बुधवार, 28 अक्तूबर 2009

आज बच्चन जी की एक और कविता -तब रोक न पाया मैं आँसू !

तब रोक न पाया मैं आंसू !
जिसके पीछे पागल होकर
मैं दौड़ा  अपने जीवन भर ,
अब मृगजल में परिवर्तित हो मुझपर मेरा अरमान हंसा
तब रोक न पाया मैं आंसू !

जिसमें अपने प्राणों को भर
कर देना चाहा अजर अमर ,
जब विस्मृति के पीछे छिपकर मुझ पर मेरा वह गान हंसा
तब रोक न पाया मैं आँसू 

मेरे पूजन -आराधन को
मेरे सम्पूर्ण समर्पण को
जब मेरी कमजोरी कह कर मेरा पूजित पाषाण हंसा
तब रोक न पाया मैं आँसू
प्रतिनिधि कवितायें -हरिवंश राय बच्चन 
राजकमल पेपर बैक्स प्रकाशन 

25 टिप्‍पणियां:

  1. मिश्रा जी इतनी सुन्दर कविता पढ्वाने के लिये धन्यवाद । कितनी सही और सुन्दर अभिव्यक्ति है
    मेरे पूजन -आराधन को
    मेरे सम्पूर्ण समर्पण को
    जब मेरी कमजोरी कह कर मेरा पूजित पाषाण हंसा
    शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  2. जिसमें अपने प्राणों को भर

    कर देना चाहा अजर अमर ,

    जब विस्मृति के पीछे छिपकर मुझ पर मेरा वह गान हंसा

    तब रोक न पाया मैं आँसू

    " बच्चन जी की इस बेहद भावुक कविता की प्रस्तुति पर आभार....मुझे बेहद पसंद है.."
    regards

    जवाब देंहटाएं
  3. bachchan ji ki kavita share karne ke liye aapka bahut aabhaari hoon.........

    kavita bahut achchi lagi....

    जवाब देंहटाएं
  4. "जब मेरी कमजोरी कह कर मेरा पूजित पाषाण हंसा" हमभी चिंताग्रस्त हो रहे हैं.
    इस कविता को उद्धृत करने के लिए आभार.

    जवाब देंहटाएं
  5. Bachchan ji kee kavita ..ati sarthak,shabdon kee sundarta liye ..arthpoorn hoti hain...

    English kee vidwaan hote huve bhee hindi main unka maharath...kabile tareef hai..

    naman hai un mahaan kavi ko !!
    Thanx for sharing Arvind ji !

    जवाब देंहटाएं
  6. मेरे पूजन -आराधन को
    मेरे सम्पूर्ण समर्पण को
    जब मेरी कमजोरी कह कर मेरा पूजित पाषाण हंसा ।

    बहुत ही भावपूर्ण प्रस्‍तुति, जिसके लिये आपका आभार

    जवाब देंहटाएं
  7. अक्सर जब वो होता है जो मन नहीं चाहता ........ या जिसके साथ अपना सब कुछ जोड़ा होता है वो ही साथ नहीं देता तो आंसू बरबस निकल ही आते हैं ............ मन को भिगोती हुयी रचना ..........

    जवाब देंहटाएं
  8. लोक की बोली में लिखी बच्चन साहब की यह कविता जगत की सच्चाई का बयाँ करती है |

    कविता की शक्ति यही है | आत्म-समीक्षा कराती है |

    आभार...

    जवाब देंहटाएं
  9. मेरे पूजन -आराधन को
    मेरे सम्पूर्ण समर्पण को
    जब मेरी कमजोरी कह कर मेरा पूजित पाषाण हंसा
    तब रोक न पाया मैं आँसू
    जब समर्पित प्रेम को कमजोरी कहा जाये तो
    ऐसे में कौन रोक पायेगा अपने आंसू ...
    इतनी सुन्दर कविता चुनने के लिए बहुत आभार ...

    जवाब देंहटाएं
  10. Kotishah aabhaar aapka is apratim kavita ko padhwane ke liye....

    जवाब देंहटाएं
  11. अच्छा है जी, मरीचिका समझ तो गये अंतत। हम तो अभी भी विभ्रम में हैं!

    जवाब देंहटाएं
  12. जिंदगी की सच्चाई को बखूबी बयां किया गया है।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    जवाब देंहटाएं
  13. बेहद सुंदर कविता प्रस्तुत की आपने..बहुत बहुत धन्यवाद!!

    जवाब देंहटाएं
  14. कभी आप भावुक मन लिए बैठे हों और आँसू बहाना ढूंढ रहे हों तब ऐसे में यह कविता उसको राह दिखा देती है। बेहद ही सशक्‍त रचना। आपको बधाई यहाँ पढवाने के लिए।

    जवाब देंहटाएं
  15. बच्चन जी को पढ़वाने के लिए शुक्रिया !

    जवाब देंहटाएं
  16. शुक्रिया इस खूबसूरत कविता को यहाँ पढ़वाने के लिए

    जवाब देंहटाएं
  17. अंतिम पंक्ति सच नहीं.....ऐसा नही हो सकता ............

    जवाब देंहटाएं
  18. शाम को दूरदर्शन पर आप के द्वारा मत्य पालन के बारे में दी गयी जानकारी सुना .............मत्य पालन के बारे में कुछ नही जानता हूँ ......"मछलिया" कहानी पढी है .....!

    जवाब देंहटाएं
  19. शाम को दूरदर्शन पर आप के द्वारा मत्य पालन के बारे में दी गयी जानकारी सुना .............मत्य पालन के बारे में कुछ नही जानता हूँ ......"मछलिया" कहानी पढी है .....!

    जवाब देंहटाएं
  20. बहुत पहले पढ़ी थी ये कविता...

    चलिये, इसी बहाने मिश्र जी के मूड में बदलाव तो आया।

    जवाब देंहटाएं
  21. बहुत ख़ूबसूरत और उम्दा रचना लिखा है बच्चन जी ने ! उनकी लेखनी को सलाम!

    जवाब देंहटाएं
  22. 'मृगजल' शब्द की ब्याख्या दें। कस्तूरी की तुलना में अर्थगुरु लगता है क्या ?

    जवाब देंहटाएं
  23. भावपूर्ण कविता.
    आभार पढ़वाने हेतु.

    जवाब देंहटाएं
  24. बच्चन की कविताओं का आकर्षण दुर्निवार है - हटता ही नहीं/घटता ही नहीं ।

    ’मृगजल’ के उपयोग से अर्थ में गुरुता तो आ ही गयी है । अरमान मृगजल हो गये हैं-मरीचिका-से । हैलुसिनेसन्स लाफ्टर (Hallucination's laughter) - अजीब है न !

    कविता का आभार ।

    जवाब देंहटाएं

यदि आपको लगता है कि आपको इस पोस्ट पर कुछ कहना है तो बहुमूल्य विचारों से अवश्य अवगत कराएं-आपकी प्रतिक्रिया का सदैव स्वागत है !

मेरी ब्लॉग सूची

ब्लॉग आर्काइव