगर ....शश्श्श ! यह कोई बड़ी बात नहीं है ,नामित ही तो किया गया है ?) ...इन दिनों अन्तरराष्ट्रीय  विश्व बंधुत्व सोसायटी का अध्यक्ष हूँ जिसका हेड क्वार्टर जकार्ता में है (जेनेवा में या? ..अब छोडो भी  जेनेवा में तो कई हैं एक जकार्ता में कर दोगे तो तुमारे  बाप का क्या जायेगा और जकार्ता भी तुम्हारा मुरीद बन जाएगा! ) देखो मैं तुम्हारी ऐसी वैश्विक प्रोफाईल बना रहा हूँ जिससे देशी गर्ल ही नहीं विदेशी भी खिंचती चली आयेगीं -यही तो तुम चाहते हो न ? और यह प्रोफाइल आज और कल  के  टीपू सुल्तानो की भी मददगार होगी जो जहाँ भी कुछ अच्छा पाते हैं टीप लाते हैं जैसे एक सम्मनित ब्लॉगर का कुछ दिनों पहले प्रोफाईल चोरी होने का सनसनीखेज मामला प्रकाश में आया था .......

तो यह प्रोफाईल अब लगभग पूरा होने को है ..आप भी मेरे मित्र की कुछ मदद करना  तो तहे दिल से स्वागत है आपका ...


43 टिप्‍पणियां:

  1. जय हो गुरुदेव, हम भी एक धांसू प्रोफ़ाईल बनाने की सोच रहे हैं, आप तो कंसल्टेंसी शुरु कर दीजिये, ब्लॉगरों की लाईन लग जायेगी।

    पर यह सटीक भी है और उन लोगों के लिये व्यंग्य भी है जो अपनी कुछ ज्यादा ही प्रशंसा कर लिये होते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  2. -यह गलत होगा वह गलत होगा-
    इब तो आप म्हारी भी एक प्रोफाइल गढ़ डालो. हाँ जकार्ता की जगह जैसलमेर लिखना, काफी रोमांटिक लगेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. @फलाने /फलानी ब्लॉगर नाग नागिन की केचुली की तरह अपना ब्लॉग प्रोफाईल बदलते /बदलती ही रहती हैं -कहते हैं नाग नागिनो का प्रोफाईल रूपी केंचुली बदलने के बाद उनका वजूद नेमेसिस (प्रतिशोध सुन्दरी ) वाला हो जाता है- सम्मोहक विषैला घातक सौन्दर्य -नए ब्लॉगर बिचारे इस जहरीली सम्मोहकता की बालि क्यूं न चढ़ जाएँ!

    वैसे भी अब असाढ चल रहा है और सावन लगने वाला है। ऐसे में धांसु प्रोफ़ाईल बनाने का आईडिया आपका जोरदार है। जरुर कोई धामन मंडराएगा ही।

    उत्तर देंहटाएं
  4. हमारी प्रोफाइल में कमी बताइये पहले? आज तक देशी विदेशी कोई नहीं आई :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्षमा करें ब्राम्‍हण श्रेष्‍ठ, कल अलबेला खत्री जी नें अपने ब्‍लॉग पर मुफ्त कंसलटेंसी की दुकान चालू की थी आज आपके ब्‍लॉग में ये कंसलटेंसी देखकर आश्‍चर्य हुआ।
    आपके दुखी (घोंचू) मित्र इससे लाभान्वित होंवे, आज के टीपू सुल्‍तान अपने जुगाड़ तोड़ भिड़ाते ही रहेंगें।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब एक गृहिणी अपनी प्रोफाइल में क्या लिख सकती है ...इसलिए आपके धांसू आईडिया हमारे काम के नहीं है ...

    व्यंग्य की धार गज़ब है ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह उन लोगों के लिए जोरदार कटाक्ष है जो अपनी बात को बढ़ा-चढ़ा कर पेश करते हैं. वे न घबड़ाएं जो ब्लागिंग के संबंध में कुछ जानकारी करना चाहते हैं.
    ..मजेदार पोस्ट.

    उत्तर देंहटाएं
  8. असली दुकानदार की प्रोफाइल...
    मुझे मत देखो, माल देखो!

    उत्तर देंहटाएं
  9. एकदम नईकी बनाता हूँ अब...सॉलिड वाली.

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपने टिप्स बढ़िया दिये पर कुछ सुझाव शायद जानबूझकर नहीं दिये है ? मसलन ...

    (१)आपके मित्र को नाम क्या रखना चाहिये ?
    [अरे भाई ब्लॉग का ही नहीं अपना भी ]

    (२)और जेंडर क्या रखें ?

    (३)फोटो किसकी लगा लें ?

    उत्तर देंहटाएं
  11. नया नया करने के चक्कर मे सारे गुप्त ज्ञान एक ही पोस्ट मे उडेल दिये बाबा जी कही ऐसा ना हो जाये कि चेला ही कन्सल्टेन्सी की दूकान खोल ले आप की फ़ोटो लगा कर

    उत्तर देंहटाएं
  12. ...वैसे आजकल ब्लागजगत में युवा महिला के नाम से प्रोफ़ाईअल भी खूब चल रहा है जो सक्सेसफ़ुल भी है ... महिलाओं के प्रोफ़ाईल को देख कर कुछेक लोग टूट पडते हैं ...

    ... आपकी पोस्ट प्रसंशनीय है !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  13. प्रोफाइल लिखने का बस एक नुकसान है कि पोस्ट पढ़ने के पहले ही उसके बारे में अवधारणा बन जाती है। जब पोस्टों में दम नहीं रहेगी तभी आपसे सलाह ली जायेगी। :)

    उत्तर देंहटाएं
  14. क्या लिख दिया यह ? मजबूर कर दिया अपना प्रोफाइल देखने को :-) मेरा प्रोफाइल को चेक कर कुछ गुर बताओ गुरुदेव ...फीस की चिंता नहीं करना !
    टीपू सुलतान पसंद आये !
    शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  15. अभी बदलता हूँ अपनी प्रोफाइल!

    उत्तर देंहटाएं
  16. सचमुच प्रोफाइल को धाँसू बनाने के नायाब तरीके। वैसे अली भाई के सुझाव भी काबिले गौर हैं।
    इतने कामयाब नुस्खे बताने का शुक्रिया।
    --------
    सबसे खूबसूरत आँखें।
    व्यायाम द्वारा बढ़ाएँ शारीरिक क्षमता।

    उत्तर देंहटाएं
  17. कभी प्रोफाइल पर अधिक तवज्जो नहीं दी ...अच्छा लिखा है आपने ....

    उत्तर देंहटाएं
  18. मुझे मालूम है आपका इशारा किधर है!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. मुझे मालूम है आपका इशारा किधर है!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. जरा एक मशविरा तो दीजिए कि क्या एक ज्योतिषी के लिए भी इस तरह की प्रोफाईल बनाना ठीक रहेगा. डरते हैं कि कहीं उल्टा लेने के देने न पड जाएं :)

    उत्तर देंहटाएं
  21. धांसू प्रोफाइल तो बन जाएगी..लोग भी खींचे चले आयेंगे...पर कंटेंट नहीं होगा...तो दुबारा आयेंगे?? या टिकेंगे??

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत बढ़िया कटाक्ष है....कभी ज़रूरत पड़ी तो आपको ज़रूर याद करेंगे प्रोफाइल बनवाने के लिए :):)

    उत्तर देंहटाएं
  23. न बाबा मत बनाना धांसू प्रोफाइल....जो भी धांसू हो बैंक के लोकर में छुपा कर रखो घर में न सजाना..यही जमाना है ..वर्ना चोरी का खतरा है ..
    व्यंग पसंद आया . :)

    उत्तर देंहटाएं
  24. ज़रा फोटुआ लगाते समय ध्यान रखियेगा ।
    बाकि तो बढ़िया बन रही है प्रोफाइल।

    उत्तर देंहटाएं
  25. कुछ काम धंधा हमको भी दिलवा दिजिये इस काम का. बहुत धांसू और फ़ांसू प्रोफ़ाईल बना देंगे.:)

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  26. पंडित जी,
    ये तो बहुत ग़ज़ब का आईडिया है..सबसे पहले तो आईडिया रजिस्टर करवा लीजिए... क्योंकि आपके लेखन की चोरी तो हो ही रही है, कहीं साले मगज में से आईडिया चुरा लें तो सबूत भी जुटाना मुश्किल हो जाएगा. और आपने तो अपनी पोस्ट में सब खुलासा कर दिया है.. पंडित जी प्रोफाईल उफाईल तो आउट्सोर्स करके भी बन जाएगा, लेकिन आपका ये चौचक आईडिया कहीं चोरी हो गया तो… हम तो कहीं के नहीं रहेंगे... पहिला असाइनमेंट तो हम ही देने की सोच रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  27. लेकिन वो बंदा तो कहीं नजर नहीं आया, जिसकी प्रोफाइल से आपने ये आइडिये उधार लिये हैं?
    --------
    ये साहस के पुतले ब्लॉगर।
    व्यायाम द्वारा बढ़ाएँ शारीरिक क्षमता।

    उत्तर देंहटाएं
  28. क्या व्यंग्य है??? धारदार.
    वैसे आप भी गजब हैं. कोई बेनामी पोस्ट करे तो आपको आपत्ति है और कोई अपने बारे में सच-सच लिख दे तो भी. अब बताइये बेचारा ब्लॉगर जाए तो कहाँ जाए??? :-)
    अब ये मत कहियेगा कि मैंने तो आपको टोकने की ठान ली है. क्योंकि पोस्ट मुझे बहुत ही अच्छी लगी.

    उत्तर देंहटाएं
  29. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  30. कभी प्रोफाइल पर अधिक तवज्जो नहीं दी ...अच्छा लिखा है आपने ....

    उत्तर देंहटाएं
  31. @फलाने /फलानी ब्लॉगर नाग नागिन की केचुली की तरह अपना ब्लॉग प्रोफाईल बदलते /बदलती ही रहती हैं -कहते हैं नाग नागिनो का प्रोफाईल रूपी केंचुली बदलने के बाद उनका वजूद नेमेसिस (प्रतिशोध सुन्दरी ) वाला हो जाता है- सम्मोहक विषैला घातक सौन्दर्य -नए ब्लॉगर बिचारे इस जहरीली सम्मोहकता की बलि क्यूं न चढ़ जाएँ!

    वाह! वाह!:D
    धारदार व्यंग्य!
    जो वे अपनी प्रोफाईल उन्नयनीकरण में समाहित कर चुके हैं,जब उनका प्रोफाईल पूरा हो जाये तो खबर करीए,देखने ज़रूर जायेंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  32. सुन्दर पोस्ट! बधाई!

    हम आज ही प्रोफाइल चेंज करने का हिसाब बैठाते हैं. शायद पाठक आना शुरू कर दें.

    उत्तर देंहटाएं
  33. गुरुदेव, ब्‍लॉगर नाग नागिनों के प्रोफाईल की बखिया उधड़ गई अब जहरीली सम्मोहकता असरकारी रह पायेंगी क्‍या ..... ?


    कभी हम भी इस प्रोफाईल का रोना रोए थे धांसू प्रोफाईल का सच

    उत्तर देंहटाएं
  34. कुछ संदर्भ मैं समझ नहीं पाया। आजकल ब्लॉग जगत का फेरा नहीं लगा पा रहा हूँ। कुछ हिन्ट दीजिए... प्राइवेट में ही सही :)

    वैसे लिखा जोरदार है।

    उत्तर देंहटाएं
  35. जाकिर अली 'रजनीश' के आने तक वह बंदा नहीं आया था. उसके बाद आया कि नहीं? वैसे यह बंदा है कौन?

    उत्तर देंहटाएं
  36. अपने बेइंतहा सुंदर होने, opposite sex के खिंचे चले आने, स्मगलरों जैसे अमीर होने, लंगोट ढीला होने, औक़ात से कहीं ज़्यादा पढ़े लिखे होकर भी परचून की दुकान करने और लफंगों की सोबहत में मर्दानगी की डींगें हांकना भी शामिल कर लें तो प्रोफ़ाइल में चार चांद लग जाएंगे.

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! उम्दा प्रस्तुती!

    उत्तर देंहटाएं
  38. जय गुरुदेव ... आपके सुन्दर सुन्दर टिप्स सिरोधार्य ...
    हमरे वास्ते भी कुछ प्रोफाइल सोफाइल हो जाये ...

    उत्तर देंहटाएं
  39. आगे पोस्ट काहे नहीं लिख रहे हैं? अब मित्र की प्रोफाइल जब तक चेंज नहीं होगी तब तक नहीं लिखेंगे क्या? हम रोज आते हैं और नए लेख को न पाकर चले जाते हैं.

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव