मंगलवार, 26 मार्च 2013

क्या खाली पीली होली ?

क्या खाली पीली होली ?
नहीं नहीं
खा ली और पी ली होली
क्या खा ली क्या पी ली
भांग खा ली और ठंडई पी ली
बस इत्ती सी होली?
नहीं नहीं
ली थोड़ी गुलाल
मुंह पर उनके मल ली
नेह के रंग भिगोली
कर तन मन रंग रंगीली
खुशियों से ली भर झोली
बस हो ली होली
 याद आयी
बहुत  घर की होली 

42 टिप्‍पणियां:

  1. ये गब्बर तो बड़ी सात्विक होली खेलने लगा...

    शुभ होली...

    जय हिंद...

    उत्तर देंहटाएं
  2. अभी खा-पी लेते हैं , खेलेंगे तो कल !!!! हैप्पी होली आपको !!!!

    उत्तर देंहटाएं
  3. होली मुबारक

    अभी 'प्रहलाद' नहीं हुआ है अर्थात प्रजा का आह्लाद नहीं हुआ है.आह्लाद -खुशी -प्रसन्नता जनता को नसीब नहीं है.करों के भार से ,अपहरण -बलात्कार से,चोरी-डकैती ,लूट-मार से,जनता त्राही-त्राही कर रही है.आज फिर आवश्यकता है -'वराह अवतार' की .वराह=वर+अह =वर यानि अच्छा और अह यानी दिन .इस प्रकार वराह अवतार का मतलब है अच्छा दिन -समय आना.जब जनता जागरूक हो जाती है तो अच्छा समय (दिन) आता है और तभी 'प्रहलाद' का जन्म होता है अर्थात प्रजा का आह्लाद होता है =प्रजा की खुशी होती है.ऐसा होने पर ही हिरण्याक्ष तथा हिरण्य कश्यप का अंत हो जाता है अर्थात शोषण और उत्पीडन समाप्त हो जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. खा पी के खेलेंगे होली,होली की हार्दिक शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  5. होली की महिमा न्यारी
    सब पर की है रंगदारी
    खट्टे मीठे रिश्तों में
    मारी रंग भरी पिचकारी
    ब्लोगरों की महिमा न्यारी …………होली की शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  6. HOLI AB YUN HO LI :) KHAA PEE TO LE PEHLE :) BAHUT BAHUT BADHAAI HOLI KI AAPKO AUR AAPKE PARIWAAR KO :)

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह तो बडी प्यारी सी होली हो ली जी, होली की हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम

    उत्तर देंहटाएं
  8. सचमुच यही तो होली का असली आनंद है,,

    होली की बहुत बहुत हार्दिक शुभकामनाए,,,
    Recent post : होली में.

    उत्तर देंहटाएं
  9. हमारे यहाँ तो खाली पी ली होली ही होती है.:)
    हैप्पी होली .

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह !
    आज गब्बर खेले होली
    बिन तमंचा बिन गोली
    गोबर, गारी, गात नहीं हैं
    गीत-गोविन्दम बोली
    :)

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप तो कवि भी है !
      सुन्दर लगी कविता,
      होली की असीम शुभकामनायें !

      हटाएं
    2. स्वप्न जी,
      मैं महज कवि ह्रदय हो सकता हूँ कवि की औकात नहीं! आभार !

      हटाएं
  11. आपको होली कि हार्दिक शुभकामनायें और बधाई !!

    उत्तर देंहटाएं
  12. काली , पीली . लाल . गुलाबी ,
    शरबत, कांजी , भांग , शराबी।
    रचना, कविता, कल्पना, प्रेरणा ,
    संग खेलो होली, तो क्या है खराबी।

    होली मुबारक।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अपुन की और लट्ठमार होली नहीं होती डॉ साहब

      हटाएं
  13. बहुत ही बढ़िया

    होली का पर्व आपको सपरिवार शुभ और मंगलमय हो!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  14. होली की हार्दिक शुभकामनायें!!!

    उत्तर देंहटाएं
  15. ऐसी होली तो आपकी पर्सनालिटी को सूट ही नहीं करती.. बस खा ली - पी ली - हो ली!!
    कुछ अऊर रंग जमाइए, पंडित जी!!
    होली की शुभकामनाएं!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. ब्लॉग बुलेटिन की पूरी टीम की ओर से आप सब को सपरिवार होली ही हार्दिक शुभकामनाएँ !

    आज की ब्लॉग बुलेटिन हैप्पी होली - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  17. खा ली-पी ली - होली-बहुत खूब!
    होली की रंग-बिरंगी शुभकामनाएँ.

    उत्तर देंहटाएं
  18. नेह के रंग भिगोली
    कर तन मन रंग रंगीली
    खुशियों से ली भर झोली
    बस हो ली होली....

    और कैसी होली थी होनी !!
    होली की बहुत शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्या खाली पीली होली ?
    नहीं नहीं
    हरी नीली और गुलाबी भी है
    रंगो से भरी इठलाती होली की शुभकामनाएँ
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  20. खा ली होली,
    पी ली होली,
    जी भर खेली,
    जी ली होली।

    उत्तर देंहटाएं
  21. तो घर से दूर हैं....:)

    शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  22. होली की हार्दिक बधाई स्वीकारें ....

    उत्तर देंहटाएं
  23. कवि हृदय को होली की शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
  24. बढ़िया प्रस्तुति :होली की शुभकामनायें
    latest post धर्म क्या है ?

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सुन्दर रचना ..
    होली की हार्दिक शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  26. पीने से पहले भरी, जब पी ली तो खाली होली? और जब खा ली तब तो बाकायदा खाली होनी ही थी। ऐनीवे, अब तो जो होनी थी सो हो ली, सो - हैपी होली!

    उत्तर देंहटाएं
  27. होली सो होली समझ लेते तो अच्छा होता .

    उत्तर देंहटाएं
  28. बढ़िया रचना है बिम्ब भी अर्थ अन्विति भी .

    उत्तर देंहटाएं
  29. देर से ही सही ....होली की शुभकामनायें

    अब तो होली हो ली

    उत्तर देंहटाएं
  30. Purani Holi kee yad hume bhee aa gaee. Abhi to bas khana peena aur ek doosare ko rang lagana itana hee.

    उत्तर देंहटाएं
  31. रोचक गीत.......... देर से आपको होली की बधाई दे रहा हूँ। इस हेतु क्षमा प्रार्थी हूँ। इंटरनेट से कुछ दिन दूर था। आपको यह होली प्रतिदिन होलीमय अनुभव कराए, ऐसी कामना है।

    उत्तर देंहटाएं
  32. शब्दों की जादूगरी भरमाये जा रही है.. बहुत ही प्यारी कविता ..जिससे हँसते-खेलते सब रंग ..

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव