रविवार, 20 दिसंबर 2009

आज मन कुछ भडासी हुआ

 जी हाँ यह पोस्ट इस ब्लॉग (नया भंडास ) के प्रेरक वाक्य कि " कोई बात गले में अटक गई हो तो उगल दीजिये, मन हल्का हो जाएगा..." से उत्प्रेरित है ! यह वर्ष बीतने को बस गिने चुने दिन रह गए हैं ! सोचता हूँ मन पर छाये कुछ मटमैलेपन  को दूर कर नए वर्ष के लिए मन  को  तरोताजा करुँ -एक नए उत्साह और खुलेपन से नए वर्ष का स्वागत करुँ ! ब्लागजगत में आये मुझे भी कुछेक वर्ष तो बीत ही चले -मगर यहाँ यह वर्ष तिक्तता ,मनोमालिन्य ,खिन्नता का जो दंश देकर जा रहा है शायद उसकी स्मृति आगे भी कई वर्षों तक  सालती रह सकती है ! आत्मान्वेषण करता हूँ तो खुद को भी बरी नहीं कर पाता ! देखता हूँ दिन ब  दिन अपने व्यवहार में हठी और आक्रामक होता जा रहा हूँ जबकि विनम्रता के महात्म्य से भलीभाति  परिचित हूँ ! क्या यह सठियाने की शुरुआत है?  -कल ही ५२ वर्ष का हो गया!  इन दिनों ज्यादा लगता है कि दुष्टों और हार्डकोर अपराधियों को कठोर दंड मिलना ही चाहिए ! जैसे शंकर ने गुरू के अपमान पर एक शिष्य (जो आगे चलकर काकभुशुण्डी  बना ) को श्राप ग्रस्त कर दिया -

जौ  नहीं दंड करहुं  खल तोरा भ्रष्ट होई श्रुति मारग मोरा 
-मतलब जो तुम्हे दंड नहीं देता हूँ तो मेरा वेदमार्ग का आचरण ही नष्ट हो जाएगा ! दंड विधान भी यही कहता है कि कुछ  लोगों को दंड देने में ही जन कल्याण निहित है ! समाज सुधारक अलग रवैया  अपनाते हैं -गांधी जी तो कहते भये हैं -पाप से घृणा करो पापी से नहीं ! मगर ये पाप फैलाता  कौन है ? फिर ये सोचता हूँ मैं कोई दंडाधिकारी तो हूँ नहीं और कुदरत ने भी ऐसी कोई काबिलियत मुझमें नहीं  देखी तो फिर काहें इन पचड़ों में पडू -जो जैसा करेगा वैसा भरेगा ! और पाप पुण्य ,नैतिकता और अनैतिकता ,उचित अनुचित सब तो सापेक्षिक हैं !अलग अलग परिप्रेक्ष्यों में अलग तरीके से देखे सुने जाते हैं! 
मगर इस मन  का क्या करूं जो लोगों के आचरण  से कभी कभी बहुत संतप्त हो जाता है ! अभी उसी दिन एक मेल प्राप्त हुआ -
""लेकिन अफ़सोस होता है आपकी बचकानी समझ में।
आपकी एक टिप्पणी के बारे में मेरे एक मित्र की टिप्पणी थी--


अरविन्द जी मुझे हर बार धोखा दे जाते हैं। मैं जब भी यह सोचता हूं (यहाँ कौन जाने सोचती हूँ भी हो सकता है -मित्र का नाम तो बताया नहीं न  )  कि आप और नीचे न गिरेंगे तब वे पांच फ़ीट और नीचे गिर जाते हैं। अद्भुत पतन प्रतिभा है उनमें।"

-- अब यह संवाद दो मित्रों के बीच का है जो एक तीसरे मित्र यानि मुझ पर फोकस थे !--यहाँ   इंच और टेप लेकर मेरे गिरने की गति नापी जा रही है -अब मैं भी हांड मांस का बना साधारण मानुष ही हूँ किसी भी ईश्वरीय प्रतिभा से पूर्णतया रहित -अब क्यों न ऐसे वार्तालाप पर उद्विग्न न हो जाऊं -पर यह  कड़वा घूँट भी  गटक लिया  है !  अब आप ही पंच  फैसले करें कि जब ऐसे वार्तालाप और दुरभिसंधियाँ ब्लॉग जगत में चल रही हों तो मन दर्द से क्यूं न भर जाय!

बहरहाल आईये हम नए वर्ष के आगमन में थोडा और सहिष्णु बने ,विनम्र बनें ,एक दूसरे का सम्मान करना सीखें -सार्वजनिक जीवन के शिष्टाचार का अनुपालन करें ! लोगों को अपने व्यवहार से खुश करें और खुद इस प्रक्रिया में खुश हों ! कटुता के वातावरण से ब्लॉग जगत को छुटकारा दिलाएं ! ये संकल्प हम जल्दी से ले ले क्योंकि नए वर्ष में /के लिए तो और भी संकल्प करने हैं न ! अंत में एक आह्वान यह भी कि प्लीज ब्लॉग जगत को छोड़ कर  कर न जाएँ -आप हैं तो यह ब्लॉग जगत भी गुलजार है!

28 टिप्‍पणियां:

  1. पंडित जी भड़ास हम भी चलाते हैं उस दर्शन पर जिसकी पंचलाइन का आप जिक्र कर रहे हैं पता चला कि आप तो मुर्दा हो चुकी भड़ास कि ममी भड़ास blog पर ही रुक गये हैं सो खिन्न,अवसादित,खुन्नसिआया हुआ वापिस जा रहा हूं
    भड़ास अब अपने मूल दर्शन के साथ http://bhadas.tk पर मौजूद है
    जय जय भड़ास

    उत्तर देंहटाएं
  2. @"खिन्न,अवसादित,खुन्नसिआया हुआ वापिस जा रहा हूं"
    वापस मत जाईये लिंक लगा दिया है ! प्रथम ग्रासे मच्छिका पाते ..क्या करें तकदीर ही दगा दे रही है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. कटुता के वातावरण से ब्लॉग जगत को छुटकारा दिलाएं !

    बात तो आपकी बिल्कुल सही है , समहती है ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. डॉक्टर साहब,

    जो जैसा करेगा, वैसा भरेगा...

    इसलिए नए साल पर बाकी दिया गला छडो, बस दिल साफ़ होना चाहिदा...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  5. स्वच्छ मन से अपना कार्य करिये. सब अच्छा होगा. अच्छा संकल्प लिया है.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बिल्कुल ठीक है

    बाकी दिया गला छड्डो, बस दिल साफ़ होणा चाहिदा...

    बी एस पाबला

    उत्तर देंहटाएं
  7. लोगों को अपने व्यवहार से खुश करें और खुद इस प्रक्रिया में खुश हों,
    अरविंद जी यही होना भी चाहिए,खुशदीप सहगल जी की बात से मै सहमत हुँ। आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. मन मलिन करने का कोई अर्थ नहीं है। आप एक अच्छे काम में लगे हैं। लगे रहिए। राह में रोड़े भी होंगे, कभी अपनी गलती से भी ठोकर लग सकती है। श्रेयस्कर यही है कि अपनी राह चलते रहें।

    उत्तर देंहटाएं
  9. आईये हम नए वर्ष के आगमन में थोडा और सहिष्णु बने ,विनम्र बनें ,एक दूसरे का सम्मान करना सीखें -सार्वजनिक जीवन के शिष्टाचार का अनुपालन करें!
    याद दिलाने के लिए धन्यवाद! जन्मदिन और नव वर्ष की शुभकामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  10. लगता है कि आपने यह पोस्ट बहुत भावुक होकर लिखी है. देखिये, आपसे आयु में बहुत छोटी हूँ, इसलिये अनुभव कम है. पर इतना जानती हूँ कि विनम्रता एक सीमा तक ही ठीक है. शठ के साथ शठ का ही व्यवहार करना चाहिये. हाँ, उसमें भी शिष्टता बनाए रखनी चाहिये जिसकी बात आपने इस पोस्ट में कही है. वर्षान्त में, आशा है कि यह पोस्ट एक नये प्रकार का वातावरण सृजित करेगी.
    और हाँ, मेरे ब्लॉग का अनुसरण करने के लिये धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  11. जीवन आगे चलने का नाम, बीती बात तिसारिये।

    मैं अक्सर सोचता हूं जो कल था वह झूट है। जो आज है वही सच है। जो कल होगा उसे देखना और बनाना है।

    उत्तर देंहटाएं
  12. पाप पुण्य ,नैतिकता और अनैतिकता ,उचित अनुचित सब तो सापेक्षिक हैं !अलग अलग परिप्रेक्ष्यों में अलग तरीके से देखे सुने जाते हैं! यही तो असली बात है । आप तो समझते ही हैं इसे, फिर क्यों व्यथित मन !

    हम आपके संकल्प की खुराक ले चुके हैं । हाँ, अपनी क्रिया में संयम तो बरत सकते हैं, पर दूसरों को कैसे समझायें !

    उत्तर देंहटाएं
  13. हम तो आपसे जन्मदिन समरोह की रिपोर्ट का इन्तजार कर रहे थे ....

    ब्लॉग पर हम सभी अपने विचारों के साथ इकठ्ठा होते हैं ...कोई सहमत हो सकता है कोई असहमत ...सभी एक तरह सोचे ये संभव नहीं ....प्रतिक्रिया करने का सबका अपना अपना तरीका होता है ...इसमें इतना व्यथित होने की कोई गुन्जायिश मुझे तो नजर नहीं आती ...

    इस खलिश और वेदना को इसी साल यही छोड़ दीजिये और नए वर्ष का ख़ुशी से स्वागत करे ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. आईये हम नए वर्ष के आगमन में थोडा और सहिष्णु बने ,विनम्र बनें ,एक दूसरे का सम्मान करना सीखें -सार्वजनिक जीवन के शिष्टाचार का अनुपालन करें!

    वर्षों से यही होता आया है. नया साल आते आते यही सब विचार हमारे मन मे आते हैं. इसके जाते ही वो ही रामदयाल और वो ही गधेडी.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  15. का भैया! ई कौन सा 'नामा' लिख पढ़ बैठे।

    अरे आग के जितने नजदीक रहेंगे आँच उतनी ही लगेगी। बीच बीच में चिनगारियाँ भी उछ्लेंगी, छटकेंगी - उन्हीं को लगेगीं जो निकट हैं। लेकिन निकट आने, रहने और आग को खोदने का साहस कितनों में है! .... प्रसन्न रहिए, सन्न नहीं। भोजपुरी में आँच को 'आह' भी कहते हैं। आह आग में ही रहने दीजिए... तापते चलिए, तपते चलिए... बहुत स्याह ठंडक है।

    उत्तर देंहटाएं
  16. मिसिर जी !
    दोस्तोव्यकी का 'बौड़म' याद आने लगा .
    खुद से ऐसे ही द्वंद्व-अन्तः द्वंद्व चलते हैं वहां भी .
    .
    .
    रोना तो सबके पास है , कोई रो लेता है और कोई
    कहता है ---
    '' रोने वालों से कहो उनका भी रोना रो लें
    जिनको मजबूरिये-हालत ने रोने न दिया | ''
    ऐसे में रोना व्यापक हो जाता है और निराशा आशा-प्रद !
    .
    .
    हम भी करते हैं नए साल की संकल्प-तैयारी !

    उत्तर देंहटाएं
  17. आईये हम नए वर्ष के आगमन में थोडा और सहिष्णु बने ,विनम्र बनें ,एक दूसरे का सम्मान करना सीखें -सार्वजनिक जीवन के शिष्टाचार का अनुपालन करें!

    "होना भी यही चाहिए , उत्तम विचार हैं जिनका पालन शायद हमेशा ही होना तो चाहिए मगर फिर भी हम भूल जाते हैं और आरोप प्रत्यारोप में लिप्त हो जाने क्या तलाश करने निकल जाते हैं.
    चलिए फिर एक बार सब मिलकर कोशिश करे और इन पंक्तियों पर अमल कर ब्लॉग जगत में एक स्नेह और आदर से परिपूर्ण वातावरण की शीतल छाया के निर्माण में अपना सहयोग दे. आभार "
    regards

    उत्तर देंहटाएं
  18. अरविन्द जी , आपका खिन्न होना स्वाभाविक है। जब आप अपनी जगह सही होते हैं, और दूसरों से चोट मिलती है तो ऐसा ही होता है। लेकिन वक्त के साथ सब जख्म भर जाते हैं। इसलिए उसे भूलना ही बेहतर है।
    एक बार मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ था जब किसी ने अनाम टिपण्णी में ऐसी बातें लिखी की मैं उसे सार्वजानिक रूप से छाप नहीं सकता। वो भी बिना किसी कारण। ऐसा लगा था जैसे किसी ने ईर्ष्यावश ऐसा लिखा हो, हालाँकि हम तो ऐसे बड़े ब्लोगर भी नहीं है।
    आप अपना काम करते रहें, सारी धूल अपने आप बैठ जाएगी।
    और हाँ, देर से ही सही --जन्मदिन की हार्दिक बधाई अवम शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  19. दरअसल, कुल लोग ब्लॉग जगत में अपनी मठाधीशी टूटने से हैरान, परेशान हैं और जिन लोगों ने उनकी मठाधीशी को खुली चुनौती दी है, उनके खिलाफ एक सुनियोजित षणयंत्र के तहत तरह तरह का दुष्प्रचार किया जा रहा है।
    इसलिए अब समय आ गया है कि इस तरह के तमाम लोगों की असलियत लोगों को सच सच बताई जाए।
    जीवन के और ईसवी सन की हार्दिक शुभकामनाएँ।
    ------------------
    इसे आप पहचान पाएंगे? कोशिश तो करिए।
    सन 2070 में मानवता के नाम लिखा एक पत्र।

    उत्तर देंहटाएं
  20. जन्मदिन की बधाई. बाकी तो आप ठीक कह ही रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  21. चलते रहे लिखते रहे यही कहा जा सकता है ..जन्मदिन की हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  22. डॊ. सा’ब भडास तो निकल गई, अब लग जाइए फिर बिलागरी की जादूगरी में :)

    उत्तर देंहटाएं
  23. वैसे सच बात कहें तो इ ईमेल किसी को भी विदीर्ण करने के लिए काफी है....
    आप भी आहत हुए हैं ...और कौनो अचरज नहीं है...
    बाकि आप जो संकल्प किये उ सिर्फ आपका संकल्प नहीं सबका संकल्प होगा...ऐसा विश्वास है....
    अब इ कहावत भी सब सुने ही हैं...चार बर्तन हैं तो खड़-खड़ हईबे करी...
    बाकि गिरिजेश जी का फार्मूला सही है....
    तापते चलिए, तपते चलिए...
    और हाँ सठियाये आपके ..दुसमन....हाँ नहीं तो...!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. अरविन्द जी पोस्ट के सन्दर्भों से अपरिचित हूँ इसलिए गूढता तक जाने का प्रयास नहीं कर रहा. खुशदीप जी ने जो बात कही और जिसकी वर्तनी पाबला जी ने दुरस्त की है मुझे बड़ी जायज किन्तु औपचारिक लगी. शेष बातें रहने दी जाये बस दिल साफ़ रखिये का फलसफा तभी कारगर है जब आप ब्लॉग लिखना छोड़ कर वन को प्रस्थान कर जाएँ. आप जिस क्रोध या कठोरता की बात कर रहे हैं मैं तो उसी का पक्षधर हूँ. और अभी से कहाँ सठियाने की बातें ? आठ साल पड़े हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सही लगी पोस्ट और टिप्पणियां।
    बाकी ये कही सुनी तो साल दर साल जारी देखी है!

    उत्तर देंहटाएं
  26. समीर लाल जी और पाबला जी से सहमत हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  27. करिये छिमा- कुछ देर से आना हुआ।

    मसला जो भी हो, जन्मदिन की अतीव शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  28. काश कि आपके इस संकल्प के साथ अपना ये पूरा ब्लौग-जगत चले।

    सालगिरह की विलंब से मुबारकबाद....सठियाये की कहां बात छेड़ दी आपने। अभी तो ग़ालिब जवान है।

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव