सोमवार, 13 फ़रवरी 2012

काश तुम मेरी वैलेंटाईन होती...!

तुम्हे पता है इन दिनों मैं कितना व्यस्त हूँ ..बावजूद इसके अपने प्रेम का इज़हार करने का कुछ समय चुरा ही लिया  -धरती के भूगोल के इस हिस्से में प्रेम के  नए महापर्व के पूर्व दिवस पर....यह पत्र  मैं गोपन भेज सकता था मगर न जाने क्यों यह मन हो आया कि इसे सार्वजनिक दृश्य पटल पर रखूँ ...प्यार कोई गुनाह नहीं फिर डरना भी क्यों ....कभी कभी ऐसा भी होता है जो बात अकेले में कहने में संकोच  होता है उसे सार्वजनिक करने में उतनी मशक्कत नहीं होती .... यह सहानुभूति और जन सहमतियाँ बटोरने का कारगर नुस्खा भी रहा है ...टंकी रोहण का धर्मेन्द्र का शोले दृश्य भला किसी को भूल सकता है .....

अब लोगों को शायद  गुमान हो या न भी हो मगर यह पत्र केवल तुम्हारे लिए है ......तुम कौन? कभी मैंने इसका उत्तर दिया था -तुम जो मात्र शरीर ही नहीं एक शाश्वत कामना हो .....अब उम्र के इस पड़ाव पर सहसा ही यह अहसास हो चला है कि प्यार केवल और केवल सूफियाना ही होता है ....और जो सूफियाना हो वही दरअसल सच्चा प्यार है ....देह की हिस्सेदारी तो महज कुदरत की चालबाजी है जो केवल अपनी लीला का विस्तार चाहती है और कितनों को ही बसंत के फसंत में फंसाती है -बड़ी ठगिनी है रे यह कुदरत......मगर इस देह फांस के बाद भी जो बच रहता है वही तो है न प्यार!  

मैंने सोचा कल पता नहीं हो या न हो यह इज़हार आज ही कर संतुष्ट हो लूं ....वैसे भी कल परसों यू पी के इलेक्शन में मरने की भी फुरसत नहीं रहेगी ...लोग कयास लगायेगें कि यह बासंती सन्देश किसके लिए है मगर तुम्हे तो किंचित भी डाउट नहीं होना चाहिए ...जानेमन यह तुम्हारे और केवल तुम्हारे लिए है ....मुझे उन लोगों की अस्मिता और स्टीरियो टाईप सोच पर तरस आता है जो प्यार के मनोभावों को महज इसलिए जगजाहिर नहीं करते कि आखिर लोग क्या कहेगें ..दुनिया क्या सोचेगी ..इमेज का क्या होगा ? उनसे केवल यही सवाल है कि प्यार में भला कौन सी भद्दगी है या गन्दगी छुपी है? और वैलेंटाईन दिवस से बेहतर कौन सा दिन हो सकता है ऐसी अभिव्यक्ति का -वैसे भी वैलेंटाईन दिवस और बसंत का आह्वान साथ होने में महज कोई संयोग नहीं दीखता ....हमारे कुछ साथी न जाने क्यों इस अवसर पर आक्रामक हो उठते हैं ..प्यार मनुहार पर आक्रोशित हो उठते हैं ....मुझे नहीं लगता कि मानवीयता और मानवता का इतना उत्कृष्ट प्रदर्शन कोई और होता हो ....कहीं  यह  कुछ दिशाहीन मित्रों की कोई अपनी ही संकीर्णता तो नहीं जो अवसर पर मुखरित हो उठती हो ? कहीं  वे प्यार के चिर प्रवंचित तो नहीं  ..सहानुभूति है उनसे ....मुझे लगता है उन्हें भी रेड रोजेज चाहिए ..ढेर सारे रेड रोजेज... काश वे प्यार के अहसास से लबरेज हो पाते....

मैंने अपने मन की बात कह दी है ..मुझे तुम्हारे जवाब की अधीरता से प्रतीक्षा रहेगी .यहीं या मेरे मेल पर .....
तुम्हे और मेरे सभी मित्रों और दुश्मनों को भी वैलेंटाईन दिवस की अनेक अशेष शुभकामनाएं! 

36 टिप्‍पणियां:

  1. कह न पाना ही कई बार कहा-सुनी का कारण बन जाता है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. काश, उन तक पहुँच जाता ये हमारा खत,
    इस दुनिया में फिर बचती न कोई हसरत !


    प्रेम एक दिन का पर्व नहीं है महाराज !फगुनाहट में अकुलाहट ज़्यादा बढ़ जाती है !

    उत्तर देंहटाएं
  3. महाराज,पहिला वाला खत तो हमरा ई गूगल बाबा ने दबा लिया है,मगर हम फिर से बरसेंगे !

    कोई तो खबर दे दो मेरे महबूब को,
    मैं उनको रोज़ अपने आईने में देखता हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  4. ये "काश" भी बड़ा जालिम शब्द है। वैसे ऐडवांस में इज़हार करना ही सुरक्षित है, ऐन मौके पर न जाने कितने रक़ीब/संस्कृति-रक्षक लट्ठ ले के दौड़ाने बैठे हों क्या पता। नागरिक सुरक्षा की ज़िम्मेदारी का हाल आप जानते ही हैं :(

    उत्तर देंहटाएं
  5. इस बार ऊतों ने अभी तक कोई गुल नहीं खिलाया :(
    सब ठीक-ठाक ही चलता लग रहा है

    उत्तर देंहटाएं
  6. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह!

    डार्क पंक्तियों को समर्पित...

    उसने भेजे थे हमे ढेर सारे रेड रोजेज
    पंखुड़ियाँ झड़ गईं बची काटों की सेज

    पौधे सजें गुलाब के दिल में तो बात बने
    कलम करूं बार बार उगें नए रेड रोजेज

    उत्तर देंहटाएं
  8. तुम्हे पता है इन दिनों मैं कितना व्यस्त हूँ.
    -------------
    क्या हो गया?

    उत्तर देंहटाएं
  9. यह अहसास हो चला है कि प्यार केवल और केवल सूफियाना ही होता है ....और जो सूफियाना हो वही दरअसल सच्चा प्यार है .

    आपका संदेश वेलंटाईन तक पहुंचे .... यही कामना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. कल 14/02/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही भावपूर्ण अभिव्यक्ति .... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  12. प्यार का इज़हार करने के लिए कोई उम्र --इस उम्र --नहीं होती । बहुत सुन्दर लगा यह अंदाज़ । आपका संदेश उन तक अवश्य पहुँच गया होगा ।
    लेकिन बाजु में सन्नी लिओन की तस्वीर देखकर झटका सा लगा । :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. " काश ! तुम मेरी वेलेंटाइन होती " की जगह " तुम मेरी वेलेंटाइन हो " ज्यादा प्रभावी होता..

    उत्तर देंहटाएं
  14. इश्क सच में सूफियाना ही होता है. प्रेम का सबसे सुन्दर रूप प्लेटोनिक ही है क्योंकि ये खुद में ही संतुष्ट रहता है. किसी तरह के प्रतिदान की अपेक्षा नहीं रहती, स्वार्थ नहीं होता.
    और अंत में...काश ये पत्र मेरे लिए होता ;)

    उत्तर देंहटाएं
  15. अब कम से कम कोई न कहने का आरोप तो नहीं लगा पायेगा।

    उत्तर देंहटाएं
  16. @आराधन,
    आपके अलावा किसी और के लिए हो ही नहीं सकता -लगता है आपने मेरा सम्मान सहसा ही इतना बढ़ा दिया जिस योग्य शायद मैं नहीं हूँ -प्यार शायद इसी को कहते हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  17. डॉ0 साहब के कमेंट को पढ़ कर मेरा नाम जोकर का एक गीत याद आ गया..

    ऐ भाय!
    जरा देख के चलो
    आगे ही नहीं पीछे भी
    दायें ही नहीं बायें भी
    आजु ही नहीं बाजु भी
    ऊपर ही नहींSSSS
    नीचे भी।

    उत्तर देंहटाएं
  18. प्रेम एक बड़ी शक्ति है परन्‍तु पवित्र प्रेम करने के लिए बहुत शक्ति चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  19. हार्दिक शुभकामनायें...... अब कह ही दिया है तो आगे भी सब अच्छा ही रहेगा ......

    उत्तर देंहटाएं
  20. लेकिन देह की हिस्सेदारी को छोडकर सूफ़ी बनने की लालसा अक्सर लोगों को लूफ़ी बना देती है। लूफ़ी बोले तो, Lustful Failed Sufi :)

    थोडा कहा ज्यादा समझना :)

    उत्तर देंहटाएं
  21. अब उम्र के इस पड़ाव पर सहसा ही यह अहसास हो चला है कि प्यार केवल और केवल सूफियाना ही होता है ....और जो सूफियाना हो वही दरअसल सच्चा प्यार है ....
    बहुत सुंदर पोस्ट है !

    उत्तर देंहटाएं
  22. प्रणय पाती प्रेषक और प्राप्तकर्ता युगल को शुभकामनायें ! वे जैसा चाहें अपने प्रेम का विस्तार करें :)

    उत्तर देंहटाएं
  23. जो सूफियाना हो वही दरअसल सच्चा प्यार है...
    ise kehte hain 'candid expression'..

    बहुत बढ़िया लिखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  24. that was really a creative way to convey the message :)
    hoping that the one for whom it was intended gets it !!!

    उत्तर देंहटाएं
  25. प्यार केवल सुफियाना ही हो सकता है , यही सत्य है !
    खूबसूरत अभिव्यक्ति !

    उत्तर देंहटाएं
  26. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  27. .
    .
    .
    पत्र तो बहुत्तै झक्कास है पर क्या कहें, तारीफ करते हुऐ भी एक झिझक सी होती है... वो क्या है कि कहीं आप अभी तक वही भ्रम न पाले बैठे हों... ;)



    ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. ऐसे अवसरों पर दिशाहीन और नेत्रहीन मित्रों से चौकन्ना रहना चाहिए:)

    उत्तर देंहटाएं
  29. प्यार किया तो डरना क्या ....

    उत्तर देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव