रविवार, 27 जुलाई 2014

अक्सर ऐसा होता क्यूँ जब कविता लिखने को मन हो आये


अक्सर ऐसा होता क्यूँ जब कविता लिखने को मन हो आये
शुष्क जगत के व्यवहारों से रूठा मन रूमानी हो जाए
प्रीत किसी की लगे छीजने जी अकुलाने को हो आये
तब काव्य देवि के चरणों में ही जा मन कुछ राहत पाये

कैसे कैसे लोग यहाँ जो रीति प्रीति की समझ न पाये
हृदयी आग्रहों को त्यागे बस गुणा गणित हैं अपनाये
भावुकता का मोल नहीं यह बिना मोल की बिकती जाए
दुनियादारी का परचम ही हर दिशा में है अब फहराये

चाह किये अनचाहे की तो कविता ठौर कहाँ पर पाये
आद्र स्पंदनों से दुलरायें तो बंजर में अंकुर उग आये।
संवेदन हो मानव उसकी यही विरासत समझ में आये
पशुवत होता जा रहा आचरण मन को कितना अकुलाये

गीत संगीत की रुनझुन अब रास किसी को ना आये
निज स्वारथ का नशा चढ़ा हर मन को है भरमाये
प्राप्य नहीं था मनुज का यह तो राह वह नित भटका जाए
देख दशा यह कुल की अपने कविता लिखने को मन हो आये


22 टिप्‍पणियां:

  1. हम भी सब कुछ छोड़-छाड़कर, गीत आपका पढ़ने आए।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. संतोष जी ! आप भी कविता लिख सकते हैं । आपने अपनी टिप्पणी कविता में की है ।

      हटाएं
  2. कविता बहुत मन भायी है..खासकर यह पंक्ति- आद्र स्पंदनों से दुलरायें तो बंजर में अंकुर उग आये।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कविता में बह निकले मन के भाव..... सुन्दर भावाभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच है कविता ,चाहे वो किसी भी विधा में हो ,मन सहज कर देती है ......

    उत्तर देंहटाएं
  5. ब्लॉग बुलेटिन की आज रविवार’ २७ जुलाई २०१४ की बुलेटिन -- कहाँ खो गया सुकून– ब्लॉग बुलेटिन -- में आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  6. " प्रेम न खेती ऊपजै प्रेम न हाट बिकाय ।
    राजा परजा जेहि रुचै सीस देइ लै जाय ॥"
    कबीर

    उत्तर देंहटाएं
  7. दुनिया में जितने भी सुन्दर संगीत,शिल्प,काव्य है यह सभी अतृप्त दिल की अभिव्यक्तियाँ है
    ऊर्जा का सकारात्मक रूप है लेकिन इनमे खोज वही है आनंद पाने की ! सुन्दर रचना है !

    उत्तर देंहटाएं
  8. काव्य-शास्त्र-विनोदेन कालः गच्छति धीमताम् ।
    व्यसनेन तु मूर्खाणां निद्रया कलहेन वा ॥

    उत्तर देंहटाएं
  9. वियोगों होगा पहला कवि आह से उपजा होगा गान
    निकल कर अाँखों से चुपचाप बही होगी कविता अनजान

    उत्तर देंहटाएं
  10. आज कल तो पैसा ही भगवान है भाव भावना वाले लोग तो ...,,,.

    उत्तर देंहटाएं
  11. सच्चे भाव जगे हैं । कवि हृदय तो आप हैं ही। कविता लिखना मतलब अपने मन की भावनाओं को अकेले में गुनना। कविता के लिए जबरी तुकबंदी करना जरूरी नहीं है। अनावश्यक तुकबंदी से पाठक भाव को आत्मसात नहीं कर पाता।

    उत्तर देंहटाएं
  12. जब मन कभी सुखचैन हो , कभी बेचैन
    और बात बात मे कविता करने का मन करे ,
    तो समझो , हो गया है तुमको तो प्यार ----

    उत्तर देंहटाएं
  13. कविता मन से फूट पड़ती है बशर्ते मन संवेदनशील हो , अच्छा लगा यह प्रयास देख कर अरविन्द भाई , आखिर आपने झिझक तोड़ी तो सही ! गीतों और कविताओं का समय शीघ्र आएगा ! मानव की असंवेदनशीलता समाप्त करने की शक्ति सिर्फ कविता में निहित है ! इस काम करने के लिए कवियों को आना पड़ेगा !
    मंगलकामनाएं !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. कविता के माध्यम से मन के भाव ... बहुत ही सुन्दर और सामयिक गीत है ... गीत जो हर हालात में निकल आता है हर परिस्थिति को लिख देता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. देखती हूँ कि आजकल किसी ब्लॉग पर मेरी कोई टिपण्णी नहीं छपती। या तो गूगल जी कुछ खेल कर रहे हैं या बड्डे बड्डे बिलागर जन। दो तीन ब्लोगों पर यही देख रही हूँ कई दिन से।

    उत्तर देंहटाएं
  16. संवेदन हो मानव उसकी यही विरासत समझ में आये
    पशुवत होता जा रहा आचरण मन को कितना अकुलाये
    इसी अकुलाहट को कम करने यहाँ वहाँ कवितायें खोजते हैं कम से कम अपनी लिखी नही तो दूसरों की ही सही दुख सुख तो सब के एक जैसे ही होते हैं! सुन्दर कविता के लिये बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  17. मन के भाव कविता के माध्यम से... बहुत ही सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहद उम्दा रचना और बेहतरीन प्रस्तुति के लिए आपको बहुत बहुत बधाई...
    नयी पोस्ट@जब भी सोचूँ अच्छा सोचूँ

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव