सोमवार, 5 मार्च 2012

हे कवयित्री!


हे कवयित्री!

होली देहरी लाँघ चुकी है अब तो छेड़ो  नेह की  बातें   
घुट घुट जीवन क्या जीना अब तो  करो फाग की बातें 
बीता जो बीता, कल की कब की अब न बात करो 
जीवन जो शेष पड़ा है अब उसका तो श्रृंगार करो 
हे कवयित्री! 
सबका जीवन ऐसा ही है जहाँ सुख दुःख का रेला है 
कोई ऐसा भी है जिसने दुःख को कभी न झेला है ?
फिर नित क्यूं  रोना धोना ह्रदय शूल को दूर करो 
फागुन ने दी दस्तक है  बढ़  आगे बंदनवार धरो 
हे कवयित्री!
माना बेदर्दों ने तुमको दुःख पहुचाये हैं अनगिन पल छिन 
लेकिन देखो  कोई है जिसकी  है तुममे  दिन रात लगन 
त्याग युगों की यह सिसकन,उठ देख  द्वार है कौन आया 
अभिसार करो   हो  धन्य, हो जाए  पुलकित  मन  काया 
हे कवयित्री!  
 मंगलमय  होली पर आप सभी मित्रगण को रंगारंग शुभकामनाएं!

42 टिप्‍पणियां:

  1. वाकई सन्देश साफ़ है ....
    शुभकामनायें आपको !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. माना बेदर्दों ने तुमको दुःख पहुचाये हैं अनगिन पल छिन
    लेकिन देखो कोई है जो अब भी है तुममे दिन रात मगन
    दिन रात का यह क्यूं रोना धोना,उठ देख कोई जो द्वार पे आया
    होली पर मिलने को उत्सुक यह जो है उसका अभिसार करो
    BBahut usndar!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. कवयित्री के सन्देश का उत्तर आना तो आपकी किस्मत (और रणनीति) तय करेगी, हमारी ओर से होली की शुभकामनायें! - आपको भी, उनको भी और सभी पाठको, मित्रों, परिजनों को भी।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. होली का आना
    बना सुन्दर बहाना
    अरविन्द जी का कविता में
    हाथ आजमाना

    किसी कवयित्री को
    ऐसे मनाना
    जैसे बहन जी का
    कांग्रेस से गठबंधन
    बेनी प्रसाद वर्मा
    को लगता सुहाना।

    वाह वाह होली में
    कैसी ये बोली
    है कैसा जमाना?

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. @स्मार्ट जी,
    यह कैसी अनस्मार्ट बात कह दी है आपने ..कविता व्यष्टि नहीं समष्टि के लिए होती है -आप तो खुद कवि और कहानीकार भी है !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. शुक्रिया! हमारी ओर से होली की शुभकामनायें! - आपको भी, उनको भी और सभी पाठको, मित्रों, परिजनों को भी।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. हर बार कवयित्री ही क्यों? जीवन के थपेड़ों से लड़ते हर इन्सान को नव उत्साह की आवश्यकता है।

    प्रेरणादायक गीत!!
    होली की शुभकामनायें!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. बिखराया है आपने रंग सबके अनुमान में
    भला कौन बैठा रहे अपने सांवरे वितान में..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. हे कवयित्री !
    हम तो कल ही तीन तीन को एक साथ झेलकर आए हैं :)

    होली पर आपके इंतजार के लिए शुभकामनायें .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. सबका जीवन ऐसा ही है जहाँ सुख दुःख का रेला है
    कोई ऐसा भी है जिसने दुःख को कभी न झेला है ?.

    वाह ... जीवन का सत्य तो यही है ... तो फॉर दुःख को ले के काहे बैठे रहना ...
    होली की बहुत बहुत शुभकामनायें ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. होली की शुभकामनायें ....

    वैसे दर्द केवल कवयित्रि को ही नहीं कवि को भी होता है तभी कविता बनती है ...अब यह दर्द कैसा और कौन सा है वो अलग बात है :):)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।आप को होली की शुभकामनायें.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. महाराज...ऐसी रचना की अपेक्षा बहुत दिनों से थी.आखिर होलियाने मूड में आपने अपने मन की कह दी,वो भी कब तक चुप बैठेंगे......!

    होली में खूब मौज काटो...तन की भी,मन की भी !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. .
    .
    .
    हा हा हा हा,

    डायरेक्ट दिल से... ;)

    इस होली पर आपका मन और काया दोनों पुलकित हों, आखिर दिन रात की लगन का फल तो मिलेगा ही, मिलना भी चाहिये...

    शुभकामनायें !!!



    ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही प्यारी रचना है ,आप को होली की हार्दिक शुभकामनाएं

    नए ब्लॉग पर आप सादर आमंत्रित है

    स्वास्थ्य के राज़ रसोई में: आंवले की चटनी
    razrsoi.blogspot.com

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. सार्थक सन्देश ..
    अंदाज तो अलग ही है

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. :)
    शुभकामनायें आपको भी , आपके पाठकों को भी :)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  18. बढ़िया रचना प्रस्तुति .... होली की शुभकामना और बधाई ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. हे कवयित्री!
    माना बेदर्दों ने तुमको दुःख पहुचाये हैं अनगिन पल छिन
    लेकिन देखो कोई है जिसकी है तुममे दिन रात लगन
    त्याग युगों की यह सिसकन,उठ देख द्वार है कौन आया
    अभिसार करो हो धन्य, हो जाए पुलकित मन काया
    हे कवयित्री!
    सरे आम उकसाते हो अभिसार को ,

    रंग लगाने आये हो खुद 'फाग '

    बुरा न मानो होली है ,रंगों की बरजोरी है ,

    ब्लोगर बीच ठिठोली है ,

    'टल्ली' पूरी टोली है .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  20. अर्थपूर्ण.... हार्दिक शुभकामनायें होली की.....

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  21. सरे आम उकसाते हो अभिसार को ,

    रंग लगाने आये हो खुद 'फाग 'को .

    आपका ब्लॉग पे आना उत्साह बढ़ा जाता है -

    होली पे एक शैर आपके लिए -

    अगर तलाश करोगे ,कोई मिल ही जाएगा

    मगर वो 'आँखें 'हमारी कहाँ से लाएगा .

    होली मुबारक !

    हाँ कविता व्यष्टि का समष्टि में विसर्जन ही है ,विलोपन है ,फिर 'तू' कहाँ और 'मैं '

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  22. **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    *****************************************************************
    ♥ होली ऐसी खेलिए, प्रेम पाए विस्तार ! ♥
    ♥ मरुथल मन में बह उठे… मृदु शीतल जल-धार !! ♥



    आपको सपरिवार
    होली की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !
    - राजेन्द्र स्वर्णकार
    *****************************************************************
    ~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~^~
    **♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**♥**

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  23. फिर नित क्यूं रोना धोना ह्रदय शूल को दूर करो फागुन ने दी दस्तक है बढ़ आगे बंदनवार धरो....
    होली की हार्दिक शुभकामनाएँ !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  24. 'हे कवयित्री' के साथ 'हे कवि' (भी) क्यों नहीं- कोई तात्विक अंतर मुझे तो दिखाई नहीं देता?
    शुभ-कामनायें स्वीकारें !

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  25. itni achchi kavita padhkar to nishchit roop se kaviyatri ji khushi ke geet likhne lagengi :)

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  26. हज़ार साल नरगीश अपनी बे -नूरी पे रोती है ,

    तब कहीं पैदा होता है ,चमन में एक दीदावर .,

    उठो कवयित्री अवसाद छोड़ रसपान करो ,भोर की उजास का ,पुष्प गंधा जादू देखो .....

    अच्छी प्रस्तुति !

    मेसेज पढ़ लिया था ,मेल भी दियें हैं पुष्टि का .!

    शुक्रिया !बाखबर रखने का .चाहने वालों से .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  27. सशक्त संदेश
    बहुत खूबसूरत अंदाज़ में पेश की गई है पोस्ट...... शुभकामनायें।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  28. राजहंसों पर उम्दा जानकारी से भरी पोस्ट |इसी तरह आपके ज्ञान का पिटारा हम लोगों के लिए खुलता रहे |

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

  • This girl was born from three biological parents - Alana Saarinen is one of just a handful of people in the world who have DNA from three people, thanks to a new infertility treatment that could soon be a...
    17 घंटे पहले
  • नदी की तरह - *नदी की तरहबहते रहे तोसागर से मिलेंगे,थम कर रहे तोजलाशय बनेंगे,हो सकता है किआबो-हवा कालेकर साथ,खिले किसी दिनजलाशय में कमल,हो जा...
    5 वर्ष पहले
  • Terminator Salvations teaser trailer - http://www.youtube.com/watch?v=kXnELk6pZVk a2a_linkname="Terminator Salvations teaser trailer";a2a_linkurl="http://www.scifirama.com/index.php/2008/07/443/";
    6 वर्ष पहले

ब्लॉग आर्काइव